भारत सरकार ने इस बार पबजी समेत 118 चीनी एप्स पर लगाया प्रतिबंध

Views : 1061  |  3 minutes read
118-Chinese-Apps-Ban

भारत-चीन सीमा विवाद के बीच भारत सरकार ने चीन के खिलाफ एक और बड़ी डिजिटल स्ट्राइक कर दी है। केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने बुधवार को मोबाइल गेम पबजी समेत 118 चीनी मोबाइल एप्स पर प्रतिबंध लगा दिया। आपको बता दें, चीनी कंपनियों के मोबाइल एप्स पर भारत की यह तीसरी डिजिटल स्ट्राइक है। इससे पहले जून माह के अंत में भारत ने टिकटॉक समेत 47 एप्स चाइनीज एप्स पर प्रतिबंध लगाया था और उसके बाद जुलाई महीने में फिर एक साथ 59 चीनी एप्स प्रतिबंधित किए थे। केंद्र सरकार ने अपने इस फैसले के पीछे राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला दिया है।

उपयोगकर्ताओं का डाटा चुरा रहे थे चीनी मोबाइल एप्स

केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने 118 चीनी मोबाइल एप्स पर प्रतिबंध के संबंध में जारी एक विज्ञप्ति में कहा है कि भारत सरकार ने 118 मोबाइल एप्स पर प्रतिबंध लगाया है। ये चीनी एप्स भारत की संप्रभुता और अखंडता, भारत की रक्षा, राज्य की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के लिए खतरा हैं। मंत्रालय ने आगे कहा कि उसे विभिन्न सूत्रों से कई शिकायतें मिली हैं और कई ऐसी रिपोर्ट्स आई हैं, जिनमें पता चला है कि एंड्रॉयड और आईओएस प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कई मोबाइल एप उपयोगकर्ताओं का डाटा चुरा रहे थे और भारत से बाहर लोकेशंस पर अव्यवस्थित तरीके से भेजने का काम कर रहे थे।

Read More: वॉट्सऐप में जल्द आएगा यह नया फीचर, स्टोरेज सेक्शन में होगा बदलाव

भारत सरकार ने इन मोबाइल एप्लीकेशन पर लगाया प्रतिबंध

केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा प्रतिबंधित किए गए चीनी एप्स की इस लिस्ट में कई लोकप्रिय एप्लीकेशन भी शामिल हैं। इनमें लोकप्रिय गेम पबजी मोबाइल, पबजी मोबाइल लाइट, सुपर क्लीन, शायोमी का शेयरसेव, वीचैट वर्क, साइबर हंटर और इसका लाइट वर्जन, गेम ऑफ सुल्तान्स, गो एसएमएस प्रो, लैमोर, मार्वेल सुपर वार, लूडो वर्ल्ड-लूडो सुपरस्टार, राइज ऑफ किंगडम्स, स्मार्ट एपलॉक (एप प्रोटेक्ट), डुअल स्पेस, क्लीनर-फोन बूस्टर, गैलरी वॉल्ट, बायडू, टेंसेंट वाचलिस्ट और सिना न्यूज आदि शामिल हैं।

COMMENT