अल्फ्रेड नोबेल: वह वैज्ञानिक जिसने डायनामाइट सहित अनेक विस्फोटक पदार्थों का आविष्कार किया

Views : 4032  |  0 minutes read

डायनामाइट के आविष्कारक अल्फ्रेड नोबेल की 10 दिसंबर को 123वीं डेथ एनिवर्सरी हैं। वह स्वी​डिश रसायनज्ञ, इंजीनियर और उद्योगपति थे। उन्होंने डायनामाइट और अन्य शक्तिशाली विस्फोटकों का आविष्कार किया था। उनकी पुण्यतिथि पर हर वर्ष 10 दिसंबर को नोबेल फाउंडेशन द्वारा नोबेल अवॉर्ड दिए जाते हैं जो वर्ष 1901 में शुरू किए गए थे। यह पुरस्कार 6 श्रेणियों चिकित्सा, रसायन विज्ञान, भौतिक विज्ञान, साहित्य, शांति और अर्थशास्त्र के क्षेत्र में व्यक्ति या किसी संस्था को दिए गए योगदान के लिए दिए जाते हैं।

जीवन परिचय

अल्फ्रेड बर्नहार्ड नोबेल का जन्म 21 अक्टूबर, 1833 को स्वीडन के स्टॉकहोम में हुआ था। उनके पिता इमानुएल नोबेल थे, जो पढ़े लिखे नहीं थे, परंतु वह एक आविष्कारक थे। उनके सात भाई—बहनें थे, जिनमें से तीन ही जिंदा बचे। जब वह 9 साल के थे तब उनके पिता रूस जा बसे।

उनका बचपन सेंट पीटर्सबर्ग (लेनिनग्राड) में गुजरा। उनके पिता ने यहां पर नाइट्रोग्लिसरीन का उद्योग शुरू किया जिसका उपयोग विस्फोटक के रूप में किया जाता था। यह उस समय ब्लास्टिंग ऑयल के नाम से प्रसिद्ध था। नोबेल के पिता को इस उद्योग में आरंभ से ही कई दुर्घटनाओं का सामना करना पड़ा। बाद में वर्ष 1859 में नाइट्रोग्लिसरीन फर्म का दिवालिया निकल गया। उनके पिता वापस स्वीडन आ गए और यहीं पर नाइट्रो ग्लिसरीन का उत्पादन प्रारम्भ कर दिया। परंतु उनके कारखाने में वर्ष 1864 में भीषण विस्फोट हुआ, जिससे उसमें कार्यरत मजदूरों और अल्फ्रेड के छोटे भाई एमिल की मौत हो गई।

डायनामाइट का आविष्कार

इस दुर्घटना के बाद उन्हें कारखाना फिर से शुरू करने की अनुमति नहीं मिली, तो उन्होंने मालारेन सरोवर पर बांध बनाकर उत्पादन जारी रखा। उनके शोध कार्य नाइट्रोग्लिसरीन के सुरक्षित परिवहन पर केन्द्रित था।

एक दिन अचानक नोबेल ने पाया कि एक विशेष कार्बनिक पैकिंग में नाइट्रोग्लिसरीन अवशोषित होकर शुष्क पदार्थ में परिणित हो जाती है। इस प्रकार इस विस्फोटक का हैंडलिंग सुरक्षित हो गया था। नोबेल ने 1867 में डायनामाइट का आविष्कार किया। इस नई खोज ने उन्हें ‘डाइनामाइट’ का निर्माण करने में सफल हुए। उनकी इस खोज ने डाइनामाइट का परिवहन सुरक्षित तथा सरल बनाया क्योंकि विस्फोट की घटनाओं के कारण कोई भी परिवहन व्यवस्था नाइट्रोग्लिसरीन को लाने और ले जाने के लिए तैयार नहीं होते थे।

उन्होंने वर्ष 1867 में डाइनामाइट का ब्रिटिश पेटेंट और वर्ष 1868 में अमरीकी पेटेंट प्राप्त किया। उन्होंने वर्ष 1889 ‘बेलिस्टाइट’ नामक बिना धुएं का विस्फोटक बनाया। इस तरह अल्फ्रेड ने कुल 335 पेटेंट हासिल किए, जिसमें कृत्रिम रबड़, चमड़े तथा कृत्रिम रेशम पेटेंट भी शामिल थे।

निधन

अल्फ्रेड नोबेल का 10 दिसंबर, 1896 को स्ट्रोक आने से इटली के सैनरमो शहर में देहांत हो गया।

COMMENT