बर्थडे स्पेशल: रेसलिंग चैम्पियन बबीता फोगाट राजनीति में नहीं कर पाईं कमाल

04 minutes read
Babita-Phogat

‘दंगल’ फेम गर्ल और अंतर्राष्ट्रीय पहलवान बबीता फोगाट मंगलवार को अपना 30वां जन्मदिन मना रही है। उनका जन्म 20 नवंबर, 1989 को हरियाणा में भिवानी ज़िले के छोटे से गांव बलाली में द्रोणाचार्य पुरस्कार विजेता पहलवान महावीर सिंह फोगाट के घर हुआ। उनकी बड़ी बहन गीता फोगाट और छोटी बहन रितु व संगीता फोगाट हैं। ये सभी बहनें पेशे से अपने पिता की तरह ही पहलवान हैं और रेसलिंग की दुनिया में ‘फोगाट सिस्टर्स’ के नाम से अपनी अलग पहचान रखती है। इनका एक भाई दुष्यंत फोगाट है, वो भी रेसलिंग की दुनिया में नाम कमाने के लिए प्रयासरत है। रेसलिंग चैम्पियन बबीता फोगाट ने हाल में राजनीति की दुनिया में भी कदम रखा, लेकिन वे उसमें फ़ेल हो गईं। ऐसे में जन्मदिन के मौके पर जानते हैं उनके बारे में कुछ खास बातें..

Phogat-Sisters

बेटियों के लिए पिता को सुनने पड़े थे ताने

आज फोगाट सिस्टर्स को भले ही सारी दुनिया जानती है, लेकिन उनका यहां तक ​सफ़र आसान नहीं रहा। बबीता फोगाट के पिता महावीर सिंह फोगाट को अपनी बेटियों को रेसलिंग की दुनिया में उतारने के लिए शुरुआती वर्षों में लोगों के काफ़ी ताने सुनने को मिले थे। लेकिन पहलवान महावीर ने अपनी बेटियों के जरिए ओलिंपिक गेम्स में गोल्ड जीतने का अपना सपना पूरा करने की ठान रखी थीं। उन्होंने दिन-रात मेहनत करके बेटियों को पहलवानी के गुर सिखाए और आज जिस मुकाम पर है वहां तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। हालांकि, ये बात अलग है कि कई नामी इवेट्स में पदक जीतने वाली फोगाट बहनें अभी तक ओलिंपिक में पदक नहीं जीत सकी हैं।

Babita-Phogat

ऐसा रहा है बबीता की रेसलिंग दुनिया का सफ़र

बबीता फोगाट ने अपने रेसलिंग कॅरियर में कॉमनवेल्थ गेम्स, एशियन गेम्स और वर्ल्ड रेसलिंग चैम्पियनशिन में कई मेडल अपने नाम किए हैं। बबीता ने साल 2009 में कॉमनवेल्थ रेसलिंग चैम्पियनशिप की 51 किलो फ्रीस्टाइल कैटेगरी में गोल्ड मेडल जीता था। इसके बाद उन्होंने वर्ष 2010 में कॉमनवेल्थ गेम्स में रजत, कॉमनवेल्थ रेसलिंग चैम्पियनशिप 2011 में गोल्ड, वर्ल्ड रेसलिंग चैम्पियनशिप 2012 में कांस्य, एशियन रेसलिंग चैम्पियनशिप 2013में कांस्य पदक हासिल किया। उन्होंने कॉमनवेल्थ गेम्स 2014 में गोल्ड, एशियन रेसलिंग चैम्पियनशिप 2015 में कांस्य और गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 में 53 किलो कैटेगरी में सिल्वर मेडल जीता। उन्हें साल 2015 में अर्जुन अवॉर्ड से सम्मानित किया जा चुका है।

Babita-Phogat

हरियाणा की दादरी हलके सीट से लड़ा चुनाव

इसी साल अक्टूबर 2019 में बबीता फोगाट ने अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत हाल में हुए हरियाणा विधानसभा चुनाव से की थी। उन्हें बीजेपी ने हरियाणा की दादरी हलके सीट से अपना प्रत्याशी बनाया था, लेकिन बबीता को चुनाव में हार का सामना करना पड़ा। बता दें, बबीता फोगाट खेल कोटे से हरियाणा पुलिस में एसआई पद भर्ती हुई थीं। लेकिन 12 अगस्त, 2019 को पिता महावीर सिंह फोगाट के साथ बबीता ने जननायक जनता पार्टी छोड़कर बीजेपी ज्वाइन कर ली थी। चुनाव लड़ने से पहले उन्होंने एसआई पद से त्यागपत्र दे दिया था। बबीता फोगाट के लिए पीएम मोदी ने भी चुनावी सभा की थी, लेकिन वे चुनाव परिणाम में तीसरे स्थान पर रहीं।

Vivek-Suhag-and-Babita-Phogat
पहलवान विवेक सुहाग से जल्द करेंगी शादी

बबीता फोगाट 1 दिसंबर को अपने मंगेतर पहलवान विवेक सुहाग के साथ परिणय सूत्र में बंधने जा रही है। विवेक भी पेशे से रेसलर हैं और साल 2018 में भारत केसरी रहे हैं। वे झज्जर जिले के मातनहेल के रहने वाले हैं। बबीता की 18 मई 2019 को विवेक सुहाग से सगाई हुई थी। गौरतलब है बबीता फोगाट और उनकी बड़ी बहन गीता फोगाट की ज़िंदग़ी पर आमिर खान स्टारर फिल्म ‘दंगल’ बन चुकी है। फिल्म में बबीता का रोल एक्ट्रेस सान्या मल्होत्रा ने निभाया। जबकि उनके बचपन का किरदार सुहानी भटनागर ने प्ले किया था। कुछ महीने पहले बबीता और विवेक पॉपुलर डासिंग शो ‘नच बलिए-9’ में पार्टनर के रूप में नज़र आ चुके हैं।

COMMENT

Chaltapurza.com, एक ऐसा न्यूज़ पोर्टल जो सबसे पहले, सबसे सटीक की भागमभाग के बीच कुछ अलग पढ़ने का चस्का रखने वालों का पूरा खयाल रखता है। हम देश-विदेश से लेकर राजनीतिक हलचल, कारोबार से लेकर हर खेल तो लाइफस्टाइल, सेहत, रिश्ते, रोचक इतिहास, टेक ज्ञान की सभी हटके खबरों पर पैनी नजर रखने की कोशिश करते हैं। इसके साथ ही आपसे जुड़ी हर बात पर हमारी “चलता ओपिनियन” है तो जिंदगी की कशमकश को समझने के लिए ‘लव यू जिंदगी’ भी कुछ अलग है। हमारी टीम का उद्देश्य आप तक अच्छी और सही खबरें पहुंचाना है। सबसे अच्छी बात यह है कि हमारे इस प्रयास को निरंतर आप लोगों का प्यार मिल रहा है…।

Copyright © 2018 Chalta Purza, All rights Reserved.