क्यों कांग्रेस के पास मामा की सरकार को हराने का यह सुनहरा मौका है?

Views : 4217  |  0 minutes read
jyotiraditya
मध्यप्रदेश में 15 वर्षों तक सत्ता से बाहर कांग्रेस राज्य में आने वाले विधानसभा चुनाव जीतने के लिए अपनी तैयारी कर रही है। इन चुनावों को एक तरह से सेमीफाइनल के रूप में देखा जा रहा है।
तीन बार से यहां भाजपा की सरकार रही है ऐसे में कई ऑपिनियन पोल में कांग्रेस को बढ़त मिली है। ऐसे में शिवराज से जनता की नाराजगी सत्ता पलट सकती है।
लेकिन कांग्रेस ने 2003 में 37 सीट, 2008 में 71 और 2013 के विधानसभा चुनावों में 58 सीट ही हासिल की हैं। जो कि बहुत ही कम हैं। 230 सीट असेंबली में बीजेपी इन सालों में 173, 143 और 165 सीटों के साथ उभरा था।
shivraj singh chauhan
shivraj singh chauhan

कांग्रेस, अच्छी तरह से जानती है कि इस साल हारना पार्टी की साख पर एक बड़ा प्रभाव डाल सकता है इसीलिए कांग्रेस सत्ता में आने के लिए पुरजोर प्रयास कर रही है।

कुछ दिनों पहले पार्टी का घोषणा पत्र जारी किया गया था जिसमें सभी क्षेत्रों को शामिल किया गया था जिसमें कृषि क्षेत्र, महिलाओं, बेरोजगार युवाओं, औद्योगिक क्षेत्र और बहुमत की आबादी को खुश करने के लिए भी बहुत कुछ शामिल था।
Congress
Congress
अन्य राज्यों के विपरीत जहां स्थानीय चेहरों की कमी के कारण पार्टी को परेशानी हो रही है वहीं पार्टी राज्य के लगभग हर क्षेत्र में अनुभवी नेताओं के साथ देखी जा सकती है।
मध्यप्रदेश में कांग्रेस पार्टी के पास बड़े पैमाने पर शासन करने वाले दिग्विजय सिंह से लेकर कमल नाथ, ज्योतिरादित्य सिंधिया, जिनके पास ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में जन समर्थन आधार है जैसे स्थानीय नेताओं की कोई कमी नहीं है।
इसके अलावा, विंध्य क्षेत्र में अजय सिंह, केंद्रीय सांसद सुरेश पचौरी, निमर क्षेत्र में अरुण यादव और झाबुआ-रतलाम जनजातीय बेल्ट में कंटिला भूरिया हैं।

digvijay singh
digvijay singh
पार्टी में कई तरह आपसी मतभेद भी समय—समय पर देखे जा रहे हैं। लेकिन फिर भी पार्टी के सीनियर नेता एकता की बात करते नजर आते हैं और आपसी मतभेद सुलझा रहे हैं।
लेकिन राज्य में बीजेपी का घर भी कम उलझा हुआ नहीं है शायद यह ज्यादा खराब है क्योंकि कई पार्टी सीनियर विवादों में उलझ गए हैं। नरोत्तम मिश्रा एक पेड न्यूज मामले में, लाल सिंह आर्य विधायक माखन सिंह जावत के हत्या मामले में, सुरेंद्र पटवा एक लोन केस में और रामपाल सिंह उनकी कथित बहू द्वारा आत्महत्या के मामले में।
बाबूलाल गौड़, सरताज सिंह और कुसुम महदेले जैसे अन्य वरिष्ठ नेताओं ने भी टिकट वितरण पर भाजपा को नुकसान पहुंचाया है।
congress
congress

गोविंदपुरा से फिर से नामित नहीं होने के बाद गौड़ ने पूरी पार्टी का विरोध किया और अपनी बहू कृष्ण को टिकट देने के बाद ही अपने विरोध को वापस लिया। दूसरी तरफ, सरताज सिंह कांग्रेस में शामिल हो गए और वरिष्ठ मंत्री कुसुम महदेले ने टिकट से इंकार कर दिए जाने के बाद सार्वजनिक रूप से गुस्सा किया। पार्टी कैडर ने कई क्षेत्रों में टिकट वितरण पर खुले तौर पर विद्रोह किया है।

mp-by-election
mp-by-election

इसके विपरीत, क्षेत्रीय और सामाजिक समीकरणों को ध्यान में रखते हुए कांग्रेस टिकट वितरण पर बहुत सतर्क रही है। हालांकि, पार्टी मायावती की बहुजन समाज पार्टी के साथ जुड़ नहीं सकती थी जिसने विस्तारित विचार-विमर्श के बावजूद पिछली बार 6.5% वोट शेयर जीता था। फिर भी, शिवराज सिंह चौहान जो सीएम हाउस में अपने 13 साल के कार्यकाल के बाद कई विवादों में रहे, एक ठोस प्रतिद्वंदी के रूप में हैं।

COMMENT