डिप्टी ​कमिश्वर शौकत ऐजाज की ड्यूटी के दौरान की यह तस्वीर क्यों हो रही वायरल?

Views : 3495  |  0 minutes read
chaltapurza.com

आजकल सोशल मीडिया पर वायरल किसी घटना का वीडियो या फोटो लोगों को तुरंत प्रसिद्धि दिलवा सकता है, तो कई बार इस पर शर्मिं​दग़ी भी उठानी पड़ सकती है। सोशल मीडिया के इस जमाने में कुछ भी करने से पहले लाख बार सोच लेना चाहिए, नहीं तो बड़ा महंगा पड़ सकता है। ऐसे ही कुछ हुआ एक सरकारी अधिकारी के साथ। दरअसल, सोशल मीडिया पर जम्मू-कश्मीर के रामबन जिले के डिप्टी कमिश्नर (डीसी) की एक तस्वीर तेजी से वायरल हो रही है। इस फोटो में डीसी शौकत ऐजाज भट एक पालकी पर बैठे हुए हैं, जिसे पांच लोग उठाकर चल रहे हैं। सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही इस तस्वीर के लिए लोग डीसी भट को ताने मार रहे हैं।

chaltapurza.com

सफाई में क्या बोले डीसी शौकत ऐजाज?

मीडिया जानकारी के अनुसार, डिप्टी कमिश्नर शौकत ऐजाज भट इन दिनों रामबन जिले के दुर्गम इलाके के उन गांवों का दौरा कर रहे हैं, जहां आज तक कोई भी सीनियर अफसर नहीं पहुंचा है। पालकी में जाने के बारे में उन्होंने सफाई में कहा कि वह निश्चित नहीं थे कि उन रास्तों को तय कर पाएंगे जिस पर चलते कई लोग पूर्व में बीमार पड़ गए थे।

Read More: क्या होती है ‘टेरिटोरियल आर्मी’ जिसके लिए पेट्रोलिंग करेंगे एमएस धोनी?

वहीं, ग्रामीण और कर्मचारी डीसी शौकत ऐजाज भट के इस दौरे को दूसरी तरह से देख रहे हैं। उनका कहना है कि डीसी भट ऐसे पहले अधिकारी हैं जिन्होंने उनके गांव का दौरा किया है। उधर, डिप्टी कमिश्नर भट ने कहा कि ट्रांसपोर्ट के दूसरे माध्यम नहीं होने के चलते लोग मुझे पालकी पर बैठाकर गांव तक ले गए थे। उन्होंने आगे कहा कि मैं 58 साल का हूं और मुझे कुछ स्वास्थ्य संबंधी दिक्कते हैं, जिसकी वजह से मैंने यह निर्णय लिया था।

20 किमी दूर तक जाकर ग्रामीणों की सुनीं समस्या

अगर स्थानीय कर्मचारियों की बात मानें तो उनके मुताबिक़, डीसी भट और अन्य कर्मचारियोंं ने रामबन से 20 किलोमीटर दूर तक के गांवों का दौरा किया था। ग्रामीणों ने भी उनसे पालकी में चलने का अनुरोध किया था। उन्होंने बताया कि तमाम असुविधाओं के बावजूद डीसी रामबन शौकत ऐजाज भट ने उनके क्षेत्र का दौरा किया और यहां लोगों की समस्याएं जानकर उनका जल्द हल निकालने की बात कही।

COMMENT