ये रहे खिलाड़ी 2019 लोकसभा चुनाव के मैदान में: कौन जीता और कौन हारा?

Views : 1885  |  0 minutes read

लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों पर आज 23 मई को पूरे देश के लोगों की निगाहें जमी हुई है। ऐसे में मतदाता अपने पसंदीदा उम्मीदवार को जीतते देखना चाहते हैं, अगर बात करें ऐसे उम्मीदवारों की जो पहले देश के लिए खिलाड़ी के रूप में अपनी सेवा दे चुका हो और इस बार चुनाव के मैदान में जनप्रतिनिधि के रूप में लड़ रहा हो। इस बार सत्रहवीं लोकसभा में कई खिलाड़ी अपनी नई पारी शुरू कर रहे हैं, तो कई खिलाड़ी दूसरी बार चुनाव मैदान में है। इस बार लोकसभा चुनावों में क्रिकेटर से लेकर ओलंपियन तक देश के प्रसिद्ध खिलाड़ियों ने जनप्रतिनिधि के रूप में देश सेवा का जिम्‍मा उठाया है। इन खिलाड़ी उम्मीदवारों में राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़, विजेंदर सिंह, गौतम गंभीर और कृष्‍णा पूनिया चुनाव मैदान में है।

तो आइए जानते हैं, चुनावी नतीजों में कौन—कौन खिलाड़ी आमने—सामने रहे और जनता ने उन्हें कितना समर्थन दिया।

सबसे पहले हम बात करते हैं ओलम्पिक पदक विजेता राज्यवर्धन सिंह राठौड़ और कृष्णा पूनिया की, जो जयपुर ग्रामीण से एक—दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़े। इस बार कड़े मुकाबले में राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़ ने कृष्णा पूनिया पर जीत दर्ज करते हुए दूसरी बार लोकसभा में निर्वाचित हुए।

राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़

राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़ ओलंपियन से राजनेता बने हैं। वे पहली बार 2014 में जयपुर ग्रामीण से लोकसभा चुनाव जीत चुके हैं और इस बार भी जनता ने उन्हें पूरा समर्थन दिया है। वह भाजपा का प्रतिनिधित्‍व कर रहे हैं। राठौड़ इस दौरान खेल मंत्री के रूप में अपनी स्वच्छ छवि बनाई है। खेल मंत्री के रूप में राठौड़ ने खिलाडि़यों को कई सुविधाएं मुहैया कराई और इसके नतीजे भी निकलकर सामने आए। राज्‍यवर्धन ने भारतीय आर्मी में कर्नल की भूमिका अदा की। 2005 में राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़ को पद्म श्री अवॉर्ड से सम्‍मानित किया गया था। इसके अलावा उन्‍हें 2004-05 में सबसे बड़े खेल पुरस्‍कार राजीव गांधी खेल रत्‍न पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया।

कृष्‍णा पूनिया

राजनीति में आने से पहले कृष्‍णा पूनिया ने देश के लिए डिस्‍कस थ्रो में कई पदक जीते हैं। उन्होंने लोकसभा में कांग्रेस का प्रतिनिधित्व करते हुए राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़ के सामने चुनाव लड़ा। पूनिया को इस मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा है। पूनिया ने देश को सन 2010 में दिल्‍ली राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक दिलवाया था। वह तीन ओलंपिक्‍स में हिस्‍सा ले चुकी हैं। पूनिया ने एशियाई खेलों में दो बार कांस्‍य पदक जीता है। उन्‍हें 2011 में पद्म श्री अवॉर्ड से भी सम्‍मानित किया गया।

हरियाणा में जन्मी कृष्णा पूनिया ने पिछले साल राजस्‍थान विधानसभा चुनाव में सादूलपुर से जीत दर्ज की थी।

गौतम गंभीर

क्रिकेट विश्व कप 2011 के फाइनल मैच में भारतीय टीम को चैम्पियन बनाने में अहम भूमिका निभाने वाले क्रिकेटर गौतम गंभीर सत्रहवीं लोकसभा में चुनाव मैदान में उतरे। गंभीर भारतीय जनता पार्टी के प्रत्‍याशी के रूप में पूर्वी दिल्‍ली निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव जीत गए हैं। पद्मश्री पदक विजेता और पूर्व भारतीय ओपनर ने दिसंबर 2018 में क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्‍यास लिया। उन्‍होंने अपने 15 साल के लंबे कॅरियर के दौरान 58 टेस्‍ट, 147 एकदिवसीय और 37 टी—20 अंतर्राष्‍ट्रीय मैच खेले हैं। बता दें कि सन 2007 के टी—20 विश्व कप में भी भारतीय टीम को जीत दिलाने में गौतम गंभीर ने अहम भूमिका निभाई थी।

विजेंदर सिंह

भारतीय मुक्‍केबाज विजेंदर सिंह ने बॉक्सिंग रिंग से राजनीति के क्षेत्र में कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में कदम रखा, लेकिन वे लोकसभा चुनाव में एक सफल उम्मीदवार के रूप में अपने कॅरियर की शुरूआत नहीं कर सके। 33 वर्षीय ओलंपिक कांस्‍य पदक विजेता विजेंदर ने दक्षिण दिल्‍ली निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा। उनका मुकाबला भाजपा के रमेश बिधूड़ी से हुआ और वे चुनाव हार गये।

विजेंदर ओलंपिक में पदक जीतने वाले देश के पहले पुरुष मुक्‍केबाज हैं। उन्‍हें 2010 में पद्म श्री पुरस्कार से सम्‍मानित किया जा चुका है। विजेंदर मूलत: हरियाणा के रहने वाले हैं। उनका जन्‍म हरियाणा के कालूवास गांव में हुआ। विजेंदर ने पेशेवर मुक्‍केबाजी में भी बेहतरीन प्रदर्शन किया और वह अब तक कोई मुकाबला नहीं हारे हैं।

कीर्ति आजाद

वर्ष 1983 में क्रिकेट विश्‍व कप विजेता टीम के सदस्‍य रहे कीर्ति आजाद झारखण्ड के धनबाद लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से इस बार कांग्रेस के प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़े। आजाद ने इस वर्ष फरवरी माह में भाजपा का साथ छोड़ कांग्रेस का दामन थामा लिया था। कीर्ति ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत 1993 से की थी। वह मशहूर कमेंटेटर भी रह चुके हैं। वे लोकसभा चुनावों में अपने मुख्य प्रतिद्वंद्वी भाजपा के पशुपतिनाथ से हारे।

इस प्रकार लोकसभा चुनाव 2019 में राज्यवर्धन सिंह राठौड़, गौतम गंभीर को चुनावों जीत मिल है, तो वहीं विजेंद्र सिंह, कृष्णा पूनिया और कीर्ति आजाद को हार का सामना करना पड़ा।

COMMENT