बीजेपी ने आचार संहिता लगने से पहले उत्तर प्रदेश में ये बड़ी गुगली मारी है!

Views : 3004  |  0 minutes read

लोकसभा चुनावों की घोषणा हो चुकी है और घोषणा के साथ ही आचार संहिता भी लागू हो गई। लेकिन आदर्श आचार संहिता लागू होने से घंटों पहले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने एक बड़ा गेम खेलने की कोशिश की। सरकार ने अपने असंतुष्ट सहयोगियों को खुश करने के लिए उत्तर प्रदेश में विभिन्न निकायों और निगमों में 15 सहयोगी दलों के कार्यकर्ताओं को नियुक्त किया।

72 लोग की नियुक्ति की गई जिसमें से 15 सहयोगी दलों में से हैं। यूपी में भाजपा के दो सहयोगी हैं एक अपना दल जिसमें कुर्मी शामिल हैं। कुर्मी ओबीसी उप-जाति है जो बड़ी राजनीतिक महत्व रखती है। दूसरी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) जिसमें राजभर एक अन्य ओबीसी उप-जाति का समर्थन बीजेपी को मिलने वाला है।

एसबीएसपी प्रमुख ओम प्रकाश ने कहा था कि बीजेपी ने हमारे लिए एक कदम उठाकर एक ईमानदार कोशिश की है और दूसरा कदम हम उठाएंगे और 2019 के लोकसभा चुनावों में एक साथ खड़े होंगे।

अपना दल के अरविंद शर्मा ने कहा कि हम बीजेपी के कदम से संतुष्ट हैं। पिछड़ा वर्ग आयोग के लिए नियुक्तियां महत्वपूर्ण थीं क्योंकि इससे उन्हें पिछड़ों से संबंधित मुद्दों को अधिक प्रभावी ढंग से उठाने में मदद मिलेगी।

दोनों ही पार्टियां खुले तौर पर बीजेपी की आलोचना कर रही थीं और उनके कई कैडर की नियुक्ति निगमों और अन्य सरकारी निकायों में करना साफ दिखाता है कि बीजेपी उन्हें खुश रखना चाहती है।

anupriya_patel with modi
anupriya_patel with modi

भाजपा ने 2014 के लोकसभा चुनावों में अपना दल के साथ एक समझौता किया था। अपना दल की नेता और वर्तमान केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने 2014 में चुनावों के दौरान भाजपा के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी का समर्थन किया था और वाराणासी सीट के बारे में कहा था कि वहां पर कुर्मी जाति के लोग नरेन्द्र मोदी का साथ देंगे।

इसी तरह 2017 के यूपी चुनावों में, बीजेपी ने SBSP के साथ एक समझौता किया, जिसमें यूपी की कई पूर्वी सीटों पर अपनी रणनीतिक उपस्थिति दर्ज कराई।

अपना दल के यूपी से दो सांसद थे और 2017 के यूपी चुनाव में उसके नौ उम्मीदवार जीते थे जबकि एसबीएसपी के चार उम्मीदवार बीजेपी के साथ गठबंधन में विधायक बने थे।

रविवार को नौ अपना दल सदस्यों को विभिन्न सरकारी निकायों में समायोजित किया गया। उनमें से दो, राम लखन पटेल और रेखा वर्मा को राज्य मंत्री दर्जा दिया गया है और दो अन्य को राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग का सदस्य नियुक्त किया गया है।

अपना दल के दो धड़े थे एक केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल के नेतृत्व में और दूसरा उसकी मां कृष्णा पटेल के नेतृत्व में। यह हाल ही में अपने दो सांसदों में से एक हरविनाश सिंह के साथ फिर से विभाजित हो गया और इसमें अखिल भारतीय अपना दल के शुभारंभ की घोषणा की गई।

राजभर की पार्टी कथित तौर पर दो लोकसभा सीटों के लिए लॉबिंग कर रही है और ऐसी खबरें हैं कि भाजपा अपनी मांग को समायोजित करेगी।

ओम प्रकाश राजभर के पुत्र अरविंद राजभर सहित SBSP के सदस्यों को लघु उद्योग निगम का प्रमुख बनाया गया है जबकि राणा अजीत सिंह को बीज विकास निगम का प्रमुख बनाया गया है, जो दोनों राज्य मंत्री के बराबर हैं।

भाजपा ने यूपी बीजेपी के उपाध्यक्ष जेपीएस राठौर जैसे कई महत्वपूर्ण पार्टी के हाथों को भी यूपी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का अध्यक्ष नियुक्त किया। राठौर पार्टी के चुनाव प्रबंधन प्रकोष्ठ के सदस्य हैं और अवध क्षेत्र के प्रभारी भी हैं।

COMMENT