“देश को बांटने वाला सरदार” TIME मैग्जीन में नरेन्द्र मोदी को लेकर और क्या छपा?

0 minutes read

जैसा कि लोकसभा चुनाव 2019 अपने अंतिम चरण पर पहुंच गया है टाइम मैगज़ीन ने 20 मई 2019 के अपने अंक में, ‘इंडियाज़ डिवाइडर इन चीफ’ शीर्षक से प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी पर अपनी कवर स्टोरी की है।

उपन्यासकार और पत्रकार आतिश तासीर द्वारा लिखी गई स्टोरी सवाल खड़े करती है कि क्या दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र “मोदी सरकार के पांच साल और झेल सकता है।”

अपनी स्टोरी में ब्रिटिश पत्रकार ने नरेन्द्र मोदी की तुलना तुर्की के राष्ट्रपति तैय्यप एर्दोआन और ब्राज़ील के जैर बोल्सोनारो से की है। आपको बता दें कि इन दोनों ही बड़े लोगों की छवि पूरी दुनिया में बहुसंख्यक लोगों के हितों की ओर ज्यादा ध्यान रखने वालों की रही है।

स्टोरी में भारत के स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद से शुरू होने वाले इतिहास के बारे में लिखा गया है और नेहरू के प्रधानमंत्रित्व काल से शुरू होने वाले कांग्रेस शासन के कई वर्षों होते हुए मोदी के सत्ता में आने तक की व्याख्या की गई है।

मोदी के कार्यकाल के असंख्य पहलूओं को मैग्जीन में लिखा गया है जिसमें मॉब लिंचिंग द्वारा अल्पसंख्यकों पर हमले को शामिल करने, महिलाओं के मुद्दों पर मोदी के रिकॉर्ड, नोदबंदी जैसा कदम, साध्वी प्रज्ञा ठाकुर की उम्मीदवारी सहित अन्य मुद्दों को शामिल किया गया है।

“ एक राजनेता जो असफल रहा”

मैग्जीन के इस अंश में लिखा गया है कि मोदी के आर्थिक चमत्कार के जमीनी हकीकत की अगर बात करें तो फेल रहा है। और इसके बजाय “जहरीला धार्मिक राष्ट्रवाद का माहौल” देश में बनाया गया है।

कवर स्टोरी के अलावा, टाइम के इस नवीनतम अंक में इयान ब्रेमर द्वारा ‘मोदी द रिफॉर्मर’ शीर्षक से एक और हिस्से को भी जगह दी गई है।

विशेष रूप से, मई 2015 में, मोदी को टाइम पत्रिका के कवर पर दिखाया गया था जिसकी हैडिंग थी ‘वाय मोदी मैटर्स’ यह पीएम के साथ एक इंटरव्यू था। और टैगलाइन थी “दुनिया में भारत को एक वैश्विक शक्ति के रूप में कदम रखने की जरूरत है। एक साल बीत गया है क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहुंचा सकते हैं?

पिछले कुछ दिनों में, अंतरराष्ट्रीय मीडिया सक्रिय रूप से मोदी के प्रधानमंत्री काल और चुनाव में दूसरे कार्यकाल में सत्ता में उनके शॉट पर चर्चा कर रहा है। 14 अप्रैल को, वाल स्ट्रीट जर्नल के संपादकीय बोर्ड ने ‘मोदी रिफोर्म डिसअपोइंटमेंट’ शीर्षक से एक राय प्रकाशित की थी।

इस बीच, द इकोनॉमिस्ट ने 2 मई को ‘अंडर नरेंद्र मोदी, इंडियाज़ रूलिंग पार्टी अ थ्रेट टू डेमोक्रसी’ शीर्षक से एक अंश प्रकाशित किया था। जिसका मतलब होता है कि मोदी राज में लोकतंत्र को खतरा है।

COMMENT

Chaltapurza.com, एक ऐसा न्यूज़ पोर्टल जो सबसे पहले, सबसे सटीक की भागमभाग के बीच कुछ अलग पढ़ने का चस्का रखने वालों का पूरा खयाल रखता है। हम देश-विदेश से लेकर राजनीतिक हलचल, कारोबार से लेकर हर खेल तो लाइफस्टाइल, सेहत, रिश्ते, रोचक इतिहास, टेक ज्ञान की सभी हटके खबरों पर पैनी नजर रखने की कोशिश करते हैं। इसके साथ ही आपसे जुड़ी हर बात पर हमारी “चलता ओपिनियन” है तो जिंदगी की कशमकश को समझने के लिए ‘लव यू जिंदगी’ भी कुछ अलग है। हमारी टीम का उद्देश्य आप तक अच्छी और सही खबरें पहुंचाना है। सबसे अच्छी बात यह है कि हमारे इस प्रयास को निरंतर आप लोगों का प्यार मिल रहा है…।

Copyright © 2018 Chalta Purza, All rights Reserved.