घर पर भी मास्क लगाकर रहने का समय, हवा में फैल चुका है वायरस: सरकार

Views : 692  |  3 minutes read
corona-virus-in-the-air

भारत में कोरोना महामारी के संक्रमण के रिकॉर्ड मामले सामने आ रहे हैं। महामारी की देश में दूसरी लहर के बीच हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं। इसी बीच केंद्र सरकार ने एक ओर जहां लोगों से कोरोना महामारी से नहीं घबराने की अपील करते हुए कहा है कि वह चिकित्सीय ऑक्सीजन की आपूर्ति संबंधी दिक्कतों को दूर करने का प्रयास कर रही है। वहीं, दूसरी ओर सरकार ने यह भी कहा है कि अब ऐसा समय आ गया है कि लोगों को घर के भीतर भी मास्क पहनकर रहना चाहिए और मेहमानों को अपने घरों में आमंत्रित नहीं करना चाहिए। नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने सोमवार को हुई मीडिया कॉन्फ्रेंस में कहा कि यह समय किसी को घर पर आमंत्रण देने का नहीं है, बल्कि घर पर ठहरने और घर पर भी मास्क लगाकर रहने का है।

सशस्त्र बलों के सेवानिवृत्त चिकित्सा कर्मियों होंगे तैनात

आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने एक ही दिन में रिकॉर्ड 3,52,991 नए कोविड-19 मामले सामने आने और संक्रमण से 2,812 मरीजों की मौत के बीच सशस्त्र बलों के सेवानिवृत्त चिकित्सा कर्मियों को कोरोना अस्पतालों में तैनात करने की घोषणा की है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि इस समय देश में 82 फीसदी लोग कोरोना से उबर चुके हैं और करीब 16.25 फीसदी मामले मामले यानि कि 28,13,658 कोविड मामले अभी भी सक्रिय मामलों की श्रेणी में है, जिसकी निगरानी की जा रही है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जानकारी देते हुए बताया कि महाराष्ट्र, यूपी, कर्नाटक, केरल, राजस्थान, तमिलनाडु, गुजरात और छत्तीसगढ़ में फिलहाल कोरोना के एक लाख से अधिक मामले सक्रिय हैं, लेकिन यहां भी धीरे-धीरे सुधार देखने को मिल रहा है। वहीं, नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने कहा है कि कोविड महामारी के चलते हुए भी हमें टीकाकरण और तेज गति से आगे लेकर जाना होगा। हम टीकाकरण की गति को धीमा होने नहीं दे सकते हैं।

मेडिकल ऑक्सीजन का उत्पादन ज्यादा बढ़ा है: गृह मंत्रालय

केंद्रीय गृह मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव पीयूष गोयल ने कहा कि देश में कोरोना की दूसरी लहर से उपजे हालातों के बीच मेडिकल ऑक्सीजन का उत्पादन ज्यादा बढ़ा है। हमारी ऑक्सीजन उत्पादन क्षमता 7259 टन है और 24 अप्रैल को रिकॉर्ड 9103 टन ऑक्सीजन का उत्पादन हुआ है।

Read More: कोरोना टीका के लिए 18 से 44 साल की उम्र के लोगों का पंजीकरण करवाना अनिवार्य

COMMENT