भारतीय वैज्ञानिकों ने एमआरएनए तकनीक पर कोरोना वैक्सीन तैयार की, परीक्षण की मिली अनुमति

Views : 867  |  3 minutes read
mRNA-Technology-Vaccine-India

दुनिया की पहली डीएनए वैक्सीन देने के बाद अब भारतीय वैज्ञानिकों ने एमआरएनए तकनीक पर कोरोना वैक्सीन तैयार की है। अच्छी बात ये है कि इस वैक्सीन को जानवरों पर किए गए परीक्षण में पूरी तरह से सुरक्षित पाया गया है। इसके बाद वैक्सीन के दूसरे व तीसरे चरण के परीक्षण को अनुमति मिल चुकी है। मालूम हो कि अभी तक अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना के पास ही एमआरएनए वैक्सीन है। आपको बता दें कि कोवाक्सिन व जायकोव के बाद यह तीसरी स्वदेशी कोरोना वैक्सीन होगी। एक और स्वदेशी वैक्सीन पर काम चल रहा है, जिसका परीक्षण बायोलॉजिकल-ई कंपनी के जरिए किया जा रहा है।

दूसरे और तीसरे चरण के परीक्षण की दी इजाज़त

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया यानि डीसीजीआई के एक अधिकारी ने बताया कि विशेषज्ञ समिति (एसईसी) से सिफारिश मिलने के बाद फॉर्मा कंपनी जेनोवा को भारत की पहली एमआरएनए वैक्सीन के लिए दूसरे और तीसरे चरण का परीक्षण एक साथ शुरू करने की इजाज़त दी गई है। आगामी दिनों में देश के 10 से 15 अस्पतालों में इस वैक्सीन का परीक्षण दूसरे चरण के तहत होगा, जिसमें यह देखा जाएगा कि वैक्सीन देने के बाद एंटीबॉडी विकसित हो रही हैं या नहीं। जबकि तीसरे चरण का परीक्षण देश के 22 अस्पतालों में होगा और इस परीक्षण में यह परखा जाएगा कि इस वैक्सीन से बन रही एंटीबॉडी संक्रमण को किस हद तक रोकने में सफल होती हैं।

पशुओं पर परीक्षण में पूरी तरह से सुरक्षित पाई गई वैक्सीन

भारत सरकार के अधीन बायोटेक्नोलॉजी विभाग (डीबीटी) की सचिव डॉ. रेणु स्वरूप ने जानकारी दी है कि जेनोवा के टीके पर परीक्षण के लिए डीबीटी व आईसीएमआर के रिसर्च नेटवर्क को भी इस्तेमाल किया जाएगा। पशुओं पर किए गए परीक्षण में वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित पाई गई है। फिलहाल इसका नाम एचजीसीओ-19 रखा गया है। वहीं, जेनोवा बायोफॉर्मास्युटिकल कंपनी के सीईओ डॉ. संजय सिंह ने कहा कि कंपनी ने वैक्सीन के प्रोडक्शन पर भी अभी से ध्यान देना शुरू कर दिया है। ताकि परीक्षण पूरे होने और आपात इस्तेमाल की अनुमति मिलने के बाद तत्काल इसे आपूर्ति में लाई जा सके।

Read Also: केंद्रीय गृह मंत्रालय की डिजास्टर मैनेजमेंट कमेटी ने तीसरी लहर की आशंका जाहिर की

COMMENT