CRPF Day: क्राउन रिप्रेजेंटेटिव फोर्स से सीआरपीएफ बनने की स्टोरी है बड़ी दिलचस्प

Views : 5253  |  4 minutes read
CRPF-Establishment-Day

27 जुलाई का दिन भारतीय इतिहास के लिए बहुत महत्व रखता है। आज ही के दिन यानि 27 जुलाई को वर्ष 1939 में भारत के सबसे बड़े अर्धसैनिक बल केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) की स्थापना मध्य प्रदेश के नीमच में हुई। हालांकि, इसकी स्थापना सीआरपी यानि क्राउन रिप्रेजेंटेटिव पुलिस के नाम से अंग्रेजों ने की थी। लेकिन आज़ादी के बाद 28 दिसंबर, 1949 को देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल ने इसकी सेवाओं को कायम रखते हुए इसका नाम बदलकर सीआरपीएफ दिया। चूंकि क्राउन रिप्रेजेंटेटिव पुलिस अंग्रेजों द्वारा दिया गया नाम था, जिसे परिवर्तित कर केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल किया गया।

chaltapurza.com

 

गृह मंत्रालय के अधीन काम करता है सीआरपीएफ

केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल भारत सरकार के गृह मंत्रालय के अधीन काम करता है। सेना के साथ बॉर्डर की सुरक्षा के अलावा देश के आतंरिक मामलों से निपटने के लिए अर्द्ध सैनिक बल सीआरपीएफ एक अहम भूमिका निभाता रहा है। वर्तमान में इसमें सैनिकों की संख्या सवा 3 लाख से ज्यादा बताई जाती है। सीआरपीएफ में 235 बटालियन है जो हर ज़रूरी मोर्चे पर अपनी पूरी मुस्तैदी से तैनात रहती है। यह अर्धसैनिक बल हर तरह के ऑपरेशन को अंजाम देने में सक्षम माना जाता है। फिर चाहे देश में कानून-व्यवस्था बिगड़ने की बात हो, शांतिपूर्वक चुनाव सम्पन्न करवाने की बात हो, कोई भी आपातकाल की स्थिति हो या नक्सलियों से निपटना हो। सभी जगह सीआरपीएफ पूरी तैयारी और प्रभाव से साथ काम करने में दक्ष है।

उल्लेखनीय है कि सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और भारत-तिब्बत सुरक्षा बल (आईटीबीपी) की स्थापना से पहले बॉर्डर की सुरक्षा की ज़िम्मेदारी सीआरपीएफ के जिम्मे थी। पाकिस्तान से लगने वाली पश्चिमी सीमा हो पूर्व में चीन से लगने वाला बॉर्डर, दोनों ही जगह सीआरपीएफ ने अपना काम बखूबी निभाया और देश को दुश्मन की बुरी नज़रों से बचाया रखा।

CRPF-Commando

बेहतरीन कमांडो में शामिल हैं CRPF कोबरा स्पेशल फोर्स कमांडो

केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल की कोबरा स्पेशल फोर्स के कमांडो की गिनती भारत के बेहतरीन कमांडो में की जाती है। कोबरा कमांडो छद्म युद्ध, जंगल के क्षेत्रो में ऑपरेशन को अंजाम देने और नक्सल विरोधी ऑपरेशन में सक्षम होते हैं। हर तरह की ट्रेनिंग और आधुनिक हथियारों से लैस ये कमांडो मुश्किल से मुश्किल लक्ष्य को को आसानी से पूरा कर लेते हैं। गौरतलब है कि सीआरपीएफ की 10 कोबरा बटालियन हैं। सीआरपीएफ की ब्रांड एम्बेसडर बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु हैं। सीआरपीएफ की वर्ष 1962, 1965 और वर्ष 1971 के युद्ध में अहम भूमिका रही है। सीआरपीएफ कई बार यूएन के मिशन पर भी भेजी जा चुकी है।

Read: जोंटी रोड्स एकमात्र क्रिकेटर जिसने 11 का हिस्सा न होते हुए भी जीता ‘मैन ऑफ़ द मैच’ अवॉर्ड

COMMENT