जमानत पर रिहा चोर का घर पर नहीं लगा मन, CCTV के सामने चोरी कर फिर पहुंचा जेल !

Views : 3315  |  0 minutes read

एक इंसान को इस 4 दिन की जिंदगी में क्या चाहिए – दो वक्त रोटी, सिर ढ़कने के लिए एक छत और दिल का हाल सुनने वाले 3-4 दोस्त। अब ये कैसे और कहां मिले, इसकी परवाह किसे है। बस ये सब कुछ आसानी से मिलता रहे तो सारा रोना-धोना खत्म। ये तो हुई फिलोसोफिकल बात जो आपने कई बार सुनी होगी। अब चलते हैं असल दुनिया में।

चेन्नई में ज्ञानप्रकाशम नाम के एक शख्स रहते हैं, उम्र है 52 साल। मार्च में इन्हें किसी चोरी के आरोप में जेल में डाल दिया गया था, तब से जेल में ही थे। इन 4-5 महीनों में ज्ञानप्रकाशम जेल में अच्छी तरह रम गए।

प्रतीकात्मक फोटो

जेल में ज्ञानप्रकाशम को दिन में तीन बार खाना, बतियाने के लिए दोस्त सब कुछ टाइम पर मिलता था। कुछ ही दिनों में उन्हें जेल घर जैसा लगने लगा, ज्ञानप्रकाशम को सबकुछ अच्छा लगने ही लगा था कि कुछ दिनों में 29 जून को उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया गया।

घर जाकर नहीं लगा बिलकुल भी मन !

जेल से रिहा होकर ज्ञानप्रकाशम जब घर पहुंचे तो उनके लिए वहां का जीवन आसान नहीं था। उनके पत्नी और बच्चों के दुर्व्यवहार से वो हर दिन परेशान रहने लगे। कुछ ही दिनों में उनका मन वापस जेल लौटने का हुआ, जहां उन्हें दोस्तों से मिलने की और जेल के खाने की तलब मच रही थी। तलब ऐसी हुई कि दिमाग में एक आईडिया दौड़ पड़ा।

प्रतीकात्मक फोटो

फिर चोरी की और वो भी CCTV के सामने…

ज्ञानप्रकाशम ने एक बाइक चुराई और पार्क किए गए वाहनों से पेट्रोल निकालने लगे। ये सब वो जानबूझकर सीसीटीवी कैमरों के सामने करते थे, ताकि वह फिर से गिरफ्तार हो सके।

उन्होंने ऐसा काफी बार किया और एक दिन सोसाइटी के लोगों ने उन्हें पेट्रोल चोरी करते पकड़ा, जिसके बाद लोगों ने उसे पुलिस को सौंप दिया। पुलिस को ज्ञानप्रकाशम ने पूरी कहानी बताई और एक सुखद अंत की तरह उसे फिर से जेल में डाल दिया गया।

COMMENT