पीएम केयर्स फंड से 1 लाख पोर्टेबल ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर खरीदने की मिली मंजूरी

Views : 1787  |  3 minutes read
PM-Narendra-Modi-

देश में कोरोना संक्रमण के तेजी से बढ़ते मामलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़ा फैसला लेते हुए पीएम केयर्स फंड से 1 लाख पोर्टेबल ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर खरीदने की मंजूरी दे दी है। उन्होंने ने निर्देश दिया कि इन ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर को जल्द से जल्द खरीद लिया जाना चाहिए और अधिक मांग वाले राज्यों तक पहुंचाना चाहिए। पीएम मोदी ने इसके अलावा पीएम केयर्स फंड के तहत ही 500 नए पीएसए ऑक्सीजन प्लांट की भी मंजूरी दी है। आपको जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले भी पीएम केयर्स फंड के तहत 713 पीएसए प्लांटों को मंजूरी दी गई थी।

मांग वाले क्षेत्रों में ऑक्सीजन की तेज होगी आपूर्ति

पीएम मोदी ने बुधवार को कहा कि सरकार प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और आपात राहत कोष (पीएम केयर्स) से एक लाख पोर्टेबल ऑक्सीजन सांद्रक खरीदेगी और देश के विभिन्न राज्यों के स्वास्थ्य केंद्रों में 500 पीएसए (प्रेशर स्विंग ऐड्सॉर्प्शन) चिकित्सीय ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों की स्थापना करेगी। उन्होंने कहा कि इससे जिला मुख्यालयों और टू टीयर शहरों में ऑक्सीजन की उपलब्धता बेहतर होगी। पीएमओ ने अपने एक बयान में कहा कि ऑक्सीजन सांद्रक और पीएसए संयंत्रों से मांग वाले क्षेत्रों में ऑक्सीजन की आपूर्ति तेज होगी। यह फैसला प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में हुई एक उच्च स्तरीय बैठक में लिया गया। इस बैठक में कोरोना वायरस प्रबंधन के लिए तरल ऑक्सीजन की आपूर्ति बेहतर करने के लिए आवश्यक कदमों पर भी चर्चा की गई।

500 पीएसए ऑक्सीजन संयंत्रों की स्थापना स्वदेशी कंपनियां करेंगी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने निर्देश दिया कि इन ऑक्सीजन सांद्रकों को जल्द से जल्द खरीदा जाए और जिन राज्यों में कोविड-19 के मामले सबसे अधिक हैं उन्हें इनकी आपूर्ति की जाए। इससे पहले केंद्र सरकार पीएम केयर्स फंड से ऐसे ही 713 पीएसए संयंत्रों की स्थापना को मंजूरी दे चुकी है। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा कि एक लाख पोर्टेबल ऑक्सीजन सांद्रक खरीदे जाएंगे, साथ ही 500 और पीएसए ऑक्सीजन संयंत्र की स्थापना को पीएम केयर्स कोष से मंजूरी दी गई है। इससे जिला मुख्यालयों और टीयर-2 के शहरों में ऑक्सीजन की उपलब्धता बेहतर होगी। इन 500 पीएसए ऑक्सीजन संयंत्रों की स्थापना रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) और सीएसआईआर द्वारा विकसित घरेलू प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण और घरेलू निर्माताओं द्वारा की जाएगी।

Read More: ‘एक राष्ट्र’ के रूप में काम करेंगे तो संसाधनों का कोई अभाव नहीं होगाः पीएम मोदी

COMMENT