पीएम मोदी ने नववर्ष पर छह राज्यों में रखी लाइट हाउस प्रोजेक्ट की नींव

Views : 1031  |  3 minutes read
Light-House-Projects-Lays-Foundation

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नये साल के अवसर पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ग्लोबल हाउसिंग टेक्नोलॉजी चैलेंज इंडिया यानि जीएचटीसी इंडिया के तहत देश के छह राज्यों में लाइट हाउस प्रोजेक्ट की आधारशिला रखी। माना जा रहा है कि पीएम मोदी के ये कार्यक्रम शहरी भारत की रूप रेखा बदलने की दिशा में अहम कदम साबित होंगे। इस समारोह में आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी समेत त्रिपुरा, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री भी उपस्थित रहे।

अब देश का फोकस गरीब और मध्यम वर्ग की जरूरतों पर

पीएम मोदी ने कहा कि शहर में रहने वाले गरीब हों या मध्यम वर्ग, इन सबका सबसे बड़ा सपना होता है, अपना घर। वो घर जिसमें उनकी खुशियां, सुख-दुख, बच्चों की परवरिश जुड़ी होती हैं। लेकिन बीते वर्षों में लोगों का अपने घर को लेकर भरोसा टूटता जा रहा था। उन्होंने कहा कि अब देश का फोकस गरीब और मध्यम वर्ग की जरूरतों पर है। अब देश ने शहर में रहने वाले लोगों की संवेदनाओं और भावनाओं को प्राथमिकता दी है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले घर का सपना पूरा नहीं होने का एक कारण बैंक की ऊंची ब्याज दर, कर्ज मिलने में होने वाली दिक्कतें भी था। उन्होंने कहा कि घरों की कीमतें इतनी ज्यादा हो गईं थी कि अपने घर का भरोसा टूटने लगा था। एक वजह ये थी कि कानून हमारा साथ देगा या नहीं, हाउसिंग सेक्टर की ये स्थिति थी कि लोगों को शंका थी कि गड़बड़ हो जाने की स्थिति में कानून उनका साथ नहीं देगा।

स्टार्टअप्स को प्रमोट करने के लिए ‘आशा इंडिया प्रोग्राम’ चलाया जाएगा

पीएम मोदी ने कहा कि देश में ही आधुनिक हाउसिंग तकनीक से जुड़ी रिसर्च और स्टार्टअप्स को प्रमोट करने के लिए आशा इंडिया प्रोग्राम चलाया जा रहा है। इसके माध्यम से भारत में ही 21वीं सदी के घरों के निर्माण की नई और सस्ती तकनीक विकसित की जाएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ये प्रोजेक्ट आधुनिक तकनीक और इनोवेटिव प्रोसेस से बनेंगे। इसमें कंस्ट्रक्शन का समय कम होगा और गरीबों के लिए ज्यादा अर्फोडेबल और कम्फर्टेबल घर तैयार होंगे।

Read More: कोरोना की वजह से बंद राष्ट्रपति भवन संग्रहालय 5 जनवरी से फिर खुलेगा

COMMENT