एडीआर रिपोर्ट: झारखंड में इतने फीसदी विधायकों पर दर्ज है क्रिमिनल केस

Views : 2002  |  0 minutes read
Jharkhand-MLAs-ADR-Report

देश को कथित रूप से आज़ाद हुए 70 साल से ज्यादा समय बीत चुका है, लेकिन कई मामले में अभी काफ़ी अहम सुधार होने बाक़ी है। इन्हीं में से एक है राजनीति में अपराधियों की एंट्री पर रोक। पिछले कुछ दशक से चुनाव दर चुनाव राज​नीति में अपराधियों की संख्या में तेजी से इजाफ़ा हो रहा है। इस बात का उदाहरण एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स यानि एडीआर की रिपोर्ट है। झारखंड विधानसभा चुनाव से पहले सामने आई एडीआर की रिपोर्ट के अनुसार, राज्य के 62 फीसदी विधायकों के ख़िलाफ़ क्रिमिनल केज दर्ज है। झारखंड के विधायकों की ओर से प्रस्तुत शपथ-पत्र के जरिए यह आकंड़ा सामने आया है।

79 विधायकों के शपथ-पत्र की जांच की गई

एडीआर ने अपनी इस रिपोर्ट के लिए झारखंड विधानसभा के 81 में से 79 वर्तमान विधायकों के शपथ-पत्र की जांच की। दो विधायकों के शपथ-पत्र स्पष्ट नहीं थे, जिसके कारण उनका विश्लेषण नहीं किया जा सका। झारखंड के इन दो विधायकों में विश्रामपुर विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी विधायक रामचंद्र चंद्रवंशी और गोमिया सीट से झामुमो की बबिता देवी का नाम शामिल है। निवर्तमान 81 विधायकों के शपथ-पत्र की जांच में सामने आया कि 49 विधायकों ने अपने शपथ-पत्र में अपने ख़िलाफ़ आपराधिक मामलों का ब्यौरा दिया है।

48 फीसदी विधायकों पर सीरियस क्रिमिनल केस

एडीआर की रिपोर्ट के अनुसार, झारखंड विधानसभा के सभी विधायकों में से 38 एमएलए यानि 48 फीसदी विधायकों ने अपने ख़िलाफ़ सीरियस क्रिमिनल केस दर्ज होने की जानकारी दी है। झारखंड के तीन विधायकों ने अपने विरूद्ध हत्या और 10 विधायकों ने हत्या के प्रयास के मामलों का ब्योरा दिया है। राज्य में सबसे ज्यादा बीजेपी के 36 विधायकों में से 21, झारखंड मुक्ति मोर्चा के 18 विधायकों में से 11, कांग्रेस के आठ में से 5 विधायकों और झाविमो के आठ में से 5 विधायकों ने अपने शपथ-पत्र में आपराधिक मामलों की जानकारी दी है।

निधन: टी एन शेषन ने अपने कार्यकाल में बदल दी थी देश के चुनावों की तस्वीर

झारखंड के आधे से ज्यादा विधायक करोड़पति

एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स की रिपोर्ट में सामने आया है कि 79 वर्तमान विधायकों में से 41 यानि 52 फीसदी एमएलए करोड़पति हैं। सबसे ज्यादा भारतीय जनता पार्टी के विधायक ​करोड़पित हैं। बीजेपी के 36 में से 21 यानि 58 फीसदी, झामुमो के 18 में से नौ, कांग्रेस के 8 में से पांच यानि 63 फीसदी और झाविमो के आठ में से 3 विधायकों ने अपने शपथ-पत्र में एक करोड़ से अधिक संपत्ति की जानकारी दी है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि झारखंड में 30 नवंबर से 20 दिसंबर तक पांच चरणों में नई विधानसभा के लिए वोटिंग होगी। चुनाव के नतीजे 23 दिसंबर को आएंगे।

COMMENT