जयंती: सातों समुद्र तैरकर पार करने वाले दुनिया के पहले व्यक्ति थे मिहिर सेन

Views : 6456  |  4 minutes read
Mihir-Sen-Biography

मिहिर सेन भारत के ही नहीं बल्कि एशिया के पहले ऐसे तैराक थे, जिन्होंने वर्ष 1958 में इंग्लिश चैनल तैरकर पार किया था। मिहिर की 16 नवंबर को 90वीं जयंती है। यही नहीं उन्होंने ‘साल्ट वाटर’ तैराकी में 5 महत्त्वपूर्ण रिकॉर्ड बनाए थे। एक दिलचस्प बात ये है कि मिहिर कलकत्ता हाईकोर्ट में वकील थे, लेकिन उन्हें लोग एक रिकॉर्डधारी तैराक के रूप में भी जानते हैं।

मिहिर सेन का जीवन परिचय

मिहिर सेन का जन्म 16 नवम्बर, 1930 को पश्चिम बंगाल के पुरुलिया में हुआ था। उनके पिता डॉ. रमेश सेन गुप्ता कटक में बतौर चिकित्सक नौकरी करते थे और उनकी माता का नाम लीलावती था। उनकी मां के प्रयासों के कारण ही वह आठ वर्ष की अवस्था में कटक के बेहतर स्कूल में पढ़ पाए थे। मिहिर ने अपनी कानून में स्नातक की डिग्री ओडिशा के भुवनेश्वर स्थित उत्कल विश्वविद्यालय से पूरी की थी। वह वकालत के लिए इंग्लैंड जाना चाहते थे, लेकिन आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी। लेकिन, राज्य सरकार के सहयोग से उन्होंने इंग्लैंड जाकर आगे की पढ़ाई पूरी की।

इंग्लिश चैनल पार करने वाले पहले एशियाई

मिहिर सेन जब इंग्लैंड से वकालत कर रहे थे, उस दौरान उन्होंने एक महिला तैराक के बारे में पढ़ा जिसने इंग्लिश चैनल तैरकर पार किया था। वह उस महिला से इतना प्रभावित हुए कि उन्होंने भी कुछ ऐसा ही करने की ठान लिया। उन्होंने शुरूआत में इंग्लिश चैनल को तैरकर पार करने के कुछ असफल प्रयास भी किए। आखिरकार उन्होंने 27 सितम्बर, 1958 को इंग्लिश चैनल तैरकर पार करने में सफलता पाई। वह ऐसा करने वाले पहले भारतीय बने थे, इसके साथ ही पहले एशियाई भी।

मिहिर ने डोवर से कलाइस तक इंग्लिश चैनल को पार करने में 14 घंटे 45 मिनट का समय लिया। इसके बाद मिहिर सेन ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और नए कीर्तिमान रचने के लिए आगे निकल पड़े। मिहिर का अपना अगला लक्ष्य श्रीलंका के तलाईमन्नार से भारत के धनुष्कोटी तक तैराकी करने का रखा। अपने इस लक्ष्य में भी वे पीछे नहीं हटे और इसे 25 घंटे 44 मिनट में पूरा कर लिया। गौर करने वाली बात ये है कि जहां से मिहिर सेन ने तैराकी शुरू की, वहां पाल्क स्ट्रेट में अनेक जहरीले सांपों और शार्क की मौजूदगी थी। हालांकि, इस दौरान भारतीय नौसेना ने उनकी सहायता की।

जिब्राल्टर को तैरकर पार करने वाले प्रथम एशियाई

इसके बाद मिहिर ने 24 अगस्त, 1966 को एक और नया रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज करवाया, जिसमें उन्होंने 8 घंटे 1 मिनट में जिब्राल्टर डार-ई-डेनियल को तैरकर पार किया। यह चैनल स्पेन और मोरक्को के बीच स्थित है। ख़ास बात ये है कि जिब्राल्टर को तैरकर पार करने वाले मिहिर सेन पहले एशियाई थे। उन्होंने 12 सितंबर, 1966 को डारडेनेल्स को तैरकर पार किया। इसे पार करने वाले वह विश्व के पहले व्यक्ति थे।

पनामा नहर को भी तैरकर किया था पार

मिहिर सेन ने तैराकी में एक और रिकॉर्ड पनामा नहर को तैरकर पार करते हुए बनाया, जिसे उन्होंने 29 अक्टूबर, 1966 को शुरू किया। इस नहर को उन्होंने लंबाई में पार किया था, जिस कारण उन्होंने इसे दो स्टेज में पार किया। मिहिर ने 29 अक्टूबर को पनामा की तैराकी शुरू की और 31 अक्टूबर को इसे पूरा किया। पनामा नहर को पार करने में उन्होंने कुल 34 घंटे 15 मिनट का समय लिया था।

सातों समुद्र पार करने वाले पहले शख़्स

मिहिर ने कुल मिलाकर 600 किलोमीटर की समुद्री तैराकी की। उन्होंने एक ही कलेण्डर वर्ष में 6 मील लम्बी दूरी की तैराकी करके नया कीर्तिमान स्थापित किया था। वह दुनिया के पहले ऐसे व्यक्ति हैं, जिन्होंने पांच महाद्वीपों के सातों समुद्रों को तैरकर पार किया था। उनके नाम गिनीज बुक में कई विश्व रिकॉर्ड भी दर्ज हैं।

मिहिर को तैराकी की दुनिया में उनकी उपलब्धियों के लिए भारत सरकार द्वारा वर्ष 1959 में ‘पद्‌मश्री’ पुरस्कार प्रदान किया गया और वर्ष 1967 में ‘पद्‌मभूषण’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। मिहिर एक अतुलनीय तैराक थे, जिन्होंने अपनी हिम्मत और मेहनत के दम पर इतनी बड़ी तैराकी का जोखिम उठाया था। वह ‘एक्सप्लोरर्स क्लब ऑफ इंडिया’ के अध्यक्ष थे।

Read More: सबसे कम उम्र में ‘पद्मश्री’ सम्मान पाने का रिकॉर्ड है टेनिस सुंदरी सानिया मिर्ज़ा के नाम

मिहिर सेन का निधन

विश्व प्रसिद्ध महान भारतीय तैराक मिहिर सेन को जीवन के अंतिम दिनों में अल्ज़ाइमर बीमारी हो जाने के कारण वह अपनी याद्‌दाश्त खो बैठे थे। इस कारण उनके अंतिम दिन बड़े कष्टपूर्ण बीते और इस महान तैराक का 11 जून, 1997 को कोलकाता में 67 वर्ष की आयु में निधन हो गया।

COMMENT