कोरोना मरीजों का अब प्लाज्मा थेरेपी से नहीं होगा इलाज, ICMR ने जारी की नई गाइडलाइन

Views : 884  |  3 minutes read
Corona-Plasma-Therapy-Ban-

देश में कोरोना के मरीजों का अब प्लाज्मा थेरेपी से उपचार नहीं किया जा सकेगा। दरअसल, भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद यानि आईसीएमआर ने प्लाज्मा थेरेपी को अब कोरोना मरीजों के इलाज के तरीकों से हटा दिया है। अब देश में मरीजों का इस थेरेपी से उपचार नहीं होगा। आईसीएमआर का कहना है कि कोरोना संक्रमित मरीजों की जिंदगी बचाने में प्लाज्मा थेरेपी असरदार साबित नहीं हो रही थी। परिषद ने कहा है कि इसके इस्तेमाल के बावजूद कोरोना संक्रमित की मौत और उनकी बीमारी की गंभीरता को कम नहीं किया जा सका है।

आईसीएमआर, एनटीएफ और स्वास्थ्य मंत्रालय ने लिया फैसला

आपको जानकारी के लिए बता दें कि आईसीएमआर, कोविड-19 पर बनी नेशनल टास्क फोर्स, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की बैठक के बाद यह फैसला लिया गया है। टास्क फोर्स ने कोरोना मरीजों के इलाज के लिए नई गाइडलाइन भी जारी की है। नई गाइडलाइन में कोविड मरीजों को तीन भागों में बांटा है। पहला- हल्के लक्षण वाले मरीज, दूसरा- मध्यम लक्षण वाले और तीसरे गंभीर लक्षण वाले मरीज। इस गाइडलाइन में हल्के लक्षण वाले मरीजों को होम आइसोलेशन में रहने, मध्यम और गंभीर संक्रमण वाले मरीजों को क्रमश: कोविड वॉर्ड में भर्ती और आईसीयू में भर्ती करने के लिए कहा गया है।

चिकित्सा विशेषज्ञों ने कोरोना में प्लाज्मा थेरेपी को बेअसर बताया

गौरतलब है कि पिछले साल से ही भारत में कोरोना के कई मरीजों का इलाज प्लाज्मा थेरेपी से किया जा रहा था। हाल में देश में अप्रैल महीने में शुरू हुई कोरोना की दूसरी लहर के दौरान प्लाज्मा की मांग काफी ज्यादा बढ़ गई थी। लेकिन चिकित्सा विशेषज्ञ यह थेरेपी असरदार नहीं होने और सिर्फ आरंभिक अवस्था में ही लाभकारी होने की बातें कर रहे थे। आईसीएमआर और कोविड-19 के लिए गठित नेशनल टास्क फोर्स की हालिया बैठक में सभी सदस्य इलाज के प्रोटाकॉल से प्लाज्मा थेरेपी को हटाने पर सहमत थे।

डीआरडीओ द्वारा विकसित कोरोना की देसी दवा 2DG को रक्षा और स्वास्थ्य मंत्री ने किया लॉन्च

COMMENT