अपनी ही सरकार को चुनौती देकर राजस्थान के सबसे युवा सीएम बने थे मोहन लाल सुखाड़िया

Views : 5386  |  4 minutes read
Mohan-Lal-Sukhadia-Bio

राजस्थान की राजनीति ने एक ऐसा दौर भी देखा जब यहां लगातार 17 साल तक कांग्रेस की सरकार सत्ता में रहीं और एक ही चेहरा मुख्यमंत्री के पद पर रहा था। यह चेहरा था मोहन लाल सुखाड़िया। जब उन्होंने एक के बाद एक चुनाव जीतने की झड़ी लगा दी तो दिल्ली तक हर कोई उन्हें जानने लगा था। जी हां, सुखाड़िया राजस्थान के प्रसिद्ध राजनेताओं में से एक थे। सुखाड़िया को ‘आधुनिक राजस्थान का निर्माता’ भी कहा जाता है। दिलचस्प बात यह है कि सुखाड़िया सबसे लम्बे समय तक राजस्थान के मुख्यमंत्री रहे। 31 जुलाई को मोहन लाल सुखाड़िया की 106वीं जयंती है। ऐसे में इस ख़ास मौके पर जानते हैं उनके जीवन से जुड़ी अहम बातें…

Mohan-Lal-Sukhadia-

नेताजी और सरदार पटेल के विचारों से हुए थे प्रभावित

मोहन लाल सुखाड़िया का जन्म 31 जुलाई, 1916 राजस्थान के झालावाड़ जिले में एक जैन परिवार में हुआ था। उन्होंने अपनी शुरूआती पढ़ाई उदयपुर से की और उसके बाद बॉम्बे से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा किया। मुंबई में रहने के दौरान सुखाड़िया भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के महान क्रांतिकारी नेताजी सुभाष चंद्र बोस और सरदार वल्लभभाई पटेल के विचारों से बहुत प्रभावित हुए थे। बॉम्बे से राजस्थान लौटकर युवा सुखाड़िया ने एक इलेक्ट्रिकल शॉप खोलीं, जहां वे अपने दोस्तों के साथ ब्रिटिश राज के बारे में खूब चर्चा किया करते थे।

जय नारायण व्यास की सरकार में वित्त मंत्री रहे

राजस्थान में वर्ष 1952 में जय नारायण व्यास की सरकार सत्ता में थी। व्यास सरकार के मंत्रिमंडल में मोहन लाल सुखाड़िया को वित्त मंत्री के पद पर काबिज किया गया। राम राज्य परिषद के 22 सदस्यों के कांग्रेस में चले जाने के कारण जय नारायण व्यास को विधानसभा में फिर से विश्वास मत हासिल करना पड़ा था। इसी दौरान उन्हीं की सरकार का एक युवा उनके सामने खड़ा हो गया, ये थे मोहन लाल सुखाड़िया।

वोटिंग के परिणाम आने पर हर कोई हैरान था, क्योंकि मोहन लाल सुखाड़िया ये विश्वास मत 8 वोट से जीत गए थे। इसके बाद वो राजस्थान के सबसे युवा मुख्यमंत्री बने और 17 साल तक अपना राज कायम रखा। सुखाड़िया 8 जुलाई, 1971 तक लगातार राज्य के मुख्यमंत्री पद पर काबिज रहे। उस समय सुखाड़िया को पूरे देश में दूसरे सबसे लंबे समय तक सत्ता पर बने रहने वाले मुख्यमंत्री बनने का गौरव मिला। साल 1982 में 2 फ़रवरी के दिन राजस्थान की राजनीति के पुरोधा मोहन लाल सुखाड़िया का बीकानेर में स्वर्गवास हो गया।

Read Also: भारत की संसद में लगातार 50 साल बैठने का रिकॉर्ड है बाबू जगजीवन राम के नाम

COMMENT