बर्थडे स्पेशल: अपने अंतिम समय में बिल्कुल अकेली थी विद्या सिन्हा, इसी साल हुआ निधन

Views : 3851  |  0 minutes read

भारतीय फिल्म अभिनेत्री विद्या सिन्हा की 15 नवंबर को 73वीं जयंती है। विद्या सिन्हा का जन्म 15 नवंबर 1947 को मुंबई में हुआ था। हिंदी सिनेमा में विद्या ने कई बेहतरीन फिल्में दी। वे अपने जमाने की लोकप्रिय अभिनेत्रियों में से एक थी। विद्या ने ना सिर्फ सिने पर्दे पर अभिनय का कौशल दिखाया बल्कि उन्होंने छोटे पर्दे पर भी कई धारावाहिकों में अभिनय किया। हिंदी सिनेमा ने इसी साल 15 अगस्त को एक बेहतरीन अभिनेत्री को खो दिया। दिल और फेफड़ों से संबंधित बीमारी के कारण विद्या का इसी साल मुंबई के क्रिटिकेयर अस्पताल में निधन हो गया था। आज वे भले ही हमारे साथ नहीं है मगर सिने पर्दे पर उनकी दिलकश अदायगी से वे हमेशा याद की जाएंगी।

18 साल की उम्र में एक्टिंग की शुरू

विद्या का जन्म 15 नवंबर 1947 को मुंबई में हुआ था। उनके परिवार में उनके पिता राणा प्रताप सिंह एक फिल्म प्रोड्यूसर थे। दादा मोहन सिन्हा भी प्रोड्यूसर और डायरेक्टर थे। विद्या ने महज 18 साल की उम्र में ही एक्टिंग की दुनिया में कदम रख लिया था।

‘रजनीगंधा’ ने बदल दी थी जिंदगी

विद्या ने बॉलीवुड की कई फिल्मों में काम किया हैं। जिनमें ‘पति पत्नी और वो’, ‘छोटी सी बात’, ‘रजनीगंधा’, ‘सफेद झूठ’, ‘मुक्ति’, ‘तुम्हारे लिए’, ‘इनकार’, ‘स्वयंवर’, ‘मगरूर’ जैसी फिल्में शामिल हैं। अपनी दमदार एक्टिंग के कारण विद्या बेहद कम समय में ही लोगों का दिल जीतने में कामयाब रहीं। उनकी पहली फिल्म ‘राजा काका’ थी। उनके एक्टिंग करियर में 1974 में आई फिल्म ‘रजनीगंधा’ मील का पत्थर साबित हुई। इस फिल्म में बतौर हिरो अमोल पालेकर थे। इस फिल्म से विद्या ने फिल्म इंडस्ट्री में अच्छी खासी पैठ बना ली थी। अपने फिल्मी कॅरियर में विद्या ने करीब 30 फिल्मों में काम किया। कुछ समय से वे छोटे पर्दे पर सक्रीय थीं। विद्या ना सिर्फ अपनी फिल्मों को लेकर बल्कि निजी जिंदगी को लेकर भी सुर्खियों में रहीं।

दो शादी की फिर भी रहीं अकेली

शोहरत की बुलंदियों को छूने के बावजूद विद्या की पर्सनल जिंदगी हमेशा डिस्टर्ब रही। विद्या ने दो शादियां की थी। फिल्मों में काम करने के दौरान विद्या वेंकटेश्वर अय्यर को दिल दे बैठी। दोनों ने साल 1968 में बिना देरी किए अपने रिश्ते को शादी में बदलने का फैसला किया। 1989 में विद्या ने एक लड़की को भी गोद लिया जिसका नाम जाह्नवी रखा। लंबी बीमारी के कारण अय्यर की साल 1996 में मौत हो गई थी। साल 2001 में विद्या ने ऑस्ट्रेलियन डॉक्टर नेताजी भीम राव सालुंके से शादी की। मगर उनकी यह शादी लंबे समय तक नहीं टिक पाई। विद्या ने अपने दूसरे पति नेताजी भीमराव के खिलाफ 9 जनवरी 2009 को शारीरिक और मानसिक उत्पीड़न का आरोप लगाया था। जिसके बाद दोनों का तलाक हो गया था।

COMMENT