एनआईसी की ई-मेल प्रणाली पर साइबर हमले को सरकार ने किया खारिज

Views : 994  |  3 minutes read
NIC-Email-System

केंद्र सरकार ने अपनी ई-मेल प्रणाली पर साइबर हमले की ख़बरों को खारिज कर दिया है। केंद्र ने रविवार को कहा कि सरकार की ई-मेल प्रणाली में कोई साइबर छेड़छाड़ नहीं हुई। मालूम हो इस प्रणाली का प्रबंध नेशनल इन्फॉर्मेटिक्स सेंटर यानि एनआईसी द्वारा किया जाता है। इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा जारी किए गए एक बयान में कहा गया है कि ई-मेल प्रणाली पूरी तरह सुरक्षित है। आईटी मंत्रालय ने उन रिपोर्ट्स को खारिज किया है, जिसमें दावा किया गया था कि एयर इंडिया, बिग बास्केट और डोमिनोज जैसी इकाइयों के डाटा में सेंध लगने से एनआईसी के ई-मेल खाते और पासवर्ड हैकर के पास चले गए हैं।

सरकार की ई-मेल प्रणाली पूरी तरह से सुरक्षित है: आईटी मंत्रालय

इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय के बयान में कहा गया, ‘मीडिया रिपोर्ट्स को देखते हुए यह साफ करना जरूरी है कि भारत सरकार की उस ई-मेल प्रणाली पर कोई साइबर हमला नहीं हुआ, जिसका एनआईसी रख-रखाव करता है। ई-मेल प्रणाली पूरी तरह से सुरक्षित है।’ मंत्रालय ने अपने बयान में यह भी कहा कि बाहरी पोर्टल पर साइबर हमले से सरकार की ई-मेल सेवा के यूजरों पर शायद कोई असर न पड़े। असर तभी पड़ेगा अगर यूजरों ने इन पोर्टल पर अपने आधिकारिक ई-मेल पते और उसी पासवर्ड का इस्तेमाल किया हो जो सरकारी ई-मेल खाते से जुड़ा है।

एनआईसी समय-समय पर चलाता है जागरूकता अभियान

बयान के अनुसार, एनआईसी ई-मेल प्रणाली में टू-फैक्टर ऑथेंटिफिकेशन और 90 दिनों के भीतर पासवर्ड बदलने जैसे कई सुरक्षा उपाए किए गए हैं। साथ ही एनआईसी ई-मेल का पासवर्ड बदलने के लिए मोबाइल ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) की जरूरत होती है। गलत मोबाइल ओटीपी डालने पर पासवर्ड बदलना संभव नहीं होगा। इसमें कहा गया कि एनआईसी समय-समय पर जागरूकता अभियान चलाता है और यूजर्स को संभावित खतरों और सुरक्षा प्रोटोकॉल की जानकारी देता रहता है।

Read More: mAadhaar ऐप का नया वर्जन लॉन्च हुआ, 35 सेवाओं का लाभ उठा सकेंगे यूजर्स

COMMENT