National Milk Day: ‘मिल्कमैन’ डॉ. वर्गीज कुरियन की बेबाक अमूल गर्ल की ऐसे हुई रचना

Views : 2635  |  3 minutes read
National-Milk-Day-Amul-Girl

आज यानि 26 नवंबर का दिन राष्ट्रीय दुग्ध दिवस (National Milk Day) के रूप में मनाया जाता है और वो इसलिए क्योंकि आज ही के दिन वर्ष 1921 में अमूल ब्रांड और नेशनल डेयरी डवलमेंट बोर्ड के संस्थापक डॉ. वर्गीज कुरियन का जन्म हुआ था। डॉ. कुरियन को ‘मिल्‍कमैन ऑफ इंडिया’, ‘फादर ऑफ व्‍हाइट रिवॉल्‍यूशन इन इंडिया’ जैसे कुछ नामों से भी जाना जाता है। डॉ. कुरियन ही वह इंसान थे, जिनके कारण भारत दुनिया का सबसे ज्यादा दूध उत्पाद करने वाला देश बना।

milkman of india

53 साल की हो चुकी है पॉपुलर अमूल गर्ल

अमूल मिल्क की बात हो ही रही है तो ये भी हम सभी जानते हैं कि अमूल ब्रांड के लिए वो पॉपुलर ‘अमूल गर्ल’ कितनी लकी रही है। आपको यह बात जानकर हैरानी होगी कि वो रचनात्मक अमूल गर्ल कोई नया चेहरा नहीं है, बल्कि बहुत ही पुराना है। वह इतनी ज्यादा फेमस है कि भारत ही नहीं बल्कि विदेशों में ही इसका अलग ही क्रेज है। अगर आप भी ये जानना चाहते हैं कि अमूल गर्ल कब आईं, तो बता दें वो पूरे 53 साल की हो चुकी है।

ऐसे आया था अमूल गर्ल का आइडिया

वर्ष 1966 में अमूल बटर ने सफलतापूर्वक अपने 10 साल पूरे कर लिए थे। जिसके बाद उन्हें टक्कर देने के लिए मार्केट में डेयरी प्रोड्क्ट बेचने वाली कंपनी ‘पॉल्सन गर्ल’ आई, जो कि बहुत ही ज्यादा फेमस थी। ऐसे में डॉ. वर्गीज कुरियन अपने प्रोडक्ट को कैसे पीछे रहने दे सकते थे। फिर अमूल कपंनी ने एड बनाने वाली एक एजेंसी एडवरटाइजिंग एंड सेल्स प्रमोशन (ASP) के साथ बैठक की और अमूल का एक मस्कट तैयार करने को कहा। साथ ही उन्हें ख़ास तौर पर यह कहा गया कि ये मास्क ऐसा होना चाहिए जो कि हाउस वाइफ को सबसे ज्यादा पसंद आए, जिसके बाद एडवरटाइजिंग एंड सेल्स प्रमोशन एजेंसी के प्रमुख सिल्वेस्टर दाकुन्हा और यूस्टस फार्नांडिस ने अमूल गर्ल की रचना की।

इस अमूल गर्ल को सबसे पहले मुंबई की बसों में पेंटिंग के रूप में लगाया गया था। फिर वर्ष 1966 में अमूल गर्ल का पहला विज्ञापन सबके सामने आया था। इस गर्ल ने लोगों को भरोसा इतना ज्यादा जीत लिया है कि वर्ष 2012 में डॉ. वर्गीज कुरियन का निधन होने के बाद भी यह एड का सबसे दिलचस्प चेहरा बन चुका है। हालांकि, तब से आज के समय में अमूल गर्ल की थीम तो वही है, लेकिन उसके लुक और विज्ञापनों में काफी बदलाव आ चुके हैं।

अमूल गर्ल की बेबाकी ने बनाया पॉपुलर

अमूल गर्ल ने उस समय लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचा, जब उसने देश के विभिन्न मुद्दों पर बोलना शुरु किया। खासकर 90 के दशक में जब सिर्फ देश ही नहीं बल्कि विदेश के मुद्दों पर भी अमूल गर्ल ने बेबाक और बेझिझक तरीके से अपने विचार रखे। कभी किसी मसले पर कटाक्ष करना, तो कभी मज़ाकिया तरीके से जोक दिखाना, या फिर कभी सीरियस तरीके से वो अपनी बात रखती नजर आई। इस वजह से अमूल गर्ल की लोकप्रियता बढ़ती गई।

पोखरण परमाणु परीक्षण पर वाजपेयी सरकार की आलोचना की थी लेखिका अरुंधति रॉय ने

COMMENT