भारत: ब्लैक और व्हाइट फंगस के बाद अब येलो फंगस का पहला मामला सामने आया

Views : 822  |  3 minutes read
Yellow-Fungas-Symptoms

देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बीच मरीजों में ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस के भी कई मामले सामने आ रहे हैं, लेकिन अब इन दोनों के अलावा एक और फंगल इंफेक्शन का खतरा बढ़ता दिख रहा है। सोमवार को उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में येलो फंगल का भारत में पहला मामला सामने आया। चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि येलो फंगस, ब्लैक और व्हाइट फंगस से ज्यादा खतरनाक है। जानकारी के अनुसार, मरीज का इलाज जारी है और उसकी उम्र 34 साल है। यह मरीज पूर्व में कोरोना से संक्रमित रह चुका है और साथ में मधुमेह का भी रोगी है।

पहचान के लिए ये हैं येलो फंगस के लक्षण

आपको बता दें कि येलो फंगस घातक बीमारियों में से एक है। येलो फंगस के कई लक्षण हैं। इसमें थकान, कमजोरी महसूस होना, भूख ना लगना या कम भूख लगना जैसे लक्षण शामिल हैं। रोगी में जैसे-जैसे फंगस का असर बढ़ने लगता है वैसे-वैसे शरीर में कमजोरी बढ़ने लगती है और वजन भी तेजी से कम होने लगता है। इसके अलावा अगर मरीज के शरीर पर कोई घाव है तो उसमें से मवाद का रिसाव होने लगता है और घाव बहुत ही धीरे भरता है। इस दौरान मरीज की आंखें भी धंस जाती हैं और कई अंग तक काम करना बंद कर देते हैं।

गंदगी के कारण किसी मरीज में फैल सकता है येलो फंगस

विशेषज्ञों द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, येलो फंगस आस-पास गंदगी के कारण किसी मरीज में फैल सकता है। इसलिए लोगों को अपने घर के आस-पास साफ सफाई रखनी चाहिए और स्वच्छता का पूरा ध्यान रखकर इस बैक्टीरिया या वायरस को दूर किया जा सकता है। इसके अलावा ठंडा या बासी खाना खाने से बचें।

शरीर में अचानक हो रहे बदलाव को नजरअंदाज नहीं करें

आपको जानकारी के लिए बता दें कि अगर किसी मरीज को अपने शरीर में सुस्ती महसूस हो रही है या भूख कम लग रही है या खाने का बिल्कुल मन नहीं होता हो तो इसे ज़रा भी नज़रअंदाज नहीं करना चाहिए। ऐसे में तुरंत किसी डॉक्टर को दिखाएं।

Read More: देश में तेजी से फैल रहा है ब्लैक फंगस, जानिए क्या हैं इसके लक्षण

COMMENT