देश के 21 डूबे हुए बैंकों के ग्राहकों को इतने दिनों में वापस मिलेंगे पैसे

Views : 1020  |  3 minutes read
Sunken-Banks-India

लंबे समय से परेशानी झेल रहे पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक यानी पीएमसी बैंक सहित देश के 21 डूबे हुए बैंकों के ग्राहकों के लिए यह खबर लाभदायक साबित हो सकती है। इन ग्राहकों को इस साल दिसंबर तक पैसा मिल सकेगा। बैंक ग्राहकों के हित को ध्यान में रखते हुए डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉर्पोरेशन एक्ट (डीआईसीजीसी) ने कहा है कि वह 90 दिनों में ग्राहकों को पांच लाख रुपये देगा।

जल्द ही खाताधारकों की तैयार होगी सूची

भारतीय रिजर्व बैंक की अनुषंगी डीआईसीजीसी ने इसके लिए संकटग्रस्त 21 सहकारी बैंकों को खाताधारकों की सूची तैयार करने को कहा है। मालूम हो कि संसद ने अगस्त में मानसून सत्र के दौरान डीआईसीजीसी संशोधन विधेयक 2021 को पारित किया था। यह विधेयक इस बात को सुनिश्चित करता है कि भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की ओर से बैंकों पर रोक लगाए जाने के 90 दिनों के अंदर खाताधारकों को पांच लाख रुपये तक की राशि मिल सके।

डीआईसीजीसी ने जमाकर्ताओं को अपने संबंधित बैंकों तक पहुंचने और सूची में अपना नाम शामिल कराने के लिए 15 अक्तूबर से पहले किसी भी लंबित दस्तावेज को अपडेट करने के लिए कहा है। इसके बाद निगम बैंकों द्वारा तैयार सूची के अनुसार, 29 दिसंबर से पहले पांच लाख की पात्र राशि और जमा राशि में अंतर का भुगतान करेगा।

इक्कीस संकटग्रस्त बैंकों में से महाराष्ट्र के 11 बैंक

देश के 21 संकटग्रस्त बैंकों में से 11 बैंक महाराष्ट्र के हैं, इसके अलावा इसमें पांच बैंक कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब, केरल और राजस्थान के एक-एक बैंक हैं। जानकारी के अनुसार, इसमें पीएमसी बैंक के अलावा श्री गुरु राघवेंद्र सहकारा बैंक, रुपी सहकारी बैंक, स्वतंत्रता सहकारी बैंक, अदूर सहकारी शहरी बैंक, बीदर महिला शहरी सहकारी बैंक और पीपुल्स कोऑपरेटिव बैंक के जमाकर्ताओं को भी फायदा होगा।

EPFO से जून में 12.83 लाख ग्राहक जुड़े, पहली बार 8 लाख से ज्यादा सामाजिक सुरक्षा के दायरे में

COMMENT