अक्षय कुमार को प्रधानमंत्री मोदी से ये सवाल भी पूछ ही लेने चाहिए थे!

0 minutes read

तो, अक्षय कुमार ने प्रधान मंत्री मोदी का इंटरव्यू लिया है। दूसरे शब्दों में कहें तो अक्षय कुमार ने प्रधान मंत्री मोदी के साथ एक “इनफोर्मल चैट ” की। एक इनफोर्मल चैट जो एक घंटे और नौ मिनट तक चली उसे देश के लगभग हर न्यूज़ चैनल पर चलाया गया चुनाव के समय ऐसे नॉन पॉलिटिकल इंटरव्यू थोड़े कम ही जमते हैं।

अक्षय कुमार ने कहा कि वह चाहते थे कि इंटरव्यू राजनीतिक ना हो और हमें पता चले कि एक व्यक्ति के रूप में हमारा प्रधानमंत्री कैसे हैं वो हमें पता चल सके।
फिलहाल लोग शायद इस बारे में जानना नहीं चाहते हैं। खासकर चुनावों के दौरान तो नहीं। पीएम की एक्सरसाइज, खाना और नींद के बारे में तथाकथित पत्रकारों द्वारा लिए इंटरव्यू में कवर पहले ही कर लिया गया है ।एबीपी न्यूज, टाइम्स नाउ, रिपब्लिक टीवी, जी न्यूज जैसे चैनल्स पर ऐसे सवाल पहले ही पूछ लिए गए हैं।
लोग क्या जानना चाहते हैं? लोग जानना चाहते हैं कि क्यों बेरोजगारों को काम नहीं मिल रहा है, क्यों कृषि संकट बिगड़ रहा है, क्यों घृणित अपराध सभी उच्च स्तर पर हैं, क्यों भीड़ द्वारा 160 से अधिक हमले हुए और इसमें कम से कम 90 लोग मारे गए।

लेकिन नहीं। अक्षय कुमार ने सवालों का सिलसिला शुरू किया “मोदीजी क्या आप आम खाते हैं? और आम कैसे खाते हैं?

आम पर पूछे गए इतने हार्ड सवाल के बाद अक्षय ने अलग सवाल ऐसा किया जो तो कुछ ज्यादा ही कठिन था। अक्षय ने पूछा कि मैंने कहीं पढ़ा है कि आप एक संन्यासी और एक सैनिक बनना चाहते थे।

सवाल को अराजनीतिक रूप से सामने रखते हुए अक्षय पीएम से पूछ सकते थे कि उन्होंने क्या देखा और सन्यास लेते समय उन्होंने क्या अनुभव किया।
अक्षय ने मोदीजी से पूछा कि वह अपने गुस्से को कैसे मेनेज करते हैं। अच्छा सवाल। 1.3 बिलियन लोगों के देश का नेतृत्व करने वाले व्यक्ति होने के नाते, क्रोध के बिना एक शांत होना महत्वपूर्ण है। लेकिन इस पर मोदी जी ने कहा कि “जब कोई मेरे पास समस्या लेकर आता है तो मैं प्रशंसा के माध्यम से मदद करता हूं, न कि उन्हें झुठलाने या छोटा दिखाने से”

हां लेकिन विपक्षी पार्टियों पर हमला करते समय आपका स्नेह और ये प्यार क्यों नहीं दिखाई देता? पिछले पांच वर्षों में पीएम द्वारा किए गए राजनीतिक भाषणों पर विशेष रूप से विपक्ष द्वारा लक्षित एक बहुत अलग कहानी बताती है। कांग्रेस पार्टी की तुलना पाकिस्तान से करना, यह बताते हुए कि दोनों भारत के लिए एक जैसी बातें चाहते थे। डिस्लेक्सिया के बारे में मज़ाक उड़ाना।

मेरी विपक्ष के नेताओं के साथ अच्छी दोस्ती: पीएम मोदी

अब विपक्ष के सवाल पर, मोदीजी ने कहा कि विपक्ष के साथ उनके सभी मतभेदों के बावजूद, वह अभी भी उनके साथ अच्छे संबंध बनाए हुए हैं। तो विपक्षी नेताओं की तरफ से पीएम का पसंदीदा तोहफा क्या है? वैसे उनका कहना है कि ममता बनर्जी अभी भी उन्हें हर साल कुर्ता और मिठाई भेजती हैं।

लेकिन एक गंभीर नोट पर, हालांकि, राजनीतिक हमलों और कीचड़ उछालने में न केवल वृद्धि हुई है बल्कि कई लोगों ने भी इसके खिलाफ आवाज उठाई है। वास्तव में, हाल ही में पिछले सप्ताह की तरह, 66 पूर्व नौकरशाहों ने राष्ट्रपति कोविंद को राजनीतिक प्रवचन और भाषणों के बारे में अपनी चिंताओं के बारे में लिखा।
इसलिए शायद, अधिक महत्वपूर्ण सवाल यह होगा कि पीएम विपक्षी नेताओं के साथ इस तरह के अच्छे संबंध कैसे बनाए रखते हैं।

आपके बैंक खाते में कितना पैसा, पीएम मोदी?

इसके बाद, अक्षय ने पीएम से एक बहुत ही सीधा सवाल पूछा। ये था कि “वर्तमान में उनके बैंक खाते में कितने पैसे थे?”

इस बारे में पीएम का जवाब लगभग चार मिनट लंबा था … और इसमें कहानियाँ शामिल थीं कि कैसे उन्होंने अपने पूर्व कर्मचारियों को पैसे दिए, और कैसे उन्होंने कभी भी अपने पास मौजूद पैसे बैंक खाते में नहीं रखे लेकिन आखिरकार उसने महत्वपूर्ण सवाल का जवाब दिया।

नींद और फैशन स्टेटमेंट पर पीएम मोदी

इसके बाद, अक्षय ने मोदीजी से पूछा कि वे कितना सोते हैं? मोदीजी का जवाब था, कि वह केवल रात में 3-4 घंटे सोते हैं। उन्होंने कहा कि उनके अच्छे दोस्त बराक ओबामा भी उनके बारे में पूछते थे। लेकिन क्या दिलचस्प होगा अगर अक्षय ने पूछा होता कि मोदीजी, क्या आप इतने कम सोते हैं क्योंकि आप देश के लिए इतनी मेहनत करते हैं, या क्या आप भारत में मानव अधिकारों के उल्लंघन के बुरे सपनों के कारण सो नहीं पा रहे हैं क्योंकि NCRB के अनुसार, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सिर्फ 2015 के बाद से भारत में 165 से ज्यादा भीड़ के हमले और इसमें 90 लोगों की जानें गई हैं।

लेकिन इस तरह की असहज चीजों के बारे में क्यों बात करें, जब हम मोदीजी के फैशन सेंस के बारे में बात कर सकते हैं। अक्षय का अगला सवाल मोदीजी के फैशन स्टेटमेंट के बारे में था। लेकिन शायद अगला सवाल यह हो सकता है कि मोदीजी ने अभी भी बेरोजगारी के बारे में एक बयान क्यों नहीं दिया है, जो कि हर समय उच्च स्तर पर है, या उन रिपोर्टों के बारे में जो सरकार बढ़ती बेरोजगारी के आंकड़ों के बारे में दबाने की कोशिश कर रही थी?

अन्य सवाल जो अक्षय को पीएम मोदी से पूछने चाहिए थे

शायद, बॉलीवुड के खिलेड़ी को पीएम मोदी से इस बारे में पूछना चाहिए था कि वे अपने ट्विटर हैंडल से उन लोगों को फोलो करते हैं जो घृणा और अल्पसंख्यक विरोधी भावना के लिए जाने जाते हैं। जिसमें एक हैंडल ऐसा भी शामिल है जिसने पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या को अच्छी तरह से योग्य कुत्ते की मौत” कहा।
और फिर अक्षय ने मोदीजी को कुछ मीम दिखाए। सभी में मोदीजी का महिमामंडन किया गया था और ऐसा लगा कि वे सभी भाजपा समर्थक पेज से लिए गए हैं। लेकिन मीम के दौरान नोटबंदी और जीएसटी के माहौल के बारे में पूछना भूल गए होंगे।

इससे पहले कि हम ये आर्टिकल खत्म करें हमने कुछ और सवाल तैयार किए हैं जिसके बारे में अक्षय मोदी जी से पूछ सकते थे।

अब जब जावेद हबीब भाजपा में शामिल हो गए हैं, तो क्या आप मेकओवर के लिए उनसे सर्विस लेंगे?

मोदी जी, आप के माता जी से मिलने कैमरा लेकर क्यों जाते हो?

मोदीजी, क्या आप विवेक ओबेरॉय की बायोपिक में विवेक का किरदार निभाएंगे?

मोदीजी, आयरन थ्रोन पर कौन बैठेगा?

मोदीजी … अगर आप सुपरहीरो होते तो आप कौन होते?

मोदीजी – थेपला या ढोकला?

मोदी जी- थेनोस एंड गेम में किस एवेंजर की जान लेगा?

COMMENT

Chaltapurza.com, एक ऐसा न्यूज़ पोर्टल जो सबसे पहले, सबसे सटीक की भागमभाग के बीच कुछ अलग पढ़ने का चस्का रखने वालों का पूरा खयाल रखता है। हम देश-विदेश से लेकर राजनीतिक हलचल, कारोबार से लेकर हर खेल तो लाइफस्टाइल, सेहत, रिश्ते, रोचक इतिहास, टेक ज्ञान की सभी हटके खबरों पर पैनी नजर रखने की कोशिश करते हैं। इसके साथ ही आपसे जुड़ी हर बात पर हमारी “चलता ओपिनियन” है तो जिंदगी की कशमकश को समझने के लिए ‘लव यू जिंदगी’ भी कुछ अलग है। हमारी टीम का उद्देश्य आप तक अच्छी और सही खबरें पहुंचाना है। सबसे अच्छी बात यह है कि हमारे इस प्रयास को निरंतर आप लोगों का प्यार मिल रहा है…।

Copyright © 2018 Chalta Purza, All rights Reserved.