पाकिस्तान को अफगानिस्तान की सीमा तय करने का कोई अधिकार नहीं: तालिबान

Views : 605  |  3 minutes read
Durand-Line-Fencing

अफगानिस्तान की पाकिस्तान से लगती सीमा को लेकर तालिबान और पाकिस्तान के बीच विवाद लगातार बढ़ता देखा जा रहा है। दरअसल, इमरान सरकार ने हाल ही में अफगान तालिबान से अपनी दोस्ती पर भरोसा करते हुए डूरंड लाइन पर कंटीले तार लगाने शुरू कर दिए थे। हालांकि, इस पर नाराज तालिबान के लड़ाकों ने सीमा पर पहुंचकर सारे तार उखाड़ फेंक दिए। अब इस मामले को लेकर अफगानिस्तान के रक्षा मंत्रालय की तरफ से एक बयान सामने आया है। इसमें कहा गया है कि पाकिस्तान को अफगानिस्तान की सीमा तय करने का कोई अधिकार नहीं है, इसलिए वह डूरंड लाइन पर कंटीले तार नहीं लगा सकता। इमरान सरकार सीमा तय नहीं कर सकती।

तार लगाकर जनजातीयों को बांटने की कोशिश न करें

अफगानिस्तान के रक्षा मंत्रालय ने अपने बयान में चेतावनी देते हुए कहा है कि पाकिस्तान को डूरंड लाइन में तार लगाकर जनजातीयों को दोनों तरफ बांटने की कोशिश बिल्कुल भी नहीं करनी चाहिए। उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच डूरंड लाइन को लेकर लंबे समय से विवाद है। इस लाइन के दोनों तरफ पश्तून समुदाय की बड़ी आबादी है। अफगानिस्तान का कहना है कि पश्तून समुदाय पारंपरिक तौर पर अफगान मूल के हैं और वे जहां तक रहते हैं, वह क्षेत्र हमारा यानि अफगानिस्तान का है। पाकिस्तान को इस पर फैसले का कोई अधिकार नहीं है।

पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा तय कराने की कोशिश कर रहा

आपको बता दें कि यही एक वजह है कि तालिबान अंग्रेजों की तरफ से तय की गई डूरंड लाइन को नहीं मानता, जिसे पाकिस्तान अपने और अफगानिस्तान के बीच की अंतरराष्ट्रीय सीमा तय कराने की कोशिश में है। पिछले दिनों में तालिबान ने पाकिस्तान को कई मोर्चों पर करारा झटका दिया है। डूरंड रेखा विवाद ऐसा ही एक मुद्दा है, जिस पर अफगान तालिबान ने इमरान सरकार को घेरते हुए सीधे तौर पर चेतावनी देना भी शुरू कर दिया है। मालूम हो कि अफगानिस्तान की किसी भी सरकार और इससे पूर्व में किसी भी शासक ने पाकिस्तान के उक्त क्षेत्र पर दावे और डूरंड लाइन को नहीं माना।

आत्मनिर्भर भारत: रक्षा मंत्रालय ने अब 351 रक्षा उपकरणों के आयात पर लगाया प्रतिबंध

COMMENT