डीजीसीए ने अंतरराष्ट्रीय कमर्शियल उड़ानों पर 31 जुलाई तक के लिए बढ़ाया प्रतिबंध

Views : 955  |  3 minutes read
Air-Service-Ban-Extended

कोरोना वायरस महामारी के कारण पिछले करीब तीन माह से अंतरराष्ट्रीय कमर्शियल उड़ानों का संचालन नहीं हो पा रहा है। अब नागर विमानन महानिदेशालय यानी डीजीसीए ने अंतरराष्ट्रीय कमर्शियल उड़ानों पर लगी रोक को जुलाई माह के अंत तक के लिए बढ़ा दिया है। डीजीसीए की ओर से जारी ताज़ा अधिसूचना के मुताबिक, 31 जुलाई तक के लिए निर्धारित सभी उड़ानों को रद्द कर दिया गया है। डीजीसीए ने अपने इस फैसले के पीछे देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना वायरस के मामलों का हवाला दिया है।

पहले की तरह चयनित मार्गों पर संचालन की रहेगी अनुमति

आपको जानकारी के लिए बता दें कि इस दौरान मामला-दर-मामला के आधार पर कुछ चयनित मार्गों पर अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को संचालन की अनुमति रहेगी। इसके अलावा यह प्रतिबंध अंतरराष्ट्रीय कारगो फ्लाइट्स (मालवाहक उड़ानें) और डीजीसीए से विशेष अनुमति प्राप्त उड़ानों पर लागू नहीं होगा। कोरोना के प्रभाव को कम करने की कोशिश करने के बाद भारत ने 25 मई से घरेलू हवाई यात्रा सेवा शुरू की थी।

देश में वैश्विक कोरोना वायरस महामारी को फैलने से रोकने के लिए 23 मार्च से अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा सेवा पर प्रतिबंध लगा हुआ है। इससे पहले 26 जून को जारी एक आदेश में डीजीसीए ने 15 जुलाई तक अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के संचालन पर प्रतिबंध लगाया था। वहीं, शुक्रवार को डीजीसीए ने अपने पुराने आदेश को संशोधित करते हुए इस तारीख को 31 जुलाई कर दिया है।

Read More: भारत सरकार 15 अगस्त तक कोरोना की वैक्सीन लॉन्च कर सकती है: आईसीएमआर

अन्य देशों के प्रतिबंध हटाने के बाद निर्णय लेगा भारत

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को दोबारा शुरू करने के सवाल पर बीते दिनों कहा था कि इस पर भारत सरकार ने अभी कोई निर्णय नहीं लिया है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा था, ‘जब विभिन्न देश विदेशी यात्रियों के अपने यहां प्रवेश पर लगे प्रतिबंध हटा लेंगे और उन्हें प्रवेश की अनुमति दे देंगे, तब अंतरराष्ट्रीय कमर्शियल उड़ानों के नियमित परिचालन पर निर्णय लिया जाएगा।’

COMMENT