जसपाल राणा: कॉमनवेल्थ शूटिंग चैंपियनशिप में जीते थे रिकॉर्ड 8 स्वर्ण पदक

Views : 2821  |  0 minutes read

भारत में निशानेबाजी को बुलंदियों पर पहुंचाने वालों में अग्रणी रहे जसपाल राणा का आज 28 जून को 43वां जन्मदिन है। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर 25 मीटर फायर पिस्टल शूटिंग में देशों के लिए कई पदक जीते हैं। उन्होंने वर्ष 1995 की कॉमनवेल्थ शूटिंग चैंपियनशिप में आठ स्वर्ण पदक जीतकर एक नया रिकॉर्ड बनाया। वर्तमान में वह देहरादून में ‘जसपाल राणा इंस्टीट्यूट ऑफ एजुकेशन एंड टेक्नोलॉजी’ में कोच के पद पर कार्यरत है।

जीवन परिचय

भारतीय निशानेबाज जसपाल राणा का जन्म 28 जून, 1976 में उत्तराखंड राज्य के टिहरी गढ़वाल में एक राजपूत परिवार में हुआ। उनके पिता का नाम नारायण सिंह और माता का नाम श्यामा राणा हैं। जसपाल की प्रारम्भिक शिक्षा आई.टी.बी.पी. पब्लिक स्कूल, मसूरी तथा एयर फ़ोर्स स्कूल, कानपुर में संपन्न हुई थी। बाद में उन्होंने हाई स्कूल और इण्टर की परीक्षा केन्द्रीय विद्यालय, तुग़लकाबाद, दिल्ली से प्राप्त की। जसपाल राणा के पिता नारायण ने उन्हें निशानेबाजी में प्रशिक्षण दिलाया। आगे चलकर जसपाल ने निशानेबाजी में देश का नाम रोशन किया।

जसपाल राणा एक फैशन डिजायनर और राष्ट्रीय स्तर की निशानेबाज रीना राणा के साथ शादी के बंधन में बंधे। उनके दो बच्चे हैं, बेटी का नाम देवांशी और बेटे का नाम युवराज है।

निशानेबाजी कॅरियर में राणा की उपलब्धियां

जसपाल राणा को भारतीय शूटिंग टीम का ‘टॉर्च बियरर’ भी कहा जाता है। उन्होंने अनेक शूटिंग प्रतियोगिताओं में भारत का प्रतिनिधित्व किया है और पदक जीत कर देश को गौरवशाली सम्मान दिलाया है। उन्होंने वर्ष 1995 में चेन्नई में हुए सैफ खेलों में शूटिंग प्रतियोगिता में 8 स्वर्ण और वर्ष 1999 के काठमांडू में सैफ खेलों में 8 स्वर्ण पदक जीतने का कारनामा किया।

जसपाल राणा ने अपने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय शूटिंग कॅरियर में 600 से ज्यादा पदक जीते हैं। उन्होंने मात्र 12 वर्ष की उम्र में ही निशानेबाजी के क्षेत्र में ख्याति प्राप्त की थी। वर्ष 1988 में अहमदाबाद मे हुए 31वीं राष्ट्रीय निशानेबाजी चैंपियनशिप में उन्होंने रजत पदक अपने नाम किया।

उन्होंन इटली के मिलान शहर में वर्ष 1994 में हुई विश्व शूटिंग चैंपियनशिप में 600 में से 569 अंक अर्जित कर नया विश्व रिकॉर्ड बनाया और स्वर्ण पदक जीता।

वर्ष 1994 में जापान के हिरोशिमा में हुए 12वें एशियाई खेलों में एक स्वर्ण व एक कांस्य पदक जीतकर एशियाई खेलों में 600 अंक में से 588 अंकों का कीर्तिमान बनाया। जसपाल को वर्ष 1994 में भारत सरकार में अर्जुन अवॉर्ड से नवाजा गया, उस समय जसपाल की उम्र सिर्फ 18 साल थी। बहुत छोटी उम्र में जसपाल राणा ने यह मुकाम हासिल कर लिया था। जसपाल को वर्ष 1997 में भारत सरकार ने पद्मश्री पुरस्कार से नवाजा और साथ ही मदर टेरेसा द्वारा राष्ट्रीय नागरिक पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था।

जसपाल ने अपने कॅरियर में अधिकांश पदक ‘सेंटर फायर पिस्टल’ प्रतियोगिता में जीते हैं और एयर पिस्टल, स्टैन्डर्ड पिस्टल, फ्री पिस्टल, रेपिड फायर पिस्टल प्रतियोगिताओं में भी कामयाबी प्राप्त की है। वर्ष 2006 एशियाई खेलों में इन्होंने 25 मीटर सेंटर फायर पिस्टल में 590 अंकों के साथ विश्व रिकॉर्ड की बराबरी की, जिसे उन्होंने वर्ष 1995 में कोयंबटूर में और वर्ष 1997 में राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में बैंगलोर में दो बार पहले भी हासिल किया था।

राणा ने वर्ष 1995 में इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में हुई एशियाई शूटिंग चैंपियनशिप में नया एशियाई रिकार्ड बनाते हुए एक स्वर्ण तथा 3 कांस्य पदक जीते। उन्होंने वर्ष 1998 में मलेशिया में संपन्न हुए राष्ट्रमण्डल खेलों में दो स्वर्ण तथा दो रजत पदक जीते। राणा ने वर्ष 2006 में हुए दोहा एशियाई खेलों में तीन स्वर्ण पदक जीते, साथ ही 25 मीटर स्टैण्डर्ड पिस्टल टीम का रजत पदक भी जीता, जिसमें उनके जोड़ीदार समरेश जंग और रौनक थे।

जसपाल राणा ने राजनीति के क्षेत्र में भी कदम रखा था और वर्ष 2009 में बीजेपी के प्रतिनिधि के तौर पर लोकसभा चुनावों में चुनाव लड़ा, लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा। इसके बाद वह वर्ष 2012 में कांग्रेस में शामिल हो गये।

COMMENT