National Sports Day: खेल के मैदान में आपका हौंसला बुलंद करेंगे ये मोटिवेशनल मैसेज, पढ़िए…

Views : 976  |  0 minutes read

खेल जगत में आज का दिन बेहद खास माना जाता है। 29 अगस्त को राष्ट्रीय खेल दिवस के रुप में मनाया जाता है। देश के महान हॉकी खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद का जन्मदिन भी आज ही के दिन आता है। मेजर ध्यानचंद का नाम खेलों की दुनिया में बेहद सम्मानपूर्वक लिया जाता है। ध्यानचंद ने भारत को ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक दिलवाया था। जिसके बाद भारत को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिल पाई। उन्ही के सम्मान में देश में 29 अगस्त का दिन खेल दिवस के रुप में मनाया जाता है। पढ़िए, खेल के मैदान में मोटिवेट करने वाले ये मोटिवेशनल मैसेज।

1.खेल जहा जंग है, तो हुनर वहां तलवार।

शीश, कबंध बट जाए, करो ऐसा वार।।

 

2.सूने पड़े हैं साहब, मोहल्लों के पार्क

क्योंकि पार्कों की रौनक बच्चे,

अभी मोबाइल गेम्स में व्यस्त हैं।

 

3.जो कहते थे कि सिर्फ घर संभालना है औरतों का काम

देखो किस तरह आज बेटिया भी कर रही खेलों में विश्व में नाम

 

4.यह आसमान भी आएगा जमीन पर

बस इरादों में जीत की गूंज होनी चाहिए

 

5.हार या जीत तो सिर्फ एक वक़्त होगा

पर खेलने से आजीवन हमारा शरीर स्वस्थ होगा।

 

6.हार या जीत को दिल से ना लगाना।

सब कुछ भुला के बस खेलते जाना।।

 

7.हार भी जाओ तो ग़म ना करो

फिर से खेलो मगर हौसला कम ना करो।

 

8.खेलने के फायदे सबको समझना चाहिए

माँ-बाप को बच्चों को खेलने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए।

 

9.खेल कर ही स्वस्थ तन और मन पायेगा

वरना शरीर का ढांचा बिगड़ जायेगा।

 

10.फिर नहीं मिलेंगे खेलने के मौके

बच्चों को खेलने दें उन्हें ना रोकें।

 

11.खेलों का महत्व समझती हैं नानी-दादी

इसीलिए उस जमाने में खेलने की थी आज़ादी।

 

12.खेल-कूद है स्वास्थ्य का मूल

इनमें भाग लेकर बनाओ जीवन अनूकुल।

 

13.स्मार्टफोन लाते हैं केवल बर्बादी

इसलिए बच्चों को दे बाहर खेलने की आज़ादी।

 

14.खेल-कूद का करो विचार

यह देता है स्वस्थ्य जीवन जीने का अधिकार।

 

15.आज के समय में दिख रहा है खेल-कूद का आभाव

यही कारण है कि युवाओं में नही दिख रहा सेहतमंदी का प्रभाव।

 

16.जैसे-जैसे हो रहा है खेल-कूद की प्रवृति का लोप

वैसे-वैसे दिख रहा है रोगो का स्वास्थ्य पर कोप।

 

17.खेलने कूदने का लो संकल्प

स्वस्थ्य रहने का है यही विकल्प।

COMMENT