कौन है नागेश्वर राव, जिसको लेकर सीबीआई में हलचल है!

Views : 2520  |  0 minutes read
nageshwar-rao

भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने सीबीआई के अंतरिम निदेशक के रूप में श्री नागेश्वर राव की नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका से खुद को अलग कर लिया है। मुख्य न्यायाधीश का कहना है कि इसे एक अन्य पीठ के समक्ष पेश किया जाए।

एनजीओ कॉमन कॉज और सामाजिक कार्यकर्ता अंजलि भारद्वाज द्वारा सीबीआई की “स्वतंत्रता और स्वायत्तता” को सुरक्षित रखने के लिए दायर याचिका में 10 जनवरी के उस आदेश को चुनौती दी की गई थी जिसमें सीबीआई अधिकारी आलोक वर्मा के कर्तव्यों और जिम्मेदारियों को नागेश्वर को सौंप दिया गया था।

याचिकाकर्ताओं का दावा है कि सीबीआई निदेशक की नियुक्ति में पारदर्शिता की कमी सरकार नियुक्ति प्रक्रिया को प्रभावित कर सकती है।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली चयन समिति 24 जनवरी को नए सीबीआई चीफ की नियुक्ति कर सकती है।

लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और CJI रंजन गोगोई समिति के अन्य दो सदस्य हैं। इस महीने की शुरुआत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली चयन समिति द्वारा आलोक वर्मा को हटाए जाने के बाद आईपीएस अधिकारी एम नागेश्वर राव को सीबीआई का अंतरिम निदेशक नियुक्त किया गया था।

कौन है नागेश्वर राव?

nageshwar-rao
nageshwar-rao

ओडिशा के कार्यकारी के 1986 बैच के अधिकारी राव ने सीबीआई में निदेशक बनने से पहले अपने देश में विभिन्न क्षमताओं में सेवा की है और उन्हें अतिरिक्त निदेशक के रूप में पदोन्नत किया गया था। ओडिशा में उनकी अंतिम जिम्मेदारी रेलवे पुलिस के अतिरिक्त निदेशक के रूप में थी।

दक्षिण भारत में कुछ शाखाओं के साथ चंडीगढ़ शाखा को संभालने में वे नंबर 3 पर थे। राव आंध्र प्रदेश के वारंगल जिले के बोरेनारसपुर गांव के निवासी हैं। उन्होंने उस्मानिया विश्वविद्यालय से पोस्ट ग्रेजुएशन किया जिसके बाद उन्होंने आईआईटी मद्रास में अपना शोध किया।

वह अपने कॅरियर में काफी पहले विवादों में आ गए। ओडिशा में नबरंगपुर जिले के पुलिस अधीक्षक (एसपी) के रूप में उन पर सरकारी स्कूलों के प्रधानाध्यापकों को एक पत्र प्रसारित करने का आरोप लगाया गया था, जिसमें उनसे आग्रह किया गया था कि वे धार्मिक परिवर्तन के खिलाफ छात्रों को हतोत्साहित करें। ये मसला हमेशा से संघ परिवार के करीब माना जाता है।

वर्ष 1998 में, वह ऐसे ही एक और विवाद में उलझे। जिसके परिणाम उन्हें बाद में भुगतने पड़े। बेरहामपुर विकास प्राधिकरण (BeDA) के उपाध्यक्ष के रूप में उन पर फिर से एक सांप्रदायिक रूप से भड़काऊ भाषण देने का आरोप लगाया गया था। मानवाधिकार दिवस पर वक्ता के रूप में उन्होंने कहा कि भारतीय संविधान के लेखक “अल्पसंख्यक समर्थक” थे।

10 दिसंबर 1998 को, “द ह्यूमेन” नामक एक गैर सरकारी संगठन ने सार्वजनिक समारोह का आयोजन किया और उसे एक वक्ता के रूप में आमंत्रित किया। अपने भाषण में उन्होंने कहा कि “मुस्लिम, ईसाई और मार्क्सवादी” मानवाधिकारों के लिए सबसे बड़ा खतरा थे। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दूसरे सरसंघचालक श्री एस। गोलवलकर ने अपनी पुस्तक बंच ऑफ वॉट्स में भी ऐसा ही कुछ कहा था।

पटनायक जो भाषण सुन रहे थे, उन्होंने 1999 की शुरुआत में ओडिशा उच्च न्यायालय में इस तथ्य पर आपत्ति जताई कि एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी ने “भारतीय सेवा (आचरण) नियम” और भारतीय दंड संहिता की धाराओं 295 और 295 ए का उल्लंघन सांप्रदायिक जुनून और घृणा से किया था ।

राव को अपने कामों का परिणाम भी भुगतना पड़ा। राजस्व संभागीय आयुक्त (डीआरसी) और पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) द्वारा पूछताछ में उन्हें दोषी पाया गया और तत्काल बेरहामपुर से बाहर तैनात किया गया। और भी कई गलत निर्णय लेने का आरोप एम नागेश्वर राव पर लग चुके हैं। देखा जाए तो संघ परिवार से उनकी नजदीकियां हैं और इसी कारण उन्हें सीबीआई की रेस में दौड़ाया ज रहा है।

COMMENT