सुरैया अपनी नानी के विरोध की वजह से नहीं बन सकीं देवआनंद की हमसफर, गज़ब थी लव स्टोरी

Views : 4954  |  4 minutes read
Suraiya-Biography

बॉलीवुड में आज ऐसे कई एक्टर्स आ रहे हैं, जो सिंगिंग के क्षेत्र में भी उस्ताद हैं। मगर 40-50 के दशक में ऐसी महिला कलाकार की कल्पना करना बहुत मुश्किल था। उस दौर में एक अदाकारा ऐसी आईं, जिनकी अदाओं में गज़ब की नज़ाकत और आवाज़ में मंत्रमुगध कर देने वाली मौसिकी शामिल थीं। हम बात कर रहे हैं प्रसिद्ध अभिनेत्री और गायिका सुरैया की, जिन्होंने अपने हुस्न और हुनर से हिंदी सिनेमा के इतिहास में एक नई मिसाल कायम कर की। उनका पूरा नाम सुरैया जमाल शेख था। 15 जून को उनकी 93वीं जयंती है। ऐसे में इस खास मौके पर जानते हैं उनके बारे में दिलचस्प बातें…

माता-पिता ने चुना पाकिस्तान तो सुरैया को भाया हिंदोस्तां

‘वो पास रहें या दूर रहें, नुक्ताचीं है गमे दिल’ और ‘दिल ए नादां तुझे हुआ क्या है’ जैसे उनके गाए गीत सुनकर आज भी जहन में सुरैया की तस्वीर उभर आती है। 15 जून 1929 को गुजरावाला, पंजाब में जन्मी सुरैया अपने माता-पिता नूरजहां और खुर्शीद बानो की इकलौती संतान थीं। उन्हें भारत से बड़ा प्यार था। 1947 में देश की आजादी के बाद नूरजहां और खुर्शीद ने पाकिस्तान की नागरिकता ले ली, लेकिन सुरैया तब भी यहीं रहीं।

Suraiya

बतौर बाल कलाकार हुई बॉलीवुड में एंट्री

सुरैया ने कभी भी संगीत की शिक्षा नहीं ली थी, लेकिन आगे चलकर उनकी पहचान एक बेहतरीन अदाकारा के साथ ही एक अच्छी गायिका के रूप में भी बनी। सुरैया ने प्रारंभिक शिक्षा मुंबई के न्यू गर्ल्स हाई स्कूल से पूरी की। इसके साथ ही वह अपने घर पर ही कुरान और फारसी की शिक्षा भी लिया करती थी। साल 1937 में आई फिल्म ‘उसने सोचा था’ के ज़रिये सुरैया ने बतौर बाल कलाकार बॉलीवुड में अपना डेब्यू किया था।

शूटिंग देखने गईं और बन गईं हीरोइन

सुरैया को अपना सबसे पहला बड़ा काम अपने चाचा जहूर की मदद से मिला था। जहूर उन दिनों फिल्म इंडस्ट्री में बतौर खलनायक अपनी पहचान बना चुके थे। दरअसल साल 1941 में स्कूल की छुट्टियों के दौरान एक बार सुरैया मोहन स्टूडियो में फिल्म ‘ताजमहल’ की शूटिंग देखने गयी थीं। वहां उनकी मुलाकात फिल्म के निर्देशक नानु भाई वकील से हुई, जिन्हें सुरैया में फिल्म इंडस्ट्री का एक उभरता हुआ सितारा दिखाई दिया था।

suraiya

नौशाद ने पहचाना सिंगिंग टैलेंट

नानूभाई ने उसी वक्त सुरैया को फिल्म के किरदार मुमताज महल के लिए चुन लिया। वहीं आकाशवाणी के एक कार्यक्रम के दौरान संगीत सम्राट नौशाद ने जब सुरैया को गाते सुना तब वह उनके गाने के अंदाज से काफी प्रभावित हुए। नौशाद ने अपने निर्देशन में कारदार साहब की फिल्म ‘शारदा’ में सबसे पहले सुरैया को गाने का मौका दिया। इस बीच सुरैया को महबूब खान की ‘अनमोल घड़ी’ में भी काम करने का मौका मिला।

नरगिस के लिए बन गईं बड़ा कॉम्पिटीशन

हांलाकि सुरैया फिल्म में सहअभिनेत्री थी लेकिन फिल्म के एक गाने ‘सोचा था क्या क्या हो गया’ से वह बतौर प्लेबैक सिंगर श्रोताओं के बीच अपनी पहचान बनाने में सफल रही। साल 1949-50 में सुरैया के सिने कॅरियर में एक नया मोड़ आया और वो अपनी प्रतिद्वंदी अभिनेत्री नरगिस और कामिनी कौशल से भी आगे निकल गईं। इसका मुख्य कारण यह था कि सुरैया अभिनय में बाज़ीगर होने के साथ-साथ गाने भी गाया करती थीं।

suraiya and dev

फिल्म के सैट पर हुआ था प्यार

सुरैया के पूरे सिने कॅरियर में उनकी जोड़ी फिल्म अभिनेता देवानंद के साथ खूब जमी। देवआनंद के साथ सुरैया की फिल्में जीत (1949) और दो सितारे (1951) दर्शकों के बीच काफी प्रसिद्ध रहीं। बता दें कि ये फिल्में इसलिए भी यादगार रहीं क्योंकि फिल्म ‘जीत’ के सेट पर ही देवआनंद ने सुरैया से अपने प्रेम का इजहार किया था। खुद देवआनंद ने अपनी आत्मकथा रोमांसिंग विद लाइफ में सुरैया के साथ अपने रिश्ते की बात कबूली है।

देव और सुरैया की रोमांटिक लव स्टोरी

सुरैया और देवानंद की जोड़ी वाली फिल्मों में ‘विधा जीत’, ‘शायर’, ‘अफसर’, ‘नीली’ जैसी फिल्में भी शामिल हैं। उन दिनों जब वो शूटिंग कर रहे थे, तो एक गाने की शूटिंग के दौरान देवानंद और सुरैया की नाव पानी में पलट गई थी। तब देवानंद ने ही सुरैया को डूबने से बचाया था। इसके बाद सुरैया देवानंद से बेइंतहा मोहब्बत करने लगीं थीं, लेकिन सुरैया की नानी की इजाजत न मिलने पर ये जोड़ी अपनी जिंदगी में आगे नहीं बढ़ पाई।

dev and suraiya

प्रधामनंत्री नेहरू भी थे उनके टैंलेंट के कायल

साल 1963 में फिल्म ‘रुसतम सोहराब’ के बाद सुरैया ने खुद को फिल्म इंडस्ट्री से दूर कर दिया। लगभग तीन दशक तक अपनी जादुई आवाज और अभिनय से दर्शकों का दिल जीतने वाली सुरैया ने 31 जनवरी 2004 को इस दुनिया को अलविदा कह दिया। देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने भी सुरैया की महानता के बारे में कहा था कि उन्होंने मिर्जा गालिब की शायरी को आवाज देकर उनकी आत्मा को अमर बना दिया है।

COMMENT