भारत-पाकिस्तान के बीच बढ़ता तनाव और पीएम मोदी मेट्रो में बच्चों के कान खींचने में व्यस्त !

Views : 1013  |  0 minutes read

26 फरवरी को भारत ने जब पाकिस्तान के बालाकोट में एक आतंकी कैंप पर हमला किया, विदेश मंत्रालय का आधिकारिक बयान सामने आने के बाद सरकार की प्रशंसा में तारीफों वाले मैसेज की हर तरफ बाढ़ सी आ गई। लोग सरकार के इस फैसले पर छाती ठोकने लगे। लेकिन भारतीय वायु सेना द्वारा किए गए इस बहादुरी के काम के बाद भी सरकार और भारतीय जनता पार्टी समानांतर अपने निर्धारित चुनावी कार्यक्रम में व्यस्त दिखाई दी, कैसे ? आइए डिटेल में बताते हैं।

अगले दिन के पूरे घटनाक्रम को सिलसिलेवार ढंग से समझें, अगले दिन, सुबह 11 बजे पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों के भारतीय हवाई क्षेत्र में घुसकर हमले किए, भारत ने जवाबी कार्रवाई की।

लगभग 11.49 बजे, पाकिस्तान के सैन्य प्रवक्ता ने आधिकारिक रूप से बयान जारी कर कहा कि पाकिस्तानी वायु सेना ने “पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र” के अंदर दो भारतीय लड़ाकू विमानों को मार गिराया है और एक भारतीय पायलट को गिरफ्तार कर लिया गया है। विंग कमांडर अभिनंदन कब्जे में ले लिए गए।

लगभग उसी समय खबर सामने आई थी कि कश्मीर के बडगाम में एक सैन्य विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया है, जिससे कई व्यक्तियों की मौत हो गई है। हालांकि शुरुआती रिपोर्टों में कहा गया था कि दुर्घटना एक तकनीकी खराबी के कारण हुई थी और साथ में यह भी अफवाहें उड़ी कि संभवत: युद्ध से जुड़ा हुआ है।

ऐसे में दोनों देशों के बीच तनाव हर सैकेंड बढ़ने लगा और मीडिया में युद्ध की संभावनाओं पर चर्चाएं शुरू हो गई।

अब जानिए हमारी सरकार उस समय क्या कर रही थी ?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछली रात दिल्ली मेट्रो में बच्चों के कान खींचे और 800 किलो की भगवद गीता का उद्घाटन किया, फिर राष्ट्रीय युवा संसद समारोह में सुबह बिताई, जहाँ उन्होंने खेलो इंडिया ऐप लॉन्च किया।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने नई दिल्ली में एक सुरक्षा बैठक की जब भारत और पाकिस्तान दोनों ने हवाईअड्डों को बंद करने की घोषणा की। इस खानापूर्ति के बाद सिंह छत्तीसगढ़ के लिए निकले जहां बिलासपुर में उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पार्टी कार्यकर्ताओं से आगामी चुनावों में कड़ी मेहनत करने की बात कही।

भले ही पाकिस्तान ने आधिकारिक तौर पर दावा किया था कि उसने दो भारतीय विमानों को मार गिराया है लेकिन नई दिल्ली से जो भी प्रतिक्रियाएं आई वो भी ऑफ-द-रिकॉर्ड सी लगती थी। शाम होने तक सरकार और मीडिया के जरिए यही बताया जाता रहा कि हमारा एक पायलट अभी लापता है। ऐसे में तब तक तो पाकिस्तान में पकड़े गए भारतीय पायलट वीडियो भी इंटरनेट पर फैल गए।

पायलट गिरफ्त में था तब जेटली क्या बोल रहे थे ?

यह वो समय था जब केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली प्रेस से बात कर रहे थे और बोले कि अगर संयुक्त राज्य अमेरिका ओसामा बिन लादेन को पकड़ने के लिए पाकिस्तान में घुस सकता है तो “क्या हम ऐसा नहीं कर सकते?” दुर्भाग्य से उस समय तक यह स्पष्ट हो गया था कि पाकिस्तान ने वास्तव में विंग कमांडर अभिनंदन को पकड़ लिया है।

पाकिस्तान सरकार की पहली आधिकारिक टिप्पणी के कुछ घंटों बाद ही, दोपहर 3.15 बजे, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने मीडिया के सामने एक बयान पढ़ा। उन्होंने कहा कि एक पाकिस्तानी वायु सेना के जेट को भारतीय वायुसेना ने मार गिराया है। लेकिन इसी बीच भारत ने अपना एक जेट खो दिया है और हमारा एक पायलट लापता है।

इसके बाद पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान ने युद्ध के खिलाफ सलाह देने के लिए अपने ही देश और भारत के लिए एक संबोधन दिया।

इसके विपरीत, भारत के प्रधानमंत्री मोदी ने अभी भी भारतीय जनता को संबोधित नहीं किया है। उनकी एकमात्र टिप्पणी मंगलवार की हुई एक राजनीतिक रैली में आई थी, जहां उन्होंने जोर देकर कहा था कि देश अब सुरक्षित हाथों में है।

बाद में दिन में, विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान को यह सुनिश्चित करने की सलाह भी दी कि भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर को कोई नुकसान ना पहुंचे।

COMMENT