कौन है सुनील यादव जिसे बीजेपी ने अरविंद केजरीवाल के सामने मैदान में उतारा?

Views : 852  |  3 minutes read
Arvind-Kejriwal-Vs-Sunil-Yadav

दिल्ली विधानसभा चुनाव-2020 के लिए सत्ताधारी आम आदर्मी पार्टी ने सबसे पहले अपने प्रत्याशियों की घोषणा की। इसके बाद हाल में बीजेपी और उसके बाद कांग्रेस ने भी अपने उम्मीदवारों के नाम की लिस्ट जारी कर दी। प्रमुख राजनीतिक दलों के प्रत्याशियों की सूची जारी होने के बाद अब प्रचार जोरों पर है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की 70 सीटों पर हो रहे विधानसभा चुनाव में सबसे हॉट सीट नई दिल्ली मानी जा रही है। आम आदर्मी पार्टी के मुखिया एवं दिल्ली के वर्तमान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल नई दिल्ली सीट से ही मैदान में है। उनके सामने भारतीय जनता पार्टी ने सुनील यादव को उतारा है। ऐसे में चुनावी माहौल के बीच हम आपको बताते हैं अरविंद केजरीवाल के सामने चुनाव लड़ रहे बीजेपी प्रत्याशी सुनील यादव कौन है..

भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष है सुनील

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के सामने बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ रहे सुनील यादव भारतीय जनता युवा मोर्चा दिल्ली प्रदेश के अध्यक्ष हैं। उच्च शिक्षा प्राप्त सुनील पेशे से वकील होने के साथ ही डीडीसीए यानि दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ के डायरेक्टर भी हैं। सुनील मूलरूप से उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ के रहने वाले हैं, लेकिन उनका परिवार नई दिल्ली विधानसभा क्षेत्र में वर्षों से रह रहा है। वह लंबे समय से भारतीय जनता पार्टी से जुड़े रहे हैं और सामाजिक कार्यकर्ता के तौर पर भी सक्रिय हैं।

युवा मोर्चा के मंडल अध्यक्ष के रूप में की शुरुआत

अरविंद केजरीवाल के सामने खड़े बीजेपी प्रत्याशी सुनील यादव ने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत युवा मोर्चा के मंडल अध्यक्ष के रूप में की। इसके बाद वह लगातार संघर्ष करते हुए पहले जिलाध्यक्ष बने, फिर दिल्ली महासचिव और दिल्ली युवा मोर्चा के सचिव बने और फिलहाल भाजपा युवा मोर्चा दिल्ली के अध्यक्ष हैं। उनके नेतृत्व में भाजयुमो पिछले लगभग दो माह से केजरीवाल सरकार के खिलाफ अभियान चला रहा है। उनकी टीम केजरीवाल सरकार की कमियों को उजागर करते हुए आम आदमी पार्टी पर निशाना साधती रही है। दिल्ली विधानसभा क्षेत्र में उनकी सक्रियता और आप सरकार के खिलाफ अभियान चलाने की वजह से बीजेपी ने उन्हें अपना उम्मीदवार बनाया है।

Read More: एनपीआर पर केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने बताई ये अहम बातें

पिछले दो चुनाव में नहीं मिल पाया था टिकट

वर्ष 2013 और 2015 में हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव में भी सुनील यादव को टिकट मिलने की चर्चाएं थीं, लेकिन आखिर समय में पार्टी ने किसी विजेन्द्र गुप्ता और नुपूर शर्मा को टिकट दे दिया। इसके बाद साल 2017 में दिल्ली नगर निगम चुनाव में बीजेपी ने सुनील यादव को एंड्रयूज गंज से नगर निगम पार्षद का उम्मीदवार बनाया था, लेकिन वो यह चुनाव हार बैठे थे। पार्टी में सुनील की छवि एक तेज तर्रार नेता के तौर पर है। वह सोशल मीडिया पर भी काफ़ी सक्रिय रहते हैं। सुनील यादव के फेसबुक पेज पर करीब 1,00,000 लाइक्स हैं और ट्विटर पर उन्हें 16,000 से ज्यादा लोग फॉलो करते हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि नई दिल्ली सीट से कांग्रेस ने रोमेश सभरवाल को अपना उम्मीदवार बनाया है। वह 40 सालों से कांग्रेस जुड़े हैं और उनकी एनएसयूआई से राजनीतिक सफ़र की शुरुआत हुई थी।

 

COMMENT