ब्रेनडेड युवक ने दी तीन लोगों को नई जिंदगी, एसएमएस में दूसरा हार्ट ट्रांसप्लांट

Views : 1547  |  3 minutes read

राजस्थान की राजधानी जयपुर के सवाईमानसिंह (एसएमएस) अस्पताल में एक ब्रेनडेड युवक ने 3 लोगों को नई जिंदगी दी हैं वहीं एसएमएस सरकारी अस्पताल में एक महीने के भीतर दूसरा सफल हार्ट ट्रांसप्लांट कर चिकित्सकों ने देश में एक कीर्तिमान भी रच दिया है।  जानिये, क्या है यह पूरा मामला-

सड़क दुर्घटना में घायल हुआ था युवक –
मिली जानकारी के मुताबिक सड़क दुर्घटना में घायल हुए एक युवक को बीकानेर के अस्पताल में भर्ती के बाद चिकित्सकों ने ब्रेनडैड घोषित किया था। इसके बाद मरीज को एसएमएस अस्पताल लाया गया और युवक के परिजनों ने चिकित्सकों से बातचीत के बाद अंगदान की पहल की।

इस तरह देश का पहला सरकारी अस्पताल बना एसएमएस-

एसएमएस अस्पताल के हार्ट ट्रांसप्लांट यूनिट हैड डॉ. अनिल शर्मा के नेतृत्व में चिकित्सकों की एक टीम ने बुधवार सुबह अलवर निवासी एक मरीज को सफलतापूर्वक यह ​नि:शुल्क ट्रांसप्लांट किया। एक महीने में अस्पताल में इस तरह दूसरा हार्ट ट्रांसप्लांट होने से यह देश का पहला ऐसा सरकारी अस्पताल बन गया है।

दोनों किडनियों से अन्य दो मरीजों को मिला जीवनदान-

इधर ब्रेनडेड युवक के हार्ट ट्रांसप्लांट की प्रक्रिया के बाद दोनों किडनियों को भी दो अन्य जरुरतमंद मरीजों के ट्रांसप्लांट किया गया।

दानदाता युवक के परिजनों का जताया आभार-

इधर 3 लोगों को नई जिंदगी देने पर एसएमएस अस्पताल के अधीक्षक डॉ. डीएस मीना व एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ सुधीर भंडारी और जिन मरीजों के ट्रांसप्लांट हुआ उनके परिजनों ने दानदाता युवक व परिवारजनों का विशेष आभार जताया है।

Read More: राजस्थान में नई बाइक खरीदने पर अब मिलेगा मुफ्त हेलमेट

गत महीने भी एसएमएस में हुआ था हार्ट ट्रांसप्लांट –

एसएमएस अस्पताल में पहला सफल व नि:शुल्क हार्ट ट्रांसप्लांट 16 जनवरी को हुआ ​था जो कि प्रदेश व उत्तर भारत के किसी भी सरकारी अस्पताल में इस तरह का पहला हार्ट ट्रांसप्लांट था।

 

COMMENT