सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहे थे ज्योति बसु, बंगाल को बना दिया था कम्युनिस्ट गढ़

Views : 4953  |  4 minutes read
Jyoti-Basu-Biography

कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया-मार्क्सवादी (CPI-M) के दिग्गज नेता व पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री ज्योति बसु की आज 12वीं पुण्यतिथि है। उनका का जन्म 8 जुलाई, 1914 कोलकाता में एक उच्च मध्यम वर्गीय बंगाली परिवार में हुआ था। उनके पिता निशिकांत बसु ढाका जिले, पूर्वी बंगाल (अब बांग्लादेश) के बाड़ी गाँव के एक डॉक्टर थे, जबकि उनकी माँ हेमलता बसु एक गृहिणी थीं। बासु की स्कूली शिक्षा वर्ष 1920 में कोलकाता के धर्मताल के लोरेटो स्कूल में शुरू हुई और यहीं से उन्हें ज्योति बसु के नाम से जाना जाने लगा। हालाँकि, उन्हें वर्ष 1925 में सेंट जेवियर्स स्कूल में स्थानांतरित कर दिया गया था। उन्होंने अपनी स्नातक की पढ़ाई हिंदू कॉलेज, कोलकाता से अंग्रेजी में पूरी की।

वर्ष 1935 में अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद बसु लॉ में उच्च अध्ययन के लिए इंग्लैंड गए। ऐसा कहा जाता है कि वर्ष 1930 के दशक के अंत में बसु ने हेरोल्ड लास्की के लेक्चर्स भी अटेंड किए थे। इंग्लैंड में ही बसु को कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ ग्रेट ब्रिटेन के माध्यम से राजनीति की गतिविधियों का पता चला। इंग्लैंड में रहने के दौरान, वे इंडिया लीग और फेडरेशन ऑफ इंडियन स्टूडेंट्स इन इंग्लैंड के साथ सक्रिय रूप से जुड़े रहे। उन्होंने वर्ष 1940 में अपनी पढ़ाई पूरी की और मिडल टैंपल में बैरिस्टर के रूप में योग्य हुए। उसी वर्ष वे भारत लौट आए।

Jyoti-Basu

वर्ष 1944 में बसु ट्रेड यूनियन गतिविधियों में शामिल हो गए जब सीपीआई ने उन्हें रेलवे मजदूरों के बीच काम करने के लिए भेजा। जब बी.एन. रेलवे वर्कर्स यूनियन और बी.डी. रेल रोड वर्कर्स यूनियन का विलय हुआ, बसु संघ के महासचिव बने। वे वर्ष 1946 में पहली बार बंगाल विधानसभा के लिए चुने गए।

विभाजन के बाद, वह विधानसभा के सदस्य थे लेकिन भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा खुले विद्रोह के आह्वान के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था। वह उच्च न्यायालय के आदेश पर रिहा हुए और वर्ष 1952 और वर्ष 1972 के बीच विधान सभा सदस्य थे। वर्ष 1950 के दशक में, बसु और परमोड दास गुप्ता पश्चिम बंगाल कम्युनिस्टों के संयुक्त नेता बन गए। वे राज्य पार्टी सचिव थे और उन्होंने कांग्रेस के खिलाफ बंगाल में भाकपा के संसदीय रणनीति का नेतृत्व किया। बंगाल कम्युनिज्म की कांग्रेस-विरोधी प्रकृति ने वर्ष 1964 में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के विभाजन के बाद बसु को भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (CPI (M)) के साथ गठबंधन करने के लिए प्रेरित किया।

Jyoti-Basu

वर्ष 1967 में बसु बंगाल में एक गठबंधन संयुक्त मोर्चा सरकार में उप मुख्यमंत्री बने, जिसमें माकपा प्रमुख दलों में से एक थी। यह गठबंधन आठ महीने बाद ध्वस्त हो गया। फरवरी 1969 में ताजा चुनाव हुए जिसमें माकपा सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी। बसु संयुक्त मोर्चा सरकार में फिर से उपमुख्यमंत्री थे ऐसा वर्ष 1971 तक चला। वर्ष 1977 में बसु सतगछिया से संसद के लिए चुने गए और पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री बने। उनके नेतृत्व में CPI (M) ने पांच बार लगातार चुनाव जीते हैं। (वर्ष 1982,1987,1992,1996)। यह दुनिया में सबसे बड़ा लोकतांत्रिक रूप से निर्वाचित कम्युनिस्ट आंदोलन है। बसु वर्ष 1964 से सीपीआई (एम) के पोलित ब्यूरो के सदस्य थे।

वह पार्टी की घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय नीतियों को आकार देने में प्रभावशाली थे। पश्चिम बंगाल में कम्युनिज्म की सफलता के लिए परिस्थितियों का निर्माण करने के लिए बसु को एक चतुर रणनीतिज्ञ के रूप में मान्यता दी गई थी।उन्होंने एक राजनीतिक नेता के रूप में उच्च प्रतिष्ठा हासिल की और संसद के लिए राष्ट्रीय चुनाव (1996) के बाद प्रधानमंत्री के लिए संभावित उम्मीदवार माने गए।

बसु प्रधान मंत्री के पद के लिए संयुक्त मोर्चा के सर्वसम्मति के नेता के रूप में स्थापित होने के लिए तैयार थे लेकिन माकपा पोलित ब्यूरो ने सरकार में भाग नहीं लेने का फैसला किया। इस निर्णय को आज भी सबसे बड़ी भूल माना जाता है। ज्योति बसु खुद इस चीज से परेशान थे और चाहते थे कि सरकार केंद्र का साथ थे। लेकिन ऐसा हो नहीं पाया। उन्होंने स्वास्थ्य कारणों के कारण वर्ष 2000 में पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। बसु भारतीय राजनीतिक इतिहास में सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री बने रहने का रिकॉर्ड रखते हैं।

Jyoti-Basu

अप्रैल 2008 की शुरुआत में 19 वें सम्मेलन में, बसु को पोलित ब्यूरो में शामिल नहीं किया गया था, हालांकि वे केंद्रीय समिति के सदस्य बने रहे और पोलित ब्यूरो के विशेष आमंत्रित सदस्य के रूप में नामित किया गया। सीने में गंभीर संक्रमण के बाद अनुभवी नेता को 1 जनवरी, 2010 को कोलकाता के एएमआरआई अस्पताल में भर्ती कराया गया था। डॉक्टरों ने उचित जांच करने के बाद पता लगाया था कि वह मामूली निमोनिया से पीड़ित थे। 17 जनवरी, 2010 को बसु का 95 वर्ष की आयु में निधन हो गया।

सबसे लंबे समय तक राज करने वाली कम्युनिस्ट सरकार को हराकर सीएम बनी थी ममता बनर्जी

COMMENT