बर्थडे: बहुमुखी प्रतिभा के धनी दारा सिंह को हनुमानजी के किरदार ने बना दिया अमर

Views : 6212  |  4 minutes read
Dara-Singh-Biography

बहुमुखी प्रतिभा के धनी दारा सिंह ने जो नाम और सम्मान कमाया वह कम ही लोगों को नसीब होता है। एक तरफ वह एक लोकप्रिय पेशेवर पहलवान थे, जो मैदान में अपना हुनर दिखाया करते थे और दूसरी तरफ वह एक माचो मैन थे, जिसने बॉलीवुड में भी अपनी जगह बनाईं। हालिया दौर की रेसलिंग पर बेस्ड फिल्म ‘दंगल’ और ‘सुल्तान’ से कई दशकों पहले दारा सिंह ने देश को फिल्मी और रियल दोनों का पहलवान दिया था। दारा सिंह का जन्म 19 नवंबर 1928 को पंजाब के अमृतसर में हुआ था। उनकी 93वीं जयंती के मौके पर जानिए उनके बारे में कुछ अनसुनी बातें…

Actor-and-Wrestler-Dara-Singh

फिल्मों से दारा सिंह को एक्शन हीरो का ताज मिला

सांगदील (1952), पहली झलक (1955) और जग्गा डाकू (1959) में अपनी शुरुआत के बाद दारा सिंह को एक्शन हीरो का ताज मिला। इसके बाद महेश भट्ट के पिता नानाभाई ने दारा सिंह को किंग कांग में कास्ट किया और जनता में एक पहलवान के रूप में फेमस हो गए।

हनुमान के रोल ने हमेशा के लिए कर दिया अमर

विशाल कद काठी वाले दारा सिंह ने सिर्फ लोगों को एंटरटेन नहीं किया, बल्कि युवा दर्शकों को भी लुभाया। दारा सिंह ने बजरंगबली (1976) में वानर देवता हनुमान और 80 के दशक में दूरदर्शन पर लोकप्रिय पौराणिक धारावाहिक रामायण में भी काम किया था। प्रशंसकों के लिए दारा सिंह का हनुमान का रोल हमेशा ही अमर रहने वाला है।

भाजपा ने पहलवान दारा को भेजा था राज्यसभा

दिग्गज पहलवान व अभिनेता दारा सिंह की लोकप्रियता ही थी, जो उन्हें राज्यसभा तक खींच लाईं। दारा सिंह का जीवन काफी चीजों से भरा हुआ था। अपने गांव में पहलवानजी कहलाए जाने वाले दारा सिंह को राज्यसभा में शामिल किया गया। उस वक्त भारतीय जनता पार्टी ने दारा सिंह को स्पोर्टमेन के रूप में राज्यसभा सदस्य मनोनित किया। उनका यह कार्यकाल अगस्त, 2003 से अगस्त, 2009 तक रहा। 12 जुलाई 2012 को मुंबई में 84 साल की उम्र में उनका देहवासन हो गया।

Read Also: विजेंदर सिंह ने ओलंपिक में पदक जीतकर बनाया था कीर्तिमान, ड्रग मामले में हुई छवि खराब

COMMENT