बर्थ एनिवर्सरी: अपने बयानों से अक्सर सुर्खियों में रहते थे शिवसेना पार्टी के संस्थापक बाल ठाकरे

Views : 8786  |  4 minutes read
Bala-Saheb-Thakrey

एक समय उत्तर भारतीयों से नफ़रत से लेकर वेलेंटाइन डे का विरोध करने वाले और राजनीतिक दल शिव सेना प्रमुख रहे बाल ठाकरे का जीवन विवादों से भरा रहा। हिटलर की तारीफ कर वे मुस्लिम कट्टरपंथियों के निशाने पर आ आए थे। उन्होंने देश के कई नामचीन लोगों पर जुबानी हमले किए। 23 जनवरी को ठाकरे की 96वीं जयंती है। इस मौके पर हम आपको बाल ठाकरे से जुड़े विवादों के बारे में बताने जा रहे हैं…

साल 2008 में बाला साहेब ठाकरे ने लिखा था कि इस्लामी आतंकवाद बढ़ रहा है और हिंदू आतंकवाद इसका मुकाबला करने का एकमात्र तरीका है। हमें भारत और हिंदुओं की रक्षा के लिए आत्मघाती बम दस्ते की जरूरत है। उन्होंने हिंदुओं को ‘हिंदुओं के लिए एक हिंदुस्तान’ देखने और इस देश में इस्लाम को अपने घुटनों तक लाने के लिए एकजुट होने के लिए कहा था।

bal thackeray

विभाजन और शासन के आधार पर राजनीति

बाल ठाकरे विवादों में तब आए जब उन्होंने मुंबई में रहने वाले गुजराती, मारवाड़ी और दक्षिण भारतीयों पर नौकरियों को छीनने और मुंबई वासियों को आजीविका के स्रोत से वंचित करना आरोप लगाया और उनको टारगेट भी किया। उनकी पार्टी शिवसेना ने भारत की वित्तीय राजधानी में घुसपैठ के लिए उत्तरी भारतीयों, खासकर उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों को परेशान किया और उनका विरोध किया। 1960 और 70 के दशक में शिवसेना ने दक्षिण भारतीयों को यंदा गुंडू और लुंगी वाले जैसे अपमानजनक नामों से बुलाया। ठाकरे के नेतृत्व में दक्षिण भारतीय फिल्में लगाने वाले सिनेमा घरों और उडिपी रेस्तरां पर हमले नियमित हो गए थे।

Bala-Saheb-Thackeray

एडॉल्फ हिटलर की कई बार प्रशंसा की

बाल ठाकरे जर्मन स्वायत्त एडॉल्फ हिटलर की प्रशंसा करके कई बार विवादों में रहे। उन्होंने एक पत्रिका में कहा कि मैं हिटलर का एक महान प्रशंसक हूं और मुझे ऐसा कहने में शर्मिंदगी नहीं है। मैं यह नहीं कहता कि मैं उन सभी विधियों से सहमत हूं, लेकिन वह एक अद्भुत आयोजक और वक्ता थे। मुझे लगता है कि मेरे और उनमें कई चीजें समान हैं। भारत को एक तानाशाह की जरूरत है जो उदारतापूर्वक शासन करेगा, लेकिन लोहे के हाथ से।

हालांकि, 29 जनवरी 2007 को उन्होंने मीडिया रिपोर्ट में अपना रुख साफ़ कर दिया। उन्होंने कहा कि हिटलर ने बहुत क्रूर और बदसूरत चीजें कीं। लेकिन वह एक कलाकार था और मैं उससे प्यार करता हूं। उसके पास पूरे देश को चलाने की शक्ति थी, उसके साथ भीड़ थी। आपको सोचना होगा कि उसके पास क्या जादू है। वह एक चमत्कार था… यहूदियों की हत्या गलत थी। लेकिन हिटलर के बारे में अच्छा हिस्सा यह था कि वह एक कलाकार था। वह एक साहसी था। उसमें अच्छे गुण और बुरे दोनों थे। मेरे पास अच्छे गुण और बुरे भी हो सकते हैं।

bal thackeray

शाहरूख पर राष्ट्रद्रोह का केस चलाने की मांग की

मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने कार्टूनिस्ट असीम त्रिवेदी का समर्थन किया, जिन्हें राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। बाल ठाकरे उनके समर्थन में आए और राजद्रोह कानून का विरोध किया और बॉलीवुड के सुपरस्टार शाहरुख खान के खिलाफ विरोध किया। ठाकरे ने पार्टी मुखपत्र सामाना में एक संपादकीय में लिखा था कि (अपने कार्टून के माध्यम से) त्रिवेदी ने संसद में सड़कों को चित्रित करने की कोशिश की और सरकार ने उन पर राजद्रोह का आरोप लगाया। सरकार को यह घोषणा करनी चाहिए कि वंदे मातरम् को गाए जाने से इनकार करने वाले कितने लोगों पर राजद्रोह का आरोप लगाया गया। पुलिस ने शाहरुख खान जैसे लोगों के खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया जो राष्ट्रीय ध्वज का अपमान करते हैं।

पाकिस्तान को भारत में नहीं खेलने की धमकी दी

बाल ठाकरे लंबे समय तक भारत-पाकिस्तान क्रिकेट संबंधों का विरोध करने के लिए चर्चित रहे। उन्होंने भारत में कहीं भी दोनों देशों के बीच मैचों की अनुमति नहीं दी थी। पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ में ठाकरे ने उस वक़्त के गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे को अतीत को न भूलने और पाकिस्तान के साथ क्रिकेट न खेलने की नसीहत दी थी।उन्होंने लिखा था कि श्री शिंदे, आप पाकिस्तान के साथ क्रिकेट खेलने का यह अपरिपक्व कदम क्यों उठा रहे हैं? आप कैसे कह सकते हैं कि हमें अतीत को भूलना चाहिए?

bal thackeray

वेलेंटाइन डे का विरोध करते थे ठाकरे

बाल ठाकरे और शिवसेना वेलेंटाइन-डे समारोहों का विरोध किया करते थे, हालांकि उन्होंने इसके भारतीय विकल्प के लिए समर्थन का संकेत दिया। 14 फरवरी, 2006 को शिवसेना के सदस्यों के एक समूह ने उन महिलाओं पर हमला किया, जो मुंबई में वेलेंटाइन दिवस मना रहे थे। बाद में बाला साहेब ने शिव सैनिकों द्वारा हिंसक हमलों के लिए निंदा की और माफ़ी मांगी। साल 2008 में बाल ठाकरे ने बिहारियों के बारे में ‘एक बिहारी, सौ ​बीमारी’ जैसी टिप्पणी की थी। बाद में इसके लिए उन्हें कड़ी आलोचना भी झेलनी पड़ी थी।

balasaheb-thackeray with atal bihari

सानिया मिर्जा के ड्रेसिंग सेन्स पर की टिप्पणी

वर्ष 2010 में बाला साहेब ठाकरे ने कहा कि सानिया मिर्जा अपने खेल के लिए फेमस नहीं हैं, बल्कि अपने तंग कपड़ों और लव अफेयर्स के लिए पसंद की जाती हैं। अगर वो भारत के लिए खेलना ही चाहती थीं तो उन्हें किसी भारतीय से शादी करनी चाहिए थी, पाकिस्तानी से नहीं। ठाकरे की इस टिप्पणी को मिली-जुली प्रतिक्रिया मिलीं।

Read Also: कामुकता के प्रति अधिक खुले रवैये की वजह से हमेशा विवादों में रहे थे ओशो

COMMENT