पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले सीएम उम्मीदवार घोषित नहीं करेगी भाजपा

Views : 1902  |  3 minutes read
West-Bengal-Election-News

पश्चिम बंगाल में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर जारी सियासी घमासान के बीच भारतीय जनता पार्टी यानि भाजपा के महासचिव और प्रदेश प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने एक बड़ी घोषणा की है। उन्होंने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में पार्टी अपना मुख्यमंत्री उम्मीदवार घोषित नहीं करेगी। बहुमत हासिल करने के बाद पार्टी नेतृत्व और विधायक तय करेंगे कि मुख्यमंत्री कौन बनेगा। वहीं, आदित्य बिड़ला समूह के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट रंजन बनर्जी बुधवार को कोलकाता में भाजपा में शामिल हो गए। उन्होंने पार्टी में शामिल होने के बाद कहा, ‘मैं भाजपा को राज्य के लोगों की सेवा करने का मौका देने के लिए धन्यवाद देता हूं। हमें यहां उद्योग लाने की जरूरत है ताकि लोगों को रोजगार मिल सके।’

टीएमसी एमएलए अरिंदम भट्टाचार्य पार्टी छोड़ भाजपा में शामिल

उधर, पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस के विधायकों के टूटने का सिलसिला थमता नज़र नहीं आ रहा है। इसी क्रम में अब शांतिपुर से टीएमसी विधायक अरिंदम भट्टाचार्य बुधवार को दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। आपको बता दें कि भट्टाचार्य कांग्रेस के टिकट पर वर्ष 2016 में चुनाव जीते थे और इसके अगले साल ही टीएमसी में शामिल हो गए थे। उसके बाद अब वह भाजपा में शामिल हो गए हैं। इससे पहले ममता सरकार के दिग्गज नेता शुभेंदु अधिकारी पिछले महीने भाजपा में शामिल हो गए थे। उनके साथ ही आधा दर्जन से अधिक टीएमसी नेताओं ने भाजपा में शामिल होने का फैसला लिया था।

टीएमसी ने गोली मारो नारे से खुद को किया अलग

पश्चिम बंगाल की सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों के एक रैली में ‘बंगाल के गद्दारों को गोली मारो सालों को’ का नारा लगाने के एक दिन बाद टीएमसी ने बुधवार को खुद को इससे अलग कर लिया और यह नारा लगाने वाले र्कायकर्ताओं को फटकार लगाई। टीएमसी के प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा कि पार्टी इसका समर्थन नहीं करती। उन्होंने कहा कि कुछ युवकों ने जोश में आकर ऐसी नारेबाजी कर दी थी। रैली में ऐसा नारा नहीं लगना चाहिए था। ऐसी नारेबाजी करने वालों ने ठीक नहीं किया। घोष ने कहा कि ‘गोली मारो’ जैसे शब्दों को शब्दशः नहीं लेना चाहिए। बता दें कि TMC के कई समर्थकों ने मंगलवार को दक्षिण कोलकाता में एक शांति रैली के दौरान विवादास्पद नारेबाजी की थी, जिसमें राज्य के दो मंत्री भी शामिल हुए थे।

सबसे लंबे समय तक राज करने वाली कम्युनिस्ट सरकार को हराकर सीएम बनी थी ममता बनर्जी

COMMENT