वंदे भारत मिशन के तहत अब तक छह हजार से ज्यादा भारतीयों को वापस लाया गया

Views : 2795  |  3 minutes read
Vande-Bharat-Mission

कोरोना वायरस महामारी के कारण दुनिया के ज्यादातर देशों में लॉकडाउन लागू किया गया है। इसी बीच दुनिया के कई देशों में फंसे भारतीयों को देश वापस लाने के लिए केंद्र सरकार प्रयासरत है। केंद्र सरकार द्वारा शुरू किए गए ‘वंदे भारत मिशन’ के तहत अभी तक कुल 31 उड़ानों के जरिए 6037 भारतीयों को वापस स्वदेश लाया जा चुका है। केंद्र के अधीन नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने बताया कि सात मई 2020 से शुरू हुए मिशन के पहले चरण के तहत अब तक 31 उड़ानों के जरिए 6037 भारतीय नागरिकों को देश वापस लाया जा चुका है। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार की पहले चरण में कुल 14,800 भारतीयों को वापस लाने की योजना है।

12 देशों से 64 उड़ानों का होगा परिचालन

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वंदे भारत मिशन के तहत एयर इंडिया और उसकी सहायक एयर इंडिया एक्सप्रेस 12 देशों से 64 उड़ानों का परिचालन कर रही है। इनमें 42 उड़ानों का परिचालन एयर इंडिया और 24 उड़ानों का परिचालन एयर इंडिया एक्सप्रेस कर रही है। ख़ास बात यह है कि इन 12 देशों में अमेरिका, लंदन, बांग्लादेश, सिंगापुर, कुवैत, फिलीपींस, सऊदी अरब, यूएई और मलेशिया जैसे देश शामिल हैं।

ऑपरेशन समुद्र सेतु से देश वापस आए 202 भारतीय

वहीं, हवाई उड़ानों के अलावा ‘ऑपरेशन समुद्र सेतु’ के तहत भारतीय नौसेना के पोत ‘आईएनएस मगर’ से 202 भारतीय नागरिकों को मालदीव से भारत वापस लाया गया है। ताज़ा जानकारी के अनुसार, आईएनएस मगर केरल के कोच्चि हार्बर पर प्रवेश कर चुका है। आईएनएस मगर शाम 5.45 बजे कोच्चि पोर्ट पर पहुंचा। इससे आए नागरिकों में 91 केरल के, 83 तमिलनाडु के और 28 नागरिक अन्य पंद्रह राज्यों से हैं।

Read More: ट्रेन यात्रा के लिए गाइडलाइन्स जारी, टिकट की ऐप व वेबसाइट से ऐसे करें बुकिंग

गौरतलब है कि आईएनएस मगर को ऑपरेशन समुद्र सेतु के दूसरे चरण में तैनात किया गया है। पहले चरण में आईएनएस जलश्व से 10 मई को 698 भारतीय नागरिकों को मालदीव से वापस भारत लाया गया था। वहीं, एक रक्षा अधिकारी ने बताया कि 15 मई को आईएनएस जलश्व 700 लोगों को मालदीव से लेकर आएगा। केंद्र सरकार इस महामारी के बीच विदेशों में फंसे भारतीयों को वापस देश में लाने के लिए लगातार काम कर रही है।

COMMENT