भारत: गर्भवती महिलाओं को कोरोना टीका लगाने की तैयारी कर रही केंद्र सरकार

Views : 995  |  3 minutes read
India-Pregnant-Women-Vaccination

देश में गर्भवती महिलाओं को कोरोना टीका लगाने के लिए केंद्र सरकार तैयारियों में जुटी हुई है। अमेरिका और ब्रिटेन तर्ज पर भारत में भी जल्द ही गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण का रास्ता साफ हो सकता है। बता दें, केंद्र सरकार ने अभी तक स्तनपान कराने वाली महिलाओं को ही कोरोना वैक्सीन लगाने की अनुमति दी है, लेकिन जल्द ही केंद्र सरकार गर्भवती महिलाओं को लेकर अलग से दिशा-निर्देश जारी करने जा रही है। जानकारी के अनुसार, सरकार एक से दो सप्ताह के बीच राज्यों को इस संबंद्ध में दिशा-निर्देश जारी कर सकती है।

विशेष समिति ने गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण की सिफारिश की

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को विशेष समिति द्वारा गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण की सिफारिश मिल चुकी है, जिसके आधार पर मंत्रालय में मौजूद टीकाकरण शाखा दिशा-निर्देश तैयार करने में जुटी है। टीकाकरण अभियान से जुड़े अधिकारियों ने इस पर सहमति जताते हुए कहा है कि सिफारिशों के आधार पर दिशा-निर्देश तैयार की जा रही हैं। इसके तहत गर्भवती महिलाओं को कोविशील्ड, कोवाक्सिन और स्पतूनिक वैक्सीन का टीका लगाया जा सकेगा।

मालूम हो 28 मई को राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह की बैठक में भी गर्भवती महिलाओं को कोरोना टीका लगाने को लेकर चर्चा हुई थी। उस दौरान विशेषज्ञों ने गर्भवती महिलाओं के लिए वैक्सीन उपलब्ध कराने की सिफारिश की थी। वहीं, मंत्रालय से जानकारी मिली जानकारी के अनुसार, आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव की निगरानी में गठित एक अन्य समिति ने भी ऐसी सिफारिश की हैं, जिनके आधार पर अब भारत सरकार द्वारा आगे की तैयारी की जा रही है।

डब्ल्यूएचओ और अध्ययनों के आधार पर तैयार कर रहे दिशा-निर्देश

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कई देशों ने गर्भवती माताओं के लिए टीकाकरण को प्राथमिकता दी है। इसे ध्यान में रखते हुए और हमारे टीकों के सुरक्षा प्रोफाइल के कठोर अध्ययन के बाद विशेषज्ञ समिति ने गर्भवती महिला को कोविड-19 टीकाकरण के लिए योग्य बनाने की सिफारिश की है। उन्होंने बताया कि दिशा-निर्देशों को डब्ल्यूएचओ सहित अन्य अध्ययनों के अनुसार तैयार किया जा रहा है। अभी तक गर्भवती महिलाओं के कोरोना टीकाकरण को लेकर सीमित अध्ययन सामने आए हैं, लेकिन जिन देशों में पहले से टीकाकरण हो रहा है वहां के अनुभवों को भी आधार माना गया है।

कोरोना टीकाकरण में घोटाला आया सामने, मुंबई में 2 हजार से अधिक लोगों को फर्जी टीका लगाया

COMMENT