इंदिरा गांधी शुरुआत में पिता व पीएम पंडित नेहरू की निजी सहायक के रूप में करती थीं काम

Views : 6539  |  4 minutes read
Indira-Gandhi-Biography

दिग्गज कांग्रेस नेता एवं देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का जन्म 19 नवम्बर, 1917 को उत्तरप्रदेश के प्रयागराज (इलाहाबाद) में नेहरू परिवार में हुआ था। उनका जन्म राजनीतिक तौर पर देश में एक समय सबसे प्रभावशाली समझे जाने वाले नेहरू परिवार में हुआ था। इंदिरा के पिता जवाहरलाल नेहरू स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री बने थे। उनकी माता का नाम कमला नेहरू था। इंदिरा को भारत की पहली और एकमात्र महिला प्रधानमंत्री होने का गौरव हासिल हैं। उनकी 104वीं जयंती के मौके पर पढ़िए उनके जीवन के बारे में कुछ अनसुने किस्से…

Indira-and-Firoz-Gandhi

फिरोज खान से इंग्लैड में नियमित मिलती थी इंदिरा

इंदिरा को उनका ‘गांधी’ उपनाम फिरोज़ खान से विवाह के बाद मिला। इन्दिरा ने रवीन्द्रनाथ टैगोर द्वारा निर्मित विश्व भारती यूनिवर्सिटी में भी पढ़ाई की थी। टैगोर ने ही इंदिरा को ‘प्रियदर्शिनी’ नाम दिया था। बाद में इंदिरा अपनी आगे की पढ़ाई के लिए इंग्लैंड चली गईं। यहीं उनकी मुलाकात फिरोज खान से होती थी। हालांकि, फिरोज को इंदिरा इलाहाबाद से ही जानती थी। ब्रिटेन में रहते हुए ही दोनों के बीच प्रेम संबंध बने, इसके बाद फिरोज खान ने इंदिरा गांधी से 16 मार्च, 1942 को विवाह कर लिया। इसके बाद अपने नाम के पीछे दोनों गांधी लगाने लगे।

Mrs. Indira Gandhi

प्रियदर्शिनी का राजनीति में ऐसे हुआ आगमन

दरअसल, इंदिरा गांधी अपने पिता व देश के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के कार्यकाल के दौरान उनकी निजी सहायक के रूप में काम करती थीं। उनके पिता की मृत्यु के बाद वर्ष 1964 में उनकी नियुक्ति एक राज्यसभा सदस्य के रूप में हुई थी। इसके बाद लालबहादुर शास्त्री के मंत्रिमंडल में उन्हें सूचना एवं प्रसारण मत्री बनाया गया। शास्त्री की आकस्मिक मौत के बाद तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष के. कामराज इंदिरा गांधी को प्रधानमंत्री बनाने में अहम भूमिका निभाईं।

indira-gandhi_ funeral

अंगरक्षकों ने ही इंदिरा को गोलियों से कर दिया था छलनी

31 अक्टूबर, 1984 को 37 साल पहले भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या कर दी गईं। इस दिन इंदिरा की हत्या ने पूरे भारत को हिला कर रख दिया था। इंदिरा को उन्हीं के अंगरक्षकों ने गोलियों से छलनी कर दिया गया। उनके गार्ड्स ने ऐसा क्यों किया? इसके पीछे इंदिरा गांधी का ही एक फैसला था। वो फैसला जिसकी वजह से इंदिरा की हत्या हुईं।

उनकी सुरक्षा में लगे सुरक्षाकर्मी सिख समुदाय से आते थे। सिख समुदाय का बड़ा तबका इंदिरा गांधी द्वारा चलवाए गए ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’ के कारण उनसे नाराज था। इंदिरा उस दिन पीटर उस्तीनोव नाम के एक्टर को इंटरव्यू देने जा रही थीं। वे दरवाजे से बाहर निकली ही थीं कि उनके दो गार्ड बेअंत सिंह और सतवंत सिंह ने उन्हें गोलियों से छलनी कर दिया। एक गार्ड ने इंदिरा गांधी के पेट में 3 गोलियां मारी, जिसके बाद वे गिर गईं। फिर अपनी गन से दूसरे गार्ड ने इंदिरा गांधी को 30 गोलियां मारीं।

हालांकि, इसके बाद दोनों सुरक्षाकर्मियों को दबोच लिया गया और इंदिरा को फौरन अस्पताल भी ले जाया गया। कुछ घंटों बाद ही इंदिरा गांधी की मौत हो गई। क्यों ये नौबत आईं? क्यों एक तबका इंदिरा से बेहद नाराज था?

indira-gandhi

स्वर्ण मंदिर में चलाया गया ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’

6 जून, 1984 को स्वर्ण मंदिर में ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’ को अंजाम दिया गया था। वर्ष 1984 में पंजाब के हालात हाथों से निकलते जा रहे थे। उस वक्त वहां के डीआईजी एस.एस. अटवाल की हत्या स्वर्ण मंदिर में कर दी गई थी, जिसके बाद माहौल बेकाबू हो चुका था। जरनैल सिंह भिंडरांवाले की अगुवाई वाले चरमपंथियों ने मानों जंग ही छेड़ रखी थी। वो एक खालिस्तानी चरमपंथी था, जो पंजाब में अपनी पैठ तेजी से बना रहा था।

operation-blue-star

हालात काबू में लेने के लिए सेना का लेना पड़ा सहारा

तत्कालीन पीएम इंदिरा गांधी को स्वर्ण मंदिर में बिगड़ रहे माहौल को काबू में लेने के लिए सेना का सहारा लेना पड़ा था। हालांकि, गांधी ने ये फैसला काफी सोच-समझ कर ही लिया था। खालिस्तान समर्थक भिंडरावाले, ऑल इंडिया सिख स्टूडेंट्स फेडरेशन के प्रमुख अमरीक सिंह की रिहाई को लेकर अभियान चला रहा था। ऐसे में अकाली भी इनके समर्थन में आ गए थे। इन परिस्थितियों में इंदिरा को सेना का सहारा लेना पड़ा। 5 जून, 1984 को 20 स्पेशल कमांडो को स्वर्ण मंदिर में भीतर भेजा गया।

operation-blue-star

हालात बेकाबू होने का किसी को नहीं था अंदाजा

ऑपरेशन ब्लू स्टार कामयाब रहा, लेकिन कई लोगों की जानें गईं। ऑपरेशन की खुशी से ज्यादा लोगों के मारे जाने का गम था। सरकारी आंकड़ों की मानें तो ऑपरेशन में भारतीय सेना के 83 सैनिक मारे गए और 248 सैनिक घायल हुए। वहीं, 492 अन्य लोगों की मौत इस ऑपरेशन के दौरान हुईं। पंजाब इस दौरान एक बुरे वक्त से गुजर रहा था। खुद इंदिरा गांधी ने ऑपरेशन खत्म होने के बाद कहा था, ‘हे भगवान, ये क्या हो गया? इन लोगों ने तो मुझे बताया था कि इतनी मौतें नहीं होंगी।’

Indira-Gandhi-Murder

ऑपरेशन ब्लू स्टार का ये हुआ असर

प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के आदेश पर चलाए गए इस ऑपरेशन के बाद पूरे देश में तनाव का माहौल था। कांग्रेस और सिखों के बीच दूरियां बढ़ गई थीं। उसी दौरान पीएम इंदिरा के अंगरक्षकों ने ही उनकी हत्या कर दीं। हत्या के बाद पूरे देश में सिख दंगे भड़क गए थे। इसमें अकेले दिल्ली में ही 3 हजार से अधिक सिखों का कत्ल कर दिया गया था। पूरे देश में 8 हजार से अधिक सिखों को मौत के घाट उतार दिया गया। इतिहास के वो घाव आज भी ताजा हैं।

Read Also: बाला साहेब ठाकरे के निधन पर मुंबई के लोगों ने पहली बार अपनी मर्जी से रखा था शहर बंद

COMMENT