कन्हैयालाल सेठिया: राजस्थानी भाषा को राजस्थान की मातृभाषा बनाने के पक्ष में किया था समर्थन

4 Minute's read

राजस्थान के प्रसिद्ध कवि और स्वतंत्रता सेनानी कन्हैयालाल सेठिया की आज 11 सितंबर का जन्मशताब्दी हैं। वह राजस्थानी और हिंदी के प्रसिद्ध कवि थे। उनकी सर्वाधिक प्रसिद्ध काव्य रचना ‘पाथल-पीथल’ है। उन्होंने राजस्थान में सामंतवाद के खिलाफ आंदोलन किया और पिछड़े वर्ग को समाज की मुख्य धारा में लाने में उनका महत्वपूर्ण योगदान है। वह राजस्थानी भाषा को राजस्थान की मातृभाषा बनाने के समर्थक थे। वह स्वतंत्रता सेनानी, सामाजिक कार्यकर्ता, सुधारक, परोपकारी और पर्यावरणविद् थे।

जीवन परिचय

कन्हैयालाल सेठिया का जन्म 11 सितम्बर, 1919 को राजस्थान के चुरू जिले के सुजानगढ़ नामक स्थान पर हुआ था। उनके पिता का नाम छगनमल था और माता मनोहरी देवी थी। कन्हैयालाल की आरंभिक शिक्षा कलकत्ता में हुई। उनमें बचपन से ही देशप्रेम कूट—कूट कर भरा होने के कारण पढ़ाई के दौरान ही स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लिया जिससे उनकी शिक्षा बाधित भी हुई। बाद में उन्होंने राजस्थान विश्वविद्यालय से दर्शनशास्त्र, राजनीति और साहित्य में स्नातक की उपाधि हासिल की।

वर्ष 1937 में कन्हैयालाल सेठिया की शादी धापू देवी से हुई। इनके दो बेटे— जयप्रकाश तथा विनयप्रकाश और एक बेटी सम्पत देवी दूगड़ हैं।

साहित्य और समाज सेवा में योगदान

वर्ष 1941 में उनका छायावादी भावनाओं पर आधारित एक काव्य संग्रह ‘वनफूल’ प्रकाशित हुआ। लेकिन देश की आजादी की छटपटाहट की झलक सेठिया के काव्य संग्रह ‘अग्निवीणा’ के गीतों में दिखाई देती है। इसका एक—एक पद शौर्य भावनाएं जगाने वाला था। यह वर्ष 1942 में प्रकाशित हुआ। इस पर सरकार ने प्रतिबंध लगा दिया। साथ ही उन पर बीकानेर राज्य ने राजद्रोह का मुकदमा चलाया था। वह प्रजा परिषद के सदस्य बने, जो राजस्थान में सामंतशाही शासन का विरोध कर रही थी, वहीं दूसरी ओर वह आजादी की लड़ाई भी लड़ रही थी।

उन्होंने जमींदारी प्रथा के उन्मूलन और किसानों पर जमींदारों—जागीरदारों की ओर से किए जा रहे अत्याचारों का भी विरोध किया। उन्होंने सुजानगढ़ में शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किए। उनके प्रयासों से अनेक युवा क्रांतिकारी बन गए।

वर्ष 1934 में उनकी मुलाकात महात्मा गांधी से हुई और सेठिया हरिजन सेवा एवं उत्थान के लिए कार्य करने लग गए। उन्होंने हरिजन बालकों की शिक्षा के लिए एक स्कूल की स्थापना की। इस पर लोगों ने विरोध किया पर वह अपनी धुन के पक्के थे।

उन्होंने आजादी के दौरान महसूस किया कि आमजन को मातृभाषा में ही भाषण देकर प्रेरित किया जा सकता है। यही कारण था कि जागीरदारों के खिलाफ ‘कुण जमीन रो धणी’ जैसी कविता की रचना की और वह लोगों में बहुत लोकप्रिय हुई।

रचनाएं

कन्हैयालाल सेठिया ने हिंदी, उर्दू और राजस्थानी भाषा में अनेक पुस्तकें लिखी। उनकी पहली साहित्यिक रचना राजस्थानी भाषा में ‘रमणियां रा सोरठां’ मानी जाती है। इसके बाद ‘नीमड़ो’ राजस्थानी की लघु पुस्तिका है। उनकी सबसे लोकप्रिय कविता ‘धरती धोरां री’ है।

राजस्थानी

रमणियां रा सोरठा, गळगचिया, मींझर, कूंकंऊ, लीलटांस, धर कूंचा धर मंजळां, मायड़ रो हेलो, सबद, सतवाणी, अघरीकाळ, दीठ, क क्को कोड रो, लीकलकोळिया एवं हेमाणी।

हिन्दी

वनफूल, अग्णिवीणा, मेरा युग, दीप किरण, प्रतिबिम्ब, आज हिमालय बोला, खुली खिड़कियां चौड़े रास्ते, प्रणाम, मर्म, अनाम, निर्ग्रन्थ, स्वागत, देह-विदेह, आकाश गंगा, वामन विराट, श्रेयस, निष्पति एवं त्रयी।

उर्दू

ताजमहल एवं गुलचीं।

सेठिया को मिले सम्मान एवं पुरस्कार

कन्हैयालाल सेठिया को स्वतन्त्रता सेनानी, समाज सुधारक, दार्शनिक तथा राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के कवि एवं लेखक के रूप में अनेक सम्मान, पुरस्कार एवं अलंकरण प्राप्त हुए, जिनमें प्रमुख हैं—

  • वर्ष 1976 में राजस्थानी काव्यकृति ‘लीलटांस’ पर, साहित्य अकादमी, नई दिल्ली द्वारा राजस्थानी भाषा की सर्वश्रेष्ठ कृति के रूप में सम्मानित किया गया।
  • वर्ष 1981 में उन्हें राजस्थानी की उत्कृष्ट रचनाओं हेतु लोक संस्कृति शोध संस्थान, चूरू द्वारा ‘डॉ. तेस्सीतोरी स्मृति स्वर्ण पदक’ सम्मान प्रदान किया गया।
  • वर्ष 1982 में कन्हैयालाल को विवेक संस्थान, कोलकाता द्वारा उत्कृष्ट साहित्य सृजन के लिए ‘पूनमचन्द भूतोड़िया पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया।
  • वर्ष 1983 में उन्हें राजस्थान साहित्य अकादमी, उदयपुर द्वारा सर्वोच्च सम्मान ‘साहित्य मनीषी’ की उपाधि से अलंकृत किया गया।
  • उन्हें वर्ष 1987 में राजस्थानी काव्यकृति ‘सबद’ पर राजस्थानी अकादमी का सर्वोच्च ‘सूर्यमल मिश्रण शिखर पुरस्कार’ प्रदान किया गया।
  • उन्हें 12 मई, 1988 को भारतीय ज्ञानपीठ की ओर से हिन्दी काव्यकृति ‘निर्ग्रन्थ’ पर ‘मूर्तिदेवी साहित्य पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया।
  • वर्ष 1992 में राजस्थान सरकार द्वारा ‘स्वतन्त्रता सेनानी’ का ताम्रपत्र प्रदान किया गया।
  • कन्हैयालाल को वर्ष 2004 में भारत सरकार द्वारा देश का चौथा सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘पद्म श्री’ से सम्मानित किया गया।

निधन

राजस्थान के स्वतंत्रता सेनानी और कवि कन्हैयालाल सेठिया का निधन 11 नवंबर, 2008 को हुआ।

COMMENT

Chaltapurza.com, एक ऐसा न्यूज़ पोर्टल जो सबसे पहले, सबसे सटीक की भागमभाग के बीच कुछ अलग पढ़ने का चस्का रखने वालों का पूरा खयाल रखता है। हम देश-विदेश से लेकर राजनीतिक हलचल, कारोबार से लेकर हर खेल तो लाइफस्टाइल, सेहत, रिश्ते, रोचक इतिहास, टेक ज्ञान की सभी हटके खबरों पर पैनी नजर रखने की कोशिश करते हैं। इसके साथ ही आपसे जुड़ी हर बात पर हमारी “चलता ओपिनियन” है तो जिंदगी की कशमकश को समझने के लिए ‘लव यू जिंदगी’ भी कुछ अलग है। हमारी टीम का उद्देश्य आप तक अच्छी और सही खबरें पहुंचाना है। सबसे अच्छी बात यह है कि हमारे इस प्रयास को निरंतर आप लोगों का प्यार मिल रहा है…।

Copyright © 2018 Chalta Purza, All rights Reserved.