विशेष: बंगाल की रसगुल्ला क्रांति ने प्रफुल्ल चंद्र सेन को नहीं बनने दिया था दोबारा मुख्यमंत्री

Views : 2652  |  3 minutes read
Prafulla-Chandra-Sen-Biography

भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री रहे प्रफुल्ल चंद्र सेन की आज 25 सितंबर को 30वीं पुण्यतिथि है। वह वर्ष 1962 से 1967 तक पश्चिम बंगाल प्रांत के मुख्यमंत्री रहे थे। प्रफुल्ल चंद्र सेन को ग्रामीण विकास कार्य और हरिजनोद्धार में योगदान देने की वजह से ‘आरामबाग का गांधी’ के नाम से जाना जाता है।

पश्चिम बंगाल में खुलना जिले में हुआ था जन्म

प्रफुल्ल चंद्र सेन का जन्म 10 अप्रैल, 1897 को पश्चिम बंगाल में खुलना जिले के सेनहाटी गांव में हुआ था। वह बंगाल के प्रमुख कांग्रेसी नेता, गांधी जी के अनुयायी और स्वतंत्रता सेनानी थे। उनका बचपन बिहार में बीता था। उनकी प्रारंभिक शिक्षा भी यहीं पर शुरू हुई और उन्होंने देवघर के आर.मित्रा संस्थान से मैट्रिक की परीक्षा पास की थी। बाद में उन्होंने कलकत्ता के स्कॉटिश चर्च कॉलेज से विज्ञान में स्नातक की डिग्री हासिल की। सेन ने ग्रेजुएट होने के बाद एक लेखा फर्म जॉइन कर ली थी। वह इंग्लैंड से उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहते थे, लेकिन वर्ष 1920 में कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में उन्होंने महात्मा गांधी का भाषण सुना तो इंग्लैंड जाने का विचार ही त्याग दिया था।

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में लिया था भाग

प्रफुल्ल चंद्र सेन के जीवन पर बालगंगाधर तिलक, लाला लाजपत राय और बिपिन चंद्र पाल के विचारों का प्रभाव पड़ा। बाद में वह गांधीजी के संपर्क में आने के बाद उनके अनुयायी बन गए। उन्होंने अंग्रेज़ों के खिलाफ असहयोग आंदोलन में भाग लिया और खादी का खूब प्रचार किया। सेन उदार जीवन शैली के साथ जीवन व्यतीत करते रहे। उन्होंने गांधीजी द्वारा भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान किए गए सभी आंदोलनों में भाग लिया। वह वर्ष 1930 और 1942 के दौरान जेल भी गए। रचनात्मक कार्यों में उनकी बड़ी निष्ठा थी। उन्होंने गांवों के विकास कार्य और हरिजनोद्धार में अहम योगदान दिया। सेन को आरामबाग का गांधी’ कहा जाता था।

रसगुल्ला क्रांति ने प्रफुल्ल चंद्र सेन से छीना था मुख्यमंत्री पद

प्रफुल्ल चंद्र सेन का राजनैतिक सफर वर्ष 1948 से शुरू हुआ। वह डॉ. विधान चंद्र राय के मंत्रिमंडल में मंत्री बने थे। बाद में वर्ष 1962 में विधान चंद्र राय का निधन हो जाने के बाद उन्हें पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री बनाया गया और वह इस पद पर वर्ष 1967 तक रहे। वर्ष 1965 में प्रफुल्ल चंद्र के नेतृत्व में पश्चिम बंगाल सरकार के एक निर्णय ने उनसे सीएम पद छीन लिया। उन्होंने बंगाल में रसगुल्ला बनाने पर बैन लगा दिया था। अचानक लिया गया उनका यह निर्णय बंगाल के रसगुल्ला प्रेमियों और व्यवसायियों के लिए नागवार गुजरा।

दरअसल, सीएम प्रफुल्ल चंद्र सेन ने नवजात शिशुओं और माताओं को प्रचुर मात्रा में दूध उपलब्ध करवाने के लिए यह कदम उठाया था। रसगुल्ले के लिए अधिक मात्रा में दूध की आवश्यकता होती थी, क्योंकि छेने से रसगुल्ले बनते थे। इसलिए उन्होंने इन्हें बैन कर दिया था। राज्य में तब डेयरी उत्पादों की कमी हुआ करती थी। बंगाल रसगुल्ले के लिए काफी प्रसिद्ध रहा है।

रसगुल्लों पर प्रतिबंध के दुष्परिणाम जानते थे प्रफुल्ल चंद्र

पक्के गांधीवादी विचारों वाले प्रफुल्ल चंद्र सेन को रसगुल्लों पर प्रतिबंध के दुष्परिणाम मालूम थ,  फिर भी वह नहीं माने और उन पर बैन लगा दिया। उन्हें इसके परिणामस्वरूप सत्ता गंवानी पड़ी थी। इसे पश्चिम बंगाल के इतिहास में रसगुल्ला क्रांति के तौर पर भी याद किया जाता है। वामपंथी पार्टियों के तरफ से इस प्रतिबंध के विरोध में राज्यभर में विरोध प्रदर्शन हुए। वर्ष 1968 के कांग्रेस का विभाजन हुआ और वह इंदिरा गांधी के साथ नहीं गए। प्रफुल्ल चंद्र सेन ने पुराने नेतृत्व के साथ ही रहने का निश्चय किया। इस प्रकार उनकी राजनैतिक गतिविधियाँ समाप्त हो गईं।

मैडम भीकाजी कामा ने क्रांतिकारियों के साथ मिलकर तैयार किया था झंडे का पहला डिजाइन

प्रफुल्ल चंद्र का निधन

स्वतंत्रता सेनानी और राजनेता प्रफुल्ल चंद्र सेन का निधन वर्ष 1990 में 25 सितंबर को कलकत्ता में हुआ।

COMMENT