विंबलडन फाइनल में पहुंचकर ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी एश्ले बार्टी ने रचा इतिहास

Views : 808  |  3 minutes read
Sports-News-Hindi

विश्व की नंबर वन टेनिस खिलाड़ी ऑस्ट्रेलिया की एश्ले बार्टी ने गुरुवार को पहली बार विंबलडन के फाइनल में पहुंचकर नया कीर्तिमान बनाया। उन्होंने सेमीफाइनल मुकाबले में पूर्व चैंपियन जर्मनी की एंजेलिक कर्बर को 6-3, 7-6 (3) से हराया। बार्टी फाइनल में चेक रिपब्लिक की 29 वर्षीय कैरोलिना प्लिस्कोवा से भिड़ेंगी। वहीं, सेमीफाइनल में जीत के साथ ही एश्ले बार्टी ने इतिहास रच दिया। वह वर्ष 1980 में इवोन गुलागोंग के बाद से विंबलडन फाइनल में खेलने वाली पहली ऑस्ट्रेलियाई महिला होंगी। जानकारी के लिए बता दें कि बार्टी का यह दूसरा ग्रैंड स्लैम फाइनल है। इससे पहले उन्होंने साल 2019 में फ्रेंच ओपन का खिताब जीता था। जबकि पिछले साल हुए ऑस्ट्रेलियन ओपन में उसने सेमीफाइनल तक का सफ़र तय किया।

पहला सेट गंवाने के बाद वापसी नहीं कर पाई कर्बर

सेमीफाइनल में एश्ले बर्टी से हारने वाली जर्मनी की एंजेलिक कर्बर ने वर्ष 2018 में विंबलडन खिताब अपने नाम किया था और साल 2016 में वह उप-विजेता रही थीं। बार्टी के खिलाफ पहला सेट गंवाने के बाद उनके पास दूसरे सेट में वापसी का अच्छा मौका था। कर्बर 5-3 पर सेट के लिए सर्विस कर रही थीं, लेकिन उन्होंने 0-40 पर अपनी सर्विस गंवा दीं। इसके बाद यह सेट टाईब्रेकर तक खिंच गया। फ्रेंच ओपन-2019 की विनर बार्टी ने टाईब्रेकर में 6-0 की बढ़त हासिल कर ली और फिर अपने चौथे मैच प्वाइंट पर जीत दर्ज की। कर्बर का बैकहैंड तब नेट पर उलझ गया था।

गौरतलब है कि एश्ले बार्टी ने अपनी हमवतन अजला टोमलजानोविच को महज 66 मिनट में 6-1, 6-3 से हराकर पहली बार विंबलडन के सेमीफाइनल में जगह बनाई थी। वहीं, पूर्व चैंपियन जर्मनी की एंजेलिक कर्बर क्वार्टरफाइनल में चेक गणराज्य की कैरोलिना मकोवा को 6-2, 6-3 से हराकर सेमीफाइनल में पहुंची थीं।

बार्टी और प्लिसकोवा के बीच होगी फाइनल में भिड़ंत

वहीं, दूसरे सेमीफाइनल मुकाबले में चेक गणराज्य की कैरोलिना प्लिस्कोवा ने बेलारूस की अर्यना सबालेंका को 5-7, 6-4, 6-4 से हराकर पहली बार विंबलडन के फाइनल में प्रवेश किया। सबसे दिलचस्प बात ये है कि इस बार बार्टी और प्लिस्कोवा की भिड़ंत से विंबडलन को महिला वर्ग में एक नई चैंपियन मिलेगी।

Read Also: आईसीसी वन-डे रैंकिंग में फिर से नंबर वन बल्लेबाज बन मिताली राज ने रचा इतिहास

COMMENT