शिवकुमार स्वामी कौन थे?

Views : 4198  |  0 minutes read
shiv kumara swami
तुमकुरु में सिद्धगंगा मठ के शिवकुमार स्वामी लिंगायत-वीरशैव विश्वास के श्रद्धेय द्रष्टा थे। कर्नाटक में फेफड़ों के संक्रमण के इलाज के दौरान सोमवार को 111 वर्षीय स्वामी का निधन हो गया आपको बता दें कि वे इससे पहले वेंटिलेटर पर थे।
shivakumara-swami-with-amit-shah
shivakumara-swami-with-amit-shah
1 अप्रैल, 1907 को रामनगर के वीरपुरा गाँव में जन्मे लिंगायत अपनी परोपकारी गतिविधियों के लिए जाने जाते हैं। उन्हें 2015 में तीसरा सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म भूषण और 2007 में कर्नाटक रत्न से सम्मानित किया गया था। उन्हें वर्ष 1965 में कर्नाटक विश्वविद्यालय द्वारा डॉक्टर ऑफ लिटरेचर की उपाधि से भी सम्मानित किया गया था।
Yeddyurappa meets Shivakumara Swamiji
Yeddyurappa meets Shivakumara Swamiji
वे सिद्धगंगा एजुकेशन सोसाइटी के प्रमुख भी थे जो कर्नाटक में 125 शिक्षण संस्थानों को चलाता है। लिंगायत समुदाय में पूजनीय स्वामी के अनुयायियों में कई राजनेता शामिल हैं। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस नेता सोनिया गांधी कई बार उनसे आशीर्वाद के लिए मिल चुके हैं।
पिछले हफ्ते, मुख्यमंत्री कर्नाटक एचडी कुमारस्वामी ने भारत रत्न के लिए इनकी सिफारिश की थी। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने यह भी कहा कि उनकी पार्टी प्रधानमंत्री से अनुरोध करेगी कि वह शिवकुमार स्वामी को पुरस्कार प्रदान करें।
sonia-gandhi
sonia-gandhi
17 जनवरी को पीएम मोदी ने ट्वीट किया था कि परम पावन डॉ, श्री शिवकुमार स्वामीगलु एक उल्लेखनीय व्यक्तित्व हैं और उन्होंने अपनी उत्कृष्ट सेवा के माध्यम से करोड़ों जीवन को सकारात्मक रूप से प्रभावित किया है। उनके शीघ्र स्वस्थ होने और अच्छे स्वास्थ्य के लिए पूरा देश प्रार्थना कर रहा है।
COMMENT