चीन विवाद: नौसेना के मिग-29K विमानों की उत्तरी सेक्टर में तैनाती करेगा भारत

Views : 1649  |  3 minutes read
Indian-Navy-MiG-29K

भारत और चीन के बीच सीमा पर चल रहे विवाद में अब भले ही दोनों देशों के मध्य तनाव थोड़ा कम हुआ है। लेकिन दुश्मन मुल्क से संभावित खतरे को ध्यान में रखते हुए भारत सीमा पर लगातार अपनी सैन्य क्षमताएं बढ़ा रहा है। अब भारतीय नौसेना के समुद्री फाइटर जेट मिग-29के (MiG-29K) को उत्तरी सेक्टर में तैनात करने का फैसला लिया गया है। आपको बता दें, नौसेना के पी-82 निगरानी विमान पहले ही पूर्वी लद्दाख सेक्टर में तैनात हैं।

डोकलाम विवाद के दौरान इस्तेमाल किए गए थे ये विमान

इस बारे में एक एजेंसी को सरकारी सूत्रों ने बताया, ‘मिग-29के फाइटर एयरक्राफ्ट को उत्तरी सेक्टर में भारतीय नौसेना के बेस पर तैनात करने की योजना बनाई जा रही है। इनका इस्तेमाल पूर्वी लद्दाख सेक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा यानी एलएसी पर अभियानों को अंजाम देने के लिए किया जा सकता है।’ जानकारी के लिए बता दें​ कि डोकलाम विवाद के दौरान मिग-29के निगरानी विमानों का बड़े स्तर पर इस्तेमाल किया गया था। भारत और चीन के बीच वर्तमान में चल रहे सीमा विवाद में भारतीय नौसेना अहम भूमिका निभा रही है। नौसेना के विमानों का एलएसी पर चीनी गतिविधियों और उनकी स्थिति पर नजर रखने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है।

मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का 85 वर्ष की आयु में निधन, राष्ट्रपति और पीएम ने जताया शोक

उल्लेखनीय है कि भारतीय नौसेना के बेड़े में 40 से ज्यादा मिग-29के फाइटर जेट शामिल हैं, जिन्हें एयरक्राफ्ट कैरियर आईएनएस विक्रमादित्य पर तैनात किया गया है। भारत ने कथित मित्र राष्ट्र रूस से इन विमानों की करीब एक दशक पहले खरीदारी की थी। इन विमानों की एयरफोर्स बेस पर तैनाती के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देशों का इंतजार किया जा रहा है।

COMMENT