अब व्हाट्सएप की निजता नीति का यूरोपीय उपभोक्ता संगठन बीईयूसी ने भी किया विरोध

Views : 697  |  3 minutes read
Europe-Opposed-WhatsApp-Policy

भारत में व्हाट्सएप की नई निजता नीति के लगातार विरोध के बाद अब ब्रिटेन के आठ देशों के यूरोपीय उपभोक्ताओं का अधिकार समूह बीईयूसी ने कंपनी की नीति का विरोध किया है। बीईयूसी ने कहा है कि इंस्टेंट मैसेजिंग एप व्हाट्सएप अपने उपयोगकर्ताओं पर निजता नीति स्वीकार करने के लिए अनुचित रूप से दबाव बना रहा है। संगठन का आरोप है कि जिस तरह से कंपनी ने अपनी नीतियों में बदलाव किया है, वह पारदर्शी नहीं है और यूजर्स उसे आसानी से समझ भी नहीं सकते। व्हाट्सएप की नई निजता नीति से परेशान होकर काफी यूजर्स अब सिग्नल और टेलीग्राम जैसे एप्स पर जा रहे हैं।

यूजर्स पर संदेशों को स्वीकार करने का दबाव बना रही कंपनी

यूरोपीय उपभोक्ता संगठन बीईयूसी के महानिदेशक एम गोयेंस ने कहा कि व्हाट्सएप पिछले कुछ महीने से अपनी नई शर्तों और निजता नियमों को स्वीकारने के लिए अपने यूजर्स पर आक्रामक तरीके से पॉप अप संदेशों को स्वीकार करने का दबाव बना रहा है। एप के उपयोगकर्ताओं को लगातार ये कहा जा रहा है कि यदि वे कंपनी की नई नीति को स्वीकार नहीं करेंगे तो एप तक उनको पहुंच नहीं दी जाएगी। मामले को गंभीरता से लेते हुए बीईयूसी ने आयोग से इसकी शिकायत की है।

वहीं, दूसरी तरफ व्हाट्सएप ने भी अपने एक बयान में कहा है कि यह शिकायत गलतफहमी की वजह से की गई है। कंपनी के मुताबिक, उसकी अपडेट नीति में कहीं भी उपयोगकर्ता की निजता के अधिकार का उल्लंघन नहीं होता। आपको जानकारी के लिए बता दें कि भारत में भी व्हाट्सएप अपनी नई निजता नीति को लागू करने के लिए अड़ा रहा। बाद में मामला दिल्ली हाईकोर्ट पहुंच गया। इसके इतर भारत के नए आईटी नियमों को लागू करने से भी कंपनी से बचने की कोशिश की, लेकिन आखिरकर उसने नये नियमों का पालन करने की हांमी भर ली है।

Read: यूजर्स जल्द एक ही नंबर से चार डिवाइस में चला पाएंगे व्हाट्सएप, आप भी कर सकते हैं टेस्टिंग

COMMENT