जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल का आगाज, गहलोत बोले-राजस्थान की शान है फेस्टिवल

Views : 649  |  3 minutes read

साहित्य के महाकुंभ जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल (जेएलएफ) का शुभारंभ गुरुवार से राजधानी जयपुर के डिग्गी पैलेस होटल में हुआ। पांच दिवसीय 13 वां जेएलएफ का उद्घाटन राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दीप प्रज्वलित कर किया। इस मौके पर गहलोत ने कहा कि इस लिटरेचर फेस्टिवल के माध्यम से राजस्थान की संस्कृति दुनिया के सामने रूबरू होती है इसलिए यह जयपुर व राजस्थान की शान है।

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि जेएलएफ के इस मंच पर आकर लोग खुलकर अपनी बात रख पाते हैं। मीडिया से बातचीत में सीएम गहलोत ने कहा कि लोकतंत्र में लोगों की आवाज को दबाना नहीं चाहिए। इस अवसर पर ऊर्जा,जलदाय मंत्री बीडी कल्ला, मुख्य सचेतक महेश जोशी भी मौजूद रहे।

देश-दुनिया के वक्ता होंगे शामिल-

जानकारी के अनुसार जेएलएफ में इस बार देश-दुनिया के लगभग 550 वक्ता शामिल होंगे। पूर्व की तरह इस साल भी वक्ताओं के रूप में लेखक,पत्रकार, राजनेता, फिल्मी हस्तियां आदि विभिन्न क्षेत्रों के लोग वर्तमान में राजनीति,आर्थिक हालात,ताजा मुद्दों आदि प्रमुख विषयों पर अपनी बात रखेंगे।

राजस्थानी रंगों में जेएलएफ-

इस बार जेएलएफ के आयोजन स्थल होटल डिग्गी पैलेस की सजावट राजस्थानी थीम पर की गई है जिससे यहां आने वाले लोगों का ध्यान बार—बार आकर्षित हो रहा है। पहले दिन फेस्टिवल का शुभारंभ रंगारंग कार्यक्रम के साथ हुआ।

सुरक्षा के कड़े इंतजाम—

जेएलएफ के आयोजन स्थल पर इस बार पहले से ज्यादा सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। कार्यक्रम स्थल के अंदर व बाहर सैकडों पुलिसकर्मी और कई अधिकारी तैनात हैं। इनके अलावा प्राइवेट सिक्योरिटी,सीआईडी इंटेलीजेंस, आर्मी इंटेलीजेंस आदि सुरक्षा एंजेसियों की नजर भी रहेगी।

 

Read more: जयपुर में बरसों साल बाद जन्मा था वारिस, राजपरिवार कल्चर के आखिरी राजा थे भवानी सिंह

COMMENT