एक्टर बनना चाहते थे जयकिशन लेकिन किस्मत ने बना दिया सुप्रसिद्ध संगीतकार

Views : 2532  |  0 minutes read
Musician-Shankar-Jaikishan

बॉलीवुड हिंदी फिल्मों सुप्रसिद्ध संगीतकार जयकिशन की आज 12 सितंबर को 48वीं पुण्यतिथि है। हिंदी सिनेमा को एक से बढ़कर एक हिट गीत देने वाली शंकर-जयकिशन की जोड़ी एक जमाने में काफ़ी पॉपुलर थी। इस जोड़ी के जयकिशन का पूरा नाम जयकिशन दयाभाई पांचाल था। उनका जन्म 4 नवंबर, 1929 को गुजरात प्रांत के नवसारी जिले स्थित वंसाडा शहर में हुआ था। इन्होंने शंकर सिंह रघुवंशी के साथ जोड़ी बनाकर वर्ष 1949 से 1969 के बीच पूरे बीस सालों तक जो गीत हिंदी सिनेमा को दिए, वो सुरीले दौर के तौर पर सिने इतिहास में अंकित है। ऐसे में आइए आज जयकिशन की पुण्यतिथि के अवसर पर जानते हैं उनके बारे में कई ख़ास बातें..

Music-Director-Jaikishan

एक्टर बनने मुंबई आए जयकिशन ने की थी गार्ड की नौकरी

जयकिशन को संगीत के प्रति बचपन से ख़ासा लगाव रहा था। वह हारमोनियम बजाने में पारंगत थे। उन्होंने वाडीलालजी, प्रेम शंकर नायक और विनायक तांबे से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ली थी। संगीत के प्रति झुकाव रखने के बाद भी वह एक्टर बनना चाहते थे। बॉलीवुड फिल्मों में एक्टर बनने का सपना लेकर ही वह मुंबई आए थे। उन्हें मुंबई में गार्ड की नौकरी तक करनी पड़ी थी। उसी दौरान उनकी मुलाकात बाद में उनके संगीत जोड़ीदार बने शंकर सिंह से हुयी थी। इस संगीतकार जोड़ी की शुरुआत पृथ्वीराज कपूर के पृथ्वी थिएटर से हुई थी, शंकर की सिफ़ारिश पर जयकिशन को पृथ्वी थियेटर में हारमोनियम बजाने के लिए अपॉइंट कर लिया था।

Music-Director-Jaikishan

राज कपूर की पहली फिल्म में बतौर सहायक काम किया

सन् 1948 में राज कपूर की पहली फिल्म ‘आग’ में शंकर-जयकिशन की जोड़ी ने संगीतकार राम गांगुली के साथ बतौर असिस्टेंट काम किया था। बाद में राजकपूर और राम गांगुली के बीच किसी बात को लेकर मतभेद हो गया था। उनदिनों राज कपूर अपनी नई फिल्म ‘बरसात’ की तैयारियों में जुटे हुए थे। राम गांगुली के मतभेद के कारण राज कपूर ने शंकर-जयकिशन को मिलने का निमंत्रण भेजा।

Music-Director-Jaikishan

राज कपूर शंकर-जयकिशन के संगीत बनाने के अंदाज से काफ़ी प्रभावित हुए और उन्होंने इस जोड़ी से अपनी अगली फिल्म ‘बरसात’ में संगीत देने की पेशकश कर दी। फिल्म ‘बरसात’ में इन दोनों की जोड़ी ने ‘जिया बेकरार है’ और ‘बरसात में हमसे मिले तुम सजन’ जैसे सुपरहिट गानों का संगीत दिया। इस फिल्म की सफ़लता के बाद इस जोड़ी ने बतौर संगीतकार बॉलीवुड संगीत जगत में अपनी पहचान बना ली थी।

Musician-Shankar-Jaikishan

शंकर-जयकिशन की जोड़ी ने सर्वाधिक 9 बार जीता फिल्म फेयर अवॉर्ड

यह महज संयोग ही था कि फिल्म ‘बरसात’ से लिरिसिस्ट शैलेन्द्र और हसरत जयपुरी ने भी अपने फिल्मी कॅरियर की शुरुआत की थी। इस फिल्म की कामयाबी के बाद राज कपूर, हसरत जयपुरी और शंकर-जयकिशन की जोड़ी ने एक साथ कई फिल्मों में काम किया था। इन संगीतकार और गीतकारों की जोड़ी खूब जमी और संगीत प्रेमियों के बीच काफ़ी पसंद की गई। सबसे ख़ास बात यह है कि शंकर-जयकिशन की जोड़ी को सबसे अधिक 9 बार सर्वश्रेष्ठ संगीतकार के फिल्म फेयर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है। इन दोनों की जोड़ी साल 1971 तक बरकरार रहीं। इसी साल 12 सितंबर को जयकिशन ने इस दुनिया को अलविदा कर दिया था। अपने जोड़ीदार के जाने के बाद शंकर सिंह भी अकेले हो गए थे।

Musician-Shankar-Jaikishan

बॉलीवुड फिल्म संगीत की सर्वाधिक कामयाब संगीतकार जोड़ी शंकर-जयकिशन ने अपनी धुनों से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया था। इन दोनों की जोड़ी की एक मिसाल दी जाती थी लेकिन, एक वक़्त ऐसा भी आया जब दोनो के बीच अनबन हो गयी थी। शंकर और जयकिशन ने एक-दूसरे से किया वादा नहीं निभाया।

Read More: डोनाल्ड ट्रंप ने भारतवंशी अनुराग सिंघल को फ्लोरिडा का न्यायाधीश किया नामित

वादा यह था कि वह कभी किसी को नहीं बताएंगे कि धुन किसने बनायी है, लेकिन एक बार जयकिशन इस वादे को भूल गए और मशहूर फिल्म पत्रिका फिल्मफेयर के एक लेख में बता दिया कि फिल्म ‘संगम’ के गीत ‘ये मेरा प्रेम पत्र पढ़कर कि तुम नाराज न होना’ की धुन उन्होंने बनाई है। इस बात से शंकर काफ़ी ख़फ़ा हुए। बाद में प्रसिद्ध गायक मोहम्मद रफ़ी के प्रयास से शंकर और जयकिशन के बीच की दूरी कम हो पाई।

COMMENT