बॉलीवुड के एल्विस प्रेस्ली कहे जाते थे शम्मी कपूर, परिवार के खिलाफ़ जाकर की थी शादी

Views : 3188  |  4 minutes read
Shammi-Kapoor-Biography

हिंदी फिल्मों के अभिनेता और निर्देशक रहे शम्मी कपूर की आज 21 अक्टूबर को 89वीं बर्थ एनिवर्सरी है। शम्मी 1950 से 1970 के दशक तक बॉलीवुड में एक बहुत ही लोकप्रिय अभिनेता हुआ करते थे। उन्हें वर्ष 1968 में फिल्म ‘ब्रह्मचारी’ में ​शानदार एक्टिंग के लिए ‘बेस्ट एक्टर’ का फिल्मेफयर अवॉर्ड और वर्ष 1982 में फिल्म ‘विधाता’ के लिए ‘बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर’ का फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला। शम्मी कपूर को बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री का ‘एल्विस प्रेस्ली’ कहा जाता था। ऐसे में जयंती के मौके पर जानते हैं उनके बारे में कुछ ख़ास बातें..

शम्मी कपूर का जीवन परिचय

शम्मी कपूर का जन्म 21 अक्टूबर, 1931 को मुंबई में हुआ था। उनके पिता पृथ्वीराज कपूर बॉलीवुड में मशूहर एक्टर थे। उनके पिता ने उनका बचपन का नाम शमशेर राज कपूर रखा था। शम्मी का जन्म भले ही मुंबई में हुआ हो लेकिन उनके बचपन के कुछ वर्ष पेशावर, पाकिस्तान में पुश्तैनी कपूर हवेली में बिता।

बाद में वह कुछ वक्त कलकत्ता (अब कोलकाता) में बिताया, जहां उनके पिता न्यू थिएटर्स स्टूडियो से जुड़े थे। उनकी कोलकाता में मोंटेसरी शिक्षा हुई। शम्मी बाद में बंबई वापस आ गए और सेंट जोसेफ कॉन्वेंट (वडाला) और फिर डॉन बॉस्को स्कूल में अध्ययन किया। उन्होंने ह्यूजेस रोड में न्यू एरा स्कूल से अपनी मैट्रिक की पढ़ाई पूरी की। यहीं पर उन्होंने रामनारायण रुइया कॉलेज में अध्ययन किया। इस दौरान उनके पिता के पृथ्वी थिएटर्स से जुड़ गए। उन्होंने वर्ष 1948 में बॉलीवुड में बाल कलाकार का रोल किया।

बॉलीवुड में फिल्म ‘जीवन ज्योति’ से किया कॅरियर शुरू

शम्मी कपूर ने बॉलीवुड में अपना कॅरियर बनाया और उनकी पहली फिल्म वर्ष 1953 में महेश कौल द्वारा निर्देशित ‘जीवन ज्योति’ रिलीज हुई। इसमें उनकी नायिका चांद उस्मानी थीं। उनका कैरो और मिस्र की एक्ट्रेस नादिया गमाल के साथ रिश्ता रहा था। वह एक बेली डांसर थी, उनका यह रिश्ता उनके काहिरा वापस जाने के साथ ही टूट गया। इसके बाद शम्मी कपूर ने फिल्म ‘तुमसा नहीं देखा’, ‘दिल देकर देखो’, ‘सिंगापुर’, ‘जंगली’, ‘कॉलेज गर्ल’, ‘प्रोफेसर’, ‘चाइना टाउन’, ‘प्यार किया तो डरना क्या’, ‘कश्मीर की कली’, ‘जानवर’, ‘तीसरी मंजिल’, ‘अंदाज’ और ‘सच्चाई’ जैसी कई फिल्मों में बेहतरीन अभिनय किया है। यही नहीं वह भारत में इंटरनेट में सबसे ज्यादा माहिर एक्टर थे।

गीता बाली से परिवार वालों के खिलाफ की थी शादी

शम्मी ने फेमस एक्ट्रेस गीता बाली से 24 अगस्त, 1955 को शादी की। शादी से पहले दोनों एक—दूसरे को चाहते थे। बाद में दोनों ने एक मंदिर में जाकर शादी कर ली। लेकिन इससे उनके परिवार वाले खुश नहीं थे। बाद में परिवार ने इस रिश्ते को स्वीकार कर लिया। उनके दो बच्चे हुए। गीता को बाद में चेचक हो गया, जिससे उनकी हालत ज्यादा खराब हो गई और 21 जनवरी, 1965 को उनका देहांत हो गया।

इसके बाद उन्होंने दूसरी शादी गुजरात के भावनगर की पुरानी रॉयल फैमिली की नीला देवी से की। इस शादी पर उन्होंने नीला के सामने शर्त रखी की वह कभी मां नहीं बनेंगी और उन्हें पहली पत्नी से हुए बच्चों का ध्यान रखना होगा। इस शर्त को मानने के बाद दोनों की शादी हुई।

शम्मी कपूर का निधन

शम्मी कपूर को गुर्दे की बीमारी थी जिसके कारण 7 अगस्त, 2011 को हॉस्पिटल में भर्ती कराया। उनकी हालत तेजी से बिगड़ी और उन्हें वेंटिलेटर सपॉर्ट दिया गया। बीमारी की हालत में उनका 14 अगस्त 2011 को निधन हो गया।

COMMENT