लगातार तीन शतक लगाने वाले इस कप्तान ने दिलाई थी भारत को क्रिकेट में पहली जीत

Views : 1459  |   3 Minute read
Vijay Hazare

बात उन दिनों की है जब देश में क्रिकेट को आज जितनी लोकप्रियता नहीं मिली थी और क्रिकेट का एक ही रूप प्रचलित था वो था टेस्ट मैच। भारत में क्रिकेट आजाद मिलने से पहले से ही खेला जा रहा है यानि भारतीय क्रिकेट टीम ने अपना पहला टेस्ट मैच 1932 ई. में खेला था, पर उसे जीत के लिए बीस वर्ष का लम्बा इंतजार करना पड़ा। भारत को आजादी के बाद पहली जीत वर्ष 1952 में मिली और इस मैच में भारतीय टीम ने इंग्लैंड को हराया था। भारतीय टीम को जीत दिलाने का श्रेय कप्तान विजय सैमुएल हजारे को जाता है। उनकी कप्तानी में भारत को यही एक मात्र टेस्ट मैच में जीत मिली।

हम इतिहास के अतीत को आज इसलिए याद कर रहे हैं क्योंकि आज विजय हजारे का जन्मदिन है। तो उनसे जुड़ी क्रिकेट की कुछ रोचक जानकारी हम आपको उपलब्धि करवा रहे हैं।

जीवन परिचय और क्रिकेट में उनकी उपलब्धियां

विजय सैमुअल हजारे का जन्म 11 मार्च 1915 को सांगली (महाराष्ट्र) में एक मराठी ईसाई परिवार में हुआ था।

आजादी के बाद भारतीय क्रिकेट टीम के वे पहले कप्तान थे। विजय हजारे ऑलराउंडर के रूप में भारतीय टीम में आए थे। उन्होंने 31 साल की उम्र में डेब्यू किया था। इसके बावजूद उन्होंने कई रिकॉर्ड अपने नाम किए।

पहले क्रिकेटर जिनके नाम दर्ज हुए कई रिकॉर्ड


ऑलराउंडर के तौर पर भारतीय क्रिकेट टीम के लिए विजय हजारे ने कुल 30 टेस्ट मैच खेले। 22 जून 1946 को उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ अपना अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच खेला था। उनके टेस्ट क्रिकेट के सफर में बेहतरीन बल्लेबाजी औसत 47.65 का था और उन्होंने 2,192 रन बनाए।

अपने कॅरियर के दौरान उन्होंने 7 शतक और 9 अर्धशतक लगाए थे। उनका बल्लेबाजी में सर्वोच्च स्कोर 164 रन का रहा। वे पहले भारतीय बल्लेबाज थे जिन्होंने सबसे पहले एक हजार रन बनाए थे।

विजय हजारे भारत के पहले ऐसे बल्लेबाज थे जिन्होंने 1947-48 में ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर एडिलेड टेस्ट मैच की दोनों पारियों में शतक जमाया। वे पहले ऐसे भारतीय बल्लेबाज भी बने जिन्होंने लगातार तीन टेस्ट मैचों में शतक जड़कर एक नया रिकॉर्ड बनाया। विजय हजारे ने 30 टेस्ट मैच में 20 विकेट लिया। इस दौरान उनका गेंदबाजी में सबसे बेहतरीन प्रदर्शन 29 रन देकर 4 विकेट रहा।

घरेलू क्रिकेट में पहला तिहरा शतक लगाया हजारे ने

अगर विजय हजारे के प्रथम श्रेणी क्रिकेट सफर की बात करें तो उन्होंने 238 मैच खेले। इसमें 58.38 की बेहतरीन औसत से 18740 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 60 शतक और 73 अर्धशतक लगा चुके हैं।

अंतर्राष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट में भारत की ओर से पहला तिहरा शतक वीरेंद्र सहवाग के नाम दर्ज है। जो उन्होंने 2004 में पाकिस्तान के खिलाफ मुल्तान में जड़ा था।

लेकिन भारत की ओर से प्रथम श्रेणी में पहला तिहरा शतक विजय हजारे के नाम दर्ज था। विजय हजारे ने 21 जनवरी 1940 को पूना क्लब ग्राउंड पर महाराष्ट्र की ओर से खेलते हुए बड़ौदा के खिलाफ तिहरा शतक लगाया था।

प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 50 शतक जड़ने वाले भी पहले भारतीय खिलाड़ी थे। प्रथम श्रेणी क्रिकेट करियर के 238 मैच में उन्होंने 595 विकेट लिए। इस दौरान उनका सबसे बेहतरीन प्रदर्शन 90 रन देकर 8 विकेट रहा।

कप्तानी में भारत को मिली पहली जीत

विजय हजारे की कप्तानी में 25वां टेस्ट मैच में खेलते हुए 1951-52 में भारतीय टीम ने चेन्नई (मद्रास) में इंग्लैंड के खिलाफ पारी और आठ रन से जीत दर्ज की थी। उन्होंने भारत के लिए 14 मैचों में कप्तानी की।

विजय हजारे ट्रॉफी की शुरूआत

क्रिकेट में दिये गए उल्लेखनीय योगदान को सम्मानित करने के लिए भारतीय क्रिकेट ने विजय हजारे के नाम पर 2002-03 में घरेलू क्रिकेट में वनडे ट्रॉफी की शुरूआत की है। इस टूर्नामेंट में रणजी की सभी टीमें हिस्सा लेती हैं।

हजारे पद्म श्री से सम्मानित

1960 ई. में भारत सरकार की ओर से उन्हें क्रिकेट में योगदान देने के लिए पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया, उनके साथ ही जसु पटेल को भी क्रिकेट में योगदान के लिए पद्म श्री पुरस्कार मिला। ये दोनों ही पद्म श्री से सम्मानित होने वाले पहले क्रिकेट खिलाड़ी थे।

निधन

भारतीय क्रिकेट को अपनी सेवा देने वाले विजय हजारे का 89 वर्ष की उम्र में लंबी बीमारी के बाद 18 दिसंबर, 2004 को उनका निधन हो गया।

COMMENT